अफगानिस्तान में पत्रकारों, सामाजिक कार्यकर्ताओं पर हमलों की खबरें चिंता का विषय : विदेश मंत्रालय

नयी दिल्ली, 14 नवंबर (भाषा) भारत ने अफगानिस्तान में पिछले दिनों पत्रकारों, सामाजिक कार्यकर्ताओं पर हमलों की खबरों पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि ये हमले शांति प्रक्रिया की भावना के विपरीत हैं और इस पर तत्काल रोक लगायी जानी चाहिए ।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने साप्ताहिक प्रेस वार्ता में कहा कि पिछले कुछ सप्ताह में हमें अफगानिस्तान में पत्रकारों, सामाजिक कार्यकर्ताओं पर कई हमलों की खबरें मिली है ।

उन्होंने कहा, ‘‘ पत्रकारों, नागरिक समाज के सदस्यों पर इन लक्षित हमलों का मकसद अभिव्यक्ति की आजादी और शांति एवं स्थिरता से जुड़े महत्वपूर्ण मुद्दों पर अर्थपूर्ण चर्चा को दबाना है और यह गहरी चिंता का विषय है । ’’

उन्होंने कहा कि ये हमले शांति प्रक्रिया की भावना के विपरीत हैं और इस पर तत्काल रोक लगनी चाहिए ।

श्रीवास्तव ने कहा कि अफगानिस्तान के लोग शांतिपूर्ण भविष्य चाहते हैं । तत्काल एवं समग्र संघर्षविराम.. शांतिपूर्ण, समृद्ध और प्रगतिशील अफगानिस्तान की स्थापना के लिये अर्थपूर्ण शांति प्रक्रिया का आधार तैयार करेगा ।

प्रवक्ता ने कहा, ‘‘ शांति की यात्रा में भारत, अफगानिस्तान के लोगों के साथ है । ’’

गौरतलब है कि अफगान सरकार और तालिबान 19 साल से चले आ रहे युद्ध को समाप्त करने के लिए पहली बार सीधे बात कर रहे हैं। दोनों पक्षों के बीच पांच जनवरी को दोहा में वार्ता शुरू हुई थी।

अमेरिका द्वारा फरवरी 2020 में तालिबान के साथ शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए जाने के बाद से भारत उभरती राजनीतिक स्थिति पर करीब से नजर रखे हुए है।

भाषा दीपक

दीपक उमा

उमा

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password