MP Night Curfew :तेजी से बढ़ रही कोरोना मरीजों की संख्या, नाइट कर्फ्यू पर फैसला ले सकती है सरकार

MP Night Curfew

भोपाल। मध्य प्रदेश में एक बार फिर ने वापसी कर ली है। प्रदेश मेें एक बार फिर कोरोना मरीजों की संख्या में इजाफा​ हो रहा है। एक तरफ ​ज​हां इंदौर में 24 घंटे में 173 और भोपाल में 104 नए मरीज मिले वही प्रदेश में MP Night Curfew  कोरोना के 467 नए केस आए हैं। माना जा रहा है कि अगर ऐसे ही केस मिलते रहे तो 8 मार्च से प्रदेश में MP Night Curfew  नाइट कर्फ्यू का लगना लगभग तैय माना जा रहा है। गौरतलब है कि शुक्रवार की शाम सीएम शिवराज ने संकेत दिए थे, कि अगर भोपाल , इंदौर में कोरोना के मरीज कम नहीं ​हुए तो नाइट कर्फ्यू लगाया जाएगा। प्रदेश में हर दिन कोरोना मरीजों के आंकड़े अब तेजी से बढ़ रहे हैं।

मंत्री विश्वास सारंग ने भी नाइट कर्फ्यू को लेकर ट्वीट कर बताया है कि इंदौर में 6 कोरोना रोगियों में यूके स्टेन का पता चला है। कोरोना के मामलों में वृद्धि जारी रहने पर सरकार इंदौर और भोपाल में कर्फ्यू लगाने पर विचार कर सकती है।

8 मार्च से भोपाल और इंदौर में रात्रि कर्फ्यू लगाया जायेगा
एक दिन पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि भोपाल Madhya Pradesh Night Curfew और इंदौर में कोरोना के प्रकरणों में लगातार वृद्धि हो रही है। मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग पर सख्ती जरूरी है। यदि अगले 3 दिन में कोरोना के प्रकरणों में गिरावट नहीं हुई तो 8 मार्च से भोपाल और इंदौर में रात्रि कर्फ्यू लगाया जायेगा।

कोरोना का लंदन वैरिएंट अधिक घातक
मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि इंदौर में लंदन वैरिएंट से प्रभावित 6 मरीज मिले हैं। लंदन वैरिएंट का संक्रमण अधिक घातक है। इसकी संक्रामक क्षमता तुलनात्मक रूप से अधिक है।

मास्क नहीं लगाने पर होगी कार्रवाई

मुख्यमंत्री चौहान ने दुकानदारों से सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करने, मास्क लगाने और अन्य सावधानियां बरतने की अपील की। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि दुकानदार दुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करें जो दुकानदार बिना मास्क के दुकान पर बैठेंगे या बिना मास्क लगाए व्यक्तियों को सामान देंगे उन पर कार्रवाई की जाएगी। साथ ही सामान्य तौर पर रोको-टोको के लिए भी भोपाल और इंदौर में तत्काल प्रभाव से अभियान आरंभ किया जाए।

महाराष्ट्र से लगे जिलों पर लगातार निगरानी रखें

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि भोपाल, इंदौर, जबलपुर, बैतूल, छिंदवाड़ा, उज्जैन और महाराष्ट्र से लगे जिलों में कोरोना से प्रभावित प्रकरणों की संख्या बढ़ रही है। प्रदेश में किसी भी हालत में स्थिति को बिगड़ने नहीं दिया जाए। महाराष्ट्र से आने वाले यात्रियों के लिए कोरोना निगेटिव की रिपोर्ट लाना अनिवार्य होगा। इसकी जवाबदारी बस ऑपरेटरों की होगी। बस ऑपरेटर रिपोर्ट के आधार पर ही यात्रियों को बस में प्रवेश दें। राज्य की सीमा पर पुख्ता चैकिंग की व्यवस्था की जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए हैं कि महाराष्ट्र सीमा से लगे सभी जिलों पर लगातार निगरानी रखी जाए।

स्कूल, कॉलेजों में जागरूकता पर ध्यान दें

मुख्यमंत्री चौहान ने उच्च शिक्षा, तकनीकी शिक्षा और स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि सभी शासकीय तथा गैर-शासकीय शैक्षणिक संस्थाओं में मास्क का उपयोग अनिवार्य किया जाए। इसके लिए जागरूकता अभियान भी चलाएं।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password