MP: अब पशुपालक खुद तय करेंगे कि उन्हें बछड़ा चाहिए या बछिया, जानिए उस खास तकनीक के बारे में जिससे होगा ये कमाल

new technology

भोपाल। अगर आप चाहते हैं कि गाय वही बछड़ा दे जो आप चाहते हैं। जैसे- बछड़ा या बछिया तो, अब ऐसा मुमकिन है। दरअसल, राजधानी के केरवा डैम पर मध्य प्रदेश का पहला सीमेन स्टेशन शुरू हो गया है। जहां रोज बैल और भैंसे के 1300 सीमेन के स्ट्रॉ तैयार किए जाएंगे। बतादें कि ये देश का दूसरा सीमेन स्टेशन है। भोपाल से पहले उत्तराखंड के ऋषिकेश में ऐसा ही एक सीमेन स्टेशन स्थित है।

पशुपालक तय कर सकेंगे जेंडर

इस स्टेशन की मदद से अब पशुपालक गाय या भैंस के गर्भवती होने से पहले ही जन्म लेने वाले बछड़ा या बछिया का जेंडर तय कर सकेंगे। यहां ज्यादा दूध देने वाली नस्ल की गाय और भैंसे के सीमेन का क्रोमोसोमल सेपरेशन किया जाता है। इसके बाद सीमेन स्ट्रा तैयार किए जा रहे हैं। इस सीमेन स्टेशन को मप्र पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम की मदद से शुरू किया गया है।

ऐसे किया जाता है रखरखाव

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सीमेन स्टेशन के अफसरों ने बताया कि डेयरी फार्म में डॉक्टर्स गाय की देशी नस्ल की 12 प्रजातियों के बछड़ों का सीमेन जुटाते हैं। सीमेन सेंटर के डॉक्टर और वैज्ञानिकों की टीम 20 डिग्री पर इसे प्रोसेस करती है। फिर, 4 डिग्री तापमान पर मशीनों की मदद से सीमेन से X (एक्स) और Y (वाई) क्रोमोसोम वाले स्पर्म सेल्स को अलग करते हैं। इसे सीमेन स्ट्रा में भरकर एक निश्चित तापमान पर संरक्षित किया जाता है। एक्स क्रोमोसोम वाली स्पर्म सेल्स को 4 से -140 डिग्री तापमान के बीच बायोफ्रीज किया जाता है। इसके बाद सीमेन स्ट्रा को लैब से लिक्विड नाइट्रोजन टैंक में सुरक्षित रखकर जिलों में संचालित पशु चिकित्सालयों और एआई सेंटर्स को सप्लाई कर दी जाती है।

एक स्ट्रॉ की कीमत क्या है?

सीमेन सेंटर के डॉक्टरों ने बताया कि गाय और भैंस की मादा नस्ल की एक सीमेन स्ट्रा में 21 लाख स्पर्म होते हैं। फार्म में एक बुल से सप्लाह में अधिकतम दो बार सीमेन लिया जाएगा। सीमेन का एक स्ट्रा प्रदेश के पशुपालकों को 450 रूपये में दिया जाएगा। जबकी दूसरे राज्यों के लोगों को 950 रूपये में एक स्ट्रो दिया जाएगा। सरकार ने प्रदेश के एससी, एसटी वर्ग के पशुपालको को अपनी गाय या भैंस के लिए मादा प्रजाति की एक सीमेन स्ट्रा को 400 रूपये में देगी। सीमेन स्टेशन ने एक साल में 3 लाख सीमेन स्ट्रा तैयार करने का टारगेट रखा है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password