Congress Adivasi Adhikar Yatra : आदिवासियों से साथ छलावा है कांग्रेस की अधिकार यात्रा, बीजेपी मंत्रियों का पलटवार

भोपाल। मध्यप्रदेश में आने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियों को भाजपा औऱ कांग्रेस दोनों ही पार्टियां वोटरों को साधने में लगी हुई है। विस चुनाव में 2 साल का समय बाकी है लेकिन राजनीतिक दल जमीनी स्तर पर जाकर जनता के बीच अपनी पार्टी की उपलब्धियों को गिना रणनीति बनाने में जुटे हुए हैं। कांग्रेस बड़वानी में आदिवासी अधिकार यात्रा के जरिए प्रदेश की आदिवासी सीटों को साधने की कोशिश में है।भाजपा सरकार की योजनाओं और संगठन के कामकाज को लेकर 2 दिन पहले नवनियुक्त मोर्चो के पदाधिकारी, मोर्चा प्रभारी एवं प्रकोष्ठ संयोजकों की बैठक आयोजित की थी। इस दौरान सीएम शिवराज सिंह चौहान और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, संगठन महामंत्री सुहास भगत, संगठन महामंत्री हितेंद्र शर्मा आदि ने पदाधिकारियों बूथ स्तर को मजबूत करने के टिप्स भी दिए थे।

बीजेपी और कांग्रेस के रडार पर आदिवासी वोटर

अब बीजेपी और कांग्रेस के रडार पर आदिवासी वोटर अभी से आ गए हैं। कांग्रेस ने बड़वानी में आदिवासी दिवस का आयोजन कर आदिवासी बहुल इलाकों में अपनी पकड़ मजबूत करने की कोशिश में है तो वहीं बीजेपी कांग्रेस की नाकामियों को बताकर आदिवासियों के मुद्दे पर घेरने में लगी है। मध्य प्रदेश के बड़वानी में आज कांग्रेस (Congress) आदिवासी अधिकार यात्रा निकाल रही है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ (Kamalnath) ने आदिवासियों को संबोधित किया। इस आदिवासी यात्रा के जरिए कांग्रेस आदिवासियों के बीच अपनी पुरानी जड़ें और मजबूत करने का प्रयास कर रही है। कांग्रेस आदिवासियों के उत्पीड़न और उनसे जुड़े मुद्दों को लेकर कांग्रेस बीजेपी सरकार के खिलाफ हल्ला बोल है।

बीजेपी ने कहा-धोखा यात्रा
कांग्रेस की आदिवासी यात्रा को लेकर बीजेपी नेताओं ने कांग्रेस और पूर्व सीएम कमलनाथ पर तंज कसा है। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कांग्रेस पर आदिवासियों के साथ छलावा करने का आरोप लगाया है।वहीं पर्यटन और संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर ने भी कांग्रेस की यात्रा को विपक्ष का राजनीतिक धर्म बताया है।
कांग्रेस इस यात्रा के जरिए आदिवासियों को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने और बीजेपी सरकार की नीति रीति पर जगाने की कोशिश में है।

वहीं कांग्रेस की इस यात्रा को लेकर भाजपा भी हमलावर है। प्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने सोशल मीडिया पर लिखा है कि 70 साल कांग्रेस के शासन में आदिवासियों को सिलेंडर क्यों नहीं दिया गया। यह एक धोखा यात्रा है। बीजेपी के मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर ने लिखा आदिवासी झोपड़े में बिजली का लट्टू क्यों नहीं पहुंचा।70 साल के शासन में आदिवासी को सिलेंडर क्यों नहीं दिया। कांग्रेस यदि आदिवासियों की हितैषी है तो तो भाजपा सरकार की संबल योजना क्यों बंद की गई। सहरिया, बैगा, भारिया महिला पोषण को दी जाने वाली 1000 रुपए की राशि क्यों क्यो की गई।

कांग्रेस ने भाजपा पर किया पलटवार
बीजेपी नेताओं के धोखा यात्रा के जबाव में एमपी कांग्रेस ने भी कमलनाथ सरकार में हुए फैसलों पर वीडियो जारी कर दिया। वीडियो के जरिए आदिवासियों को बताने की कोशिश की है कि 15 महीने में कमलनाथ सरकार ने अपना वादा निभाया. साहूकार के कर्ज से आदिवासियों को मुक्त कराने का फैसला हुआ। आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के लिए कई फैसले हुए. वन ग्राम को राजस्व ग्राम बनाया गया। आदिवासी क्षेत्रों में सोलर बिजली के जरिए घरों को रोशन किया गया। आदिवासी दिवस पर 1 दिन का अवकाश जारी किया गया।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password