Post Office :इस स्कीम में निवेश करके पति-पत्नी कर सकते हैं लाखों की कमाई! जानें डिटेल

नई दिल्ली। आज हर कोई अपने बेहतर भविष्य के लिए निवेश करना चाहता है। इसके लिए बैंक और बीमा कंपनी हमें कई तरह के ऑप्शन भी देती हैं। इन्हीं में से एक है पोस्ट ऑफिस(Post office) । पोस्ट ऑफिस अपने ग्राहकों के लिए कई तरह की खास स्कीम चलाता है। जिसमें निवेश करके आप अपने भविष्य को पुरी तरह से सुरक्षित कर सकते हैं। लेकिन आज हम आपको पोस्ट ऑफिस (Post office) की एक ऐसी स्कीम के बारे में बताएंगे जो खास तौर पर पति-पत्नी के लिए बनाई गई है। इस स्कीम में छोटे से निवेश पर पति-पत्नी हर महीने कमाई कर सकते हैं। तो आइए जानते हैं पोस्ट ऑफिस की इस शानदार स्कीम के बारे में।

पोस्ट ऑफिस मंथली सेविंग्स स्कीम
पोस्ट ऑफिस की इस शानदार स्कीम का नाम है मंथली सेविंग्स स्कीम (Post Office MIS), यह स्कीम खास तौर पर पति-पत्नी के लिए बनाई गई है। इस स्कीम के जरिए पति-पत्नी हर महीने फिक्सड कमाई कर सकते हैं। इस स्कीम में आपको 4950 रुपए तक का लाभ मिलेगा। इस स्कीम की खास बात यह है कि अगर आप ज्वांइट अकाउंट खुलवाते हैं तो आपको दुगना लाभ मिलेगा। इस स्कीम के जरिए पति-पत्नी 59400 रूपए तक की कमाई कर सकते हैं।

क्या है मंथली सेविंग्स स्कीम
मंथली सेंविग्स स्कीम पोस्ट ऑफिस की एक स्कीम है जिसमें आप छोटा सा निवेश करके अपने भविष्य को सुरक्षित कर सकते हैं। इस स्कीम के तहत अगर आप अकाउंट खुलवाना चाहते हैं तो इसे आप, सिंगल और ज्वाइंट दोनों तरह से खुलवा सकते हैं,अगर इस स्कीम में आप सिंगल अकाउंट खुलवा रहे हैं तो इसके लिए आपको कम से कम हजार रुपए का निवेश करना ही होगाा जिसकी अधिकतम सीमा 4.5 लाख रुपये है। वहीं अगर आप इस स्कीम में ज्वांइट अकाउंट खुलवाते हैं तो इसकी अधिकतम सीमा 9 लाख रुपए है।

ये है खासियत
मंथली सेविंग्स स्कीम की खासियत है कि इस स्कीम का लाभ एक साथ दो से तीन लोग भी ले सकते हैं। इस स्कीम में दो लोग मिलकर ज्वाइंट अकाउंट भी खुलवा सकते हैं। यानी पति-पत्नी के लिए यह स्कीम बहुत अच्छी है। इतना ही नहीं अगर आप भविष्य में अपने ज्वाइट अकाउंट को सिंगल अकाउंट में कन्वर्ट करना चाहते हैं तो आपको इसकी भी सुविधा मिलती है।

इस तरह होगी कमाई
इस स्कीम में अगर आप निवेश करते हैं तो आपको 6.6 फीसदी की दर के साथ सालाना ब्याज मिल सकेगा। इसके अलावा इस स्कीम में अपने जीतनी कुल जमा होगी उसके सालाना ब्याज के हिसाब से रिटर्न की कैलकुलेशन की जाती है जिसे हर महीने के हिसाब से 12 हिस्सों में किया जाता है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password