Parliament New Rules for Visitors: QR Code और स्मार्ट कार्ड लगेगा

Parliament New Rules for Visitors: लोकसभा की सुरक्षा में चूक के बाद सुरक्षा व्यवस्था में बदलाव, बायोमैट्रिक, QR Code और स्मार्ट कार्ड लगेगा

Parliament New Rules for Visitors
Share This

हाइलाइट 

  • विजिटर्स के लिए बदला एंट्री सिस्टम
  • स्मार्ट कार्ड सबमिट करना होगा
  • 13 दिसंबर के हमले के बाद फैसला

 

Parliament New Rules for Visitors: संसद भवन परिसर में विजिटर्स की एंट्री के लिए नया सिस्टम बनाया गया है। ये बदलाव 31 जनवरी से शुरू हो रहे बजट सत्र से ही लागू हो जाएंगे। यह प्रक्रिया तीन चरणों में होगी। इसके तहत संसद की कार्यवाही देखने के लिए गेस्ट को QR कोड लेना होगा।

संसद में आते समय विजिटर्स को QR कोड का प्रिंट आउट और आधार कार्ड लाना होगा। इसके बाद उसे स्मार्ट कार्ड दिया जाएगा। जिसे टैप कराने और बायोमीट्रिक जांच के बाद ही वह संसद में एंट्री कर सकेगा।

संसद में जाते समय अपना स्मार्ट कार्ड जमा करना होगा, अगर वह ऐसा नहीं करता तो ऑटोमेटिकली ब्लॉक और ब्लैकलिस्ट कर दिया जाएगा। फिर वह दोबारा कभी संसद कैंपस में एंट्री नहीं कर सकेगा।

   ऐसे मिलेगा संसद में विजिटर्स को प्रवेश

संसद में प्रवेश के लिए QR code approval कराना होगा।  मोबाइल पर क्यूआर कोड आएगा।  इसका प्रिंट आउट लाना होगा और साथ में आधार कार्ड भी लाना होगा।

इनकी पड़ताल करने के बाद रिसेप्शन पर बायोमेट्रिक होगा और फोटो ग्राफ लिया जाएगा।  इसके बाद दर्शक को विजिटर्स गैलरी के लिए स्मार्ट कार्ड जारी होगा।

   जारी किया जाएगा स्मार्ट कार्ड

दर्शक दीर्घा में प्रवेश के लिए स्मार्ट कार्ड टैप करना होगा और बायोमेट्रिक जांच होगी, उसके बाद ही बैरियर खुलेगा।  जाते समय दर्शकों को स्मार्ट कार्ड जमा कराना होगा।  अगर कार्ड जमा नहीं कराता है तो उस दर्शक को automatically block blacklist कर दिया जाएगा  और उसकी आगे कभी भी संसद परिसर में एंट्री नहीं होगी।

एक फरवरी को अंतरिम बजट के लिए दर्शक दीर्घा में प्रवेश के लिए 31 जनवरी शाम चार बजे तक आवेदन हो सकता है।  सांसदों से कहा गया कि इस दिन के लिए वे दर्शक दीर्घा के लिए केवल एक ही पास के लिए आवेदन करें।

   13 दिसंबर को संसद में हुआ था स्मोक अटैक

बता दें कि संसद में स्मोक अटैक 13 दिसंबर को हुआ था।  इस दौरान शीतकालीन सत्र चल रहा था।  इसी दौरान सागर शर्मा और मनोरंजन डी शून्यकाल के दौरान सार्वजनिक गैलरी से लोकसभा कक्ष में कूद गए थे।

उन्होंने वहां पीला धुआं फैला दिया और नारे भी लगाए थे।  इसी दौरान सांसदों ने उन्हें पकड़ लिया।  लगभग उसी समय, दो अन्य लोग अमोल शिंदे और नीलम देवी ने संसद परिसर के बाहर “तानाशाही नहीं चलेगी” चिल्लाते हुए भी पीला धुआं छोड़ा था।

इन सभी को गिरफ्तार कर लिया गया था और उन पर आतंकवाद का आरोप लगाया गया था।

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password