शिया खनिकों की हत्या: पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने अपने ‘‘पड़ोसी’’ पर साम्प्रदायिक हिंसा भड़काने का लगाया आरोप

(सज्जाद हुसैन)

इस्लामाबाद, छह जनवरी (भाषा) पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने 11 कोयला खनिकों की हत्या के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे शिया हजारा समुदाय के सदस्यों से खनिकों के शवों को दफन करने की बुधवार को अपील की ।

उन्होंने प्रदर्शनकारियों से ‘‘बहुत जल्द’’ मुलाकात करने का वादा किया।

पाकिस्तान के दक्षिण-पश्चिमी बलूचिस्तान प्रांत में आतंकवादियों ने अल्पसंख्यक शिया हजारा समुदाय के 11 कोयला खनिकों का अपहरण करने के बाद गोली मारकर उनकी हत्या कर दी।

इस खनिकों को माछ क्षेत्र से अपहृत करने के बाद आतंकवादियों ने नजदीक से गोली मारी। इस्लामिक स्टेट ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है। खनिकों के रिश्तेदारों और समुदाय के सैंकड़ों अन्य लोगों ने इस घटना के खिलाफ रविवार को प्रदर्शन शुरू किया। वे क्वेटा के ‘वेस्टर्न बाइपास’ इलाके में पीड़ितों के शवों के ताबूत रखकर प्रदर्शन कर रहे हैं। उनकी मांग है कि शवों को तभी दफनाया जाएगा, जब प्रधानमंत्री खान उनसे स्वयं मिलकर उन्हें आश्वासन देंगे।

खान ने ट्वीट किया, ‘‘मैं आपके दुख में आपका साझेदार हूं और पीड़ा के समय में आपके साथ खड़ा होने के लिए पहले भी आपके पास आया हूं। मैं श्रद्धांजलि देने और सभी (शोकसंतप्त) परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करने के लिए जल्द ही फिर आऊंगा। मैं अपने लोगों का भरोसा कभी नहीं तोड़ूंगा। कृपया अपने प्रियजन के शवों को सुपुर्द-ए-खाक करें ताकि उनकी आत्मा को शांति मिल सके।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं माछ में नृशंस आतंकवादी हमले में अपने प्रियजन को खोने वाले हजारा समुदाय के परिवारों को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि मैं उनकी पीड़ा समझता हूं और उनकी मांग से वाकिफ हूं। हम भविष्य में इस प्रकार के हमलों को रोकने के लिए कदम उठा रहे हैं और हम जानते हैं कि हमारा पड़ोसी इस साम्प्रदायिक हिंसा को भड़का रहा है।’’

खान ने पाकिस्तान के जहाजरानी मंत्री अली जैदी और विदेश मामलों के अपने सलाहकार जुल्फी बुखारी को प्रदर्शनकारियों से मिलने के लिए भेजा। जैदी और बुखारी दोनों शिया समुदाय से संबंध रखते हैं।

दोनों मंत्रियों और बलूचिस्तान के मुख्यमंत्री जाम कमाल खान ने प्रदर्शनकारियों से मुलाकात की और उनसे प्रदर्शन समाप्त करने की अपील की। उन्होंने उनसे शवों को दफनाने की भी अपील की।

मुख्यमंत्री खान ने कहा, ‘‘वह (प्रधानमंत्री खान) निश्चित ही आएंगे, राष्ट्रपति आएंगे, मंत्री एवं सांसद आएंगे। यदि प्रधानमंत्री आते हैं, तो भी हमें हमारी समस्याएं स्वयं सुलझानी होंगी।’’

पुलिस ने हमलावरों को गिरफ्तार करने के लिए कई स्थानों पर छापा मारा है।

शिया राजनीतिक दल मजलिस वाहदत-ए-मुसलमीन (एमडब्ल्यूएम) ने भी पीड़ितों के प्रति एकजुटता दिखाने के लिए कराची में प्रदर्शन किए।

भाषा सिम्मी उमा

उमा

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password