पुडुचेरी: बेदी के खिलाफ एसडीए का प्रदर्शन तीन दिनों से जारी

पुडुचेरी, 10 जनवरी (भाषा) पुडुचेरी में कांग्रेस नीत सेक्युलर डेमोक्रेटिक अलायंस (एसडीए) द्वारा उप राज्यपाल किरण बेदी को वापस बुलाने की मांग को लेकर पिछले तीन दिनों से आंदोलन जारी है।

मुख्यमंत्री वी नारायणसामी समेत अन्य नेताओं ने इस प्रदर्शन में हिस्सा लिया और उन्होंने अपने हाथों में ‘बेदी को वापस बुलाने की’ अपील वाली तख्तियां ले रखी थीं।

सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी के मंत्री और विधायक समेत एसडीए से संबद्ध अन्य पार्टियों के नेता और कार्यकर्ता इस प्रदर्शन में हिस्सा ले रहे हैं। हालांकि द्रमुक इसका हिस्सा नहीं है। इस विरोध प्रदर्शन की शुरुआत शुक्रवार से हुई थी। दूसरे दिन शनिवार को नारायणसामी और अन्य प्रदर्शनकारी प्रदर्शन स्थल पर ही सोए थे।

हालांकि अन्नाद्रमुक और भाजपा ने इस प्रदर्शन को ‘ राजनीति से प्रेरित और पिछले साढ़े चार साल में चुनावी वादों को पूरा करने में कांग्रेस सरकार की विफलता को छुपाने का प्रयास करार’ दिया है।

केंद्र ने यहां कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए केंद्रीय सशस्त्र बल और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल के कर्मियों को तैनात किया है।

एसडीए की योजना राज निवास के घेराव की थी लेकिन पुलिस ने इसके लिए अनुमति देने से इनकार कर दिया, जिसके बाद वे इससे एक किलोमीटर दूर मराइमलाई अदिगल सलाई में प्रदर्शन कर रहे हैं।

सत्तारूढ़ एसडीए का आरोप है कि बेदी विभिन्न कल्याणकारी और विकास योजनाओं के प्रस्तावों को मंजूरी देने में विफल रही हैं। इससे पहले भी पार्टी ने इसी तरह का प्रदर्शन फरवरी, 2019 में किया था।

भाषा स्नेहा नरेश

नरेश

Share This

0 Comments

Leave a Comment

पुडुचेरी: बेदी के खिलाफ एसडीए का प्रदर्शन तीन दिनों से जारी

पुडुचेरी, 10 जनवरी (भाषा) पुडुचेरी में कांग्रेस नीत सेक्युलर डेमोक्रेटिक अलायंस (एसडीए) द्वारा उप राज्यपाल किरण बेदी को वापस बुलाने की मांग को लेकर पिछले तीन दिनों से आंदोलन जारी है।

मुख्यमंत्री वी नारायणसामी समेत अन्य नेताओं ने इस प्रदर्शन में हिस्सा लिया और उन्होंने अपने हाथों में ‘बेदी को वापस बुलाने की’ अपील वाली तख्तियां ले रखी थीं।

सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी के मंत्री और विधायक समेत एसडीए से संबद्ध अन्य पार्टियों के नेता और कार्यकर्ता इस प्रदर्शन में हिस्सा ले रहे हैं। हालांकि द्रमुक इसका हिस्सा नहीं है। इस विरोध प्रदर्शन की शुरुआत शुक्रवार से हुई थी। दूसरे दिन शनिवार को नारायणसामी और अन्य प्रदर्शनकारी प्रदर्शन स्थल पर ही सोए थे।

हालांकि अन्नाद्रमुक और भाजपा ने इस प्रदर्शन को ‘ राजनीति से प्रेरित और पिछले साढ़े चार साल में चुनावी वादों को पूरा करने में कांग्रेस सरकार की विफलता को छुपाने का प्रयास करार’ दिया है।

केंद्र ने यहां कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए केंद्रीय सशस्त्र बल और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल के कर्मियों को तैनात किया है।

एसडीए की योजना राज निवास के घेराव की थी लेकिन पुलिस ने इसके लिए अनुमति देने से इनकार कर दिया, जिसके बाद वे इससे एक किलोमीटर दूर मराइमलाई अदिगल सलाई में प्रदर्शन कर रहे हैं।

सत्तारूढ़ एसडीए का आरोप है कि बेदी विभिन्न कल्याणकारी और विकास योजनाओं के प्रस्तावों को मंजूरी देने में विफल रही हैं। इससे पहले भी पार्टी ने इसी तरह का प्रदर्शन फरवरी, 2019 में किया था।

भाषा स्नेहा नरेश

नरेश

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password