Ujjain News: सीएम की अपील पर उज्जैन में घर पर मनी होली, परिवार के साथ की मौज-मस्ती, देखें वीडियो…

उज्जैन। महाकाल की नगरी उज्जैन में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के आव्हान “मेरी होली मेरे घर” के तहत लोगों ने अपने घर पर ही रहकर होली का त्योहार मनाया। शहर के समाज सेवी लोकेन्द्र सिंह राजपूत ने परिवार के साथ कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए अपने घर पर ही होली मनाई। यहां पूरे शहर में लोगों ने कोरोना महामारी को देखते हुए सेनेटाइजर और मास्क के साथ हर्षोल्लास से होली का त्योहार मनाय।

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में बढ़ते कोरोना वायरस के प्रकोप को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने आव्हान किया था कि मेरी होली मेरे घर मनाई जाए। उज्जैन के लोगों ने सीएम के इस आह्वान का पालन करते हुए अपने-अपने परिवार के साथ ही होली मनाने का संकल्प लिया। रंगों का यह पर्व होली का उत्सव परिवार के संग मनाया गया। साथ ही कोरोना वायरस की गाइड लाइन का पालन करते हुए सबसे पहले अपने हाथों को सैनिटाइज किया और फिर हर्बल गुलाल के साथ मास्क पहनकर सोशल डिस्टेंसिंग रखकर होली का उत्साह बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया।

वहीं उज्जैन में बाबा महाकाल ने भी पुजारियों के साथ जमकर होली खेली। हालांकि कोरोना की सख्ती के चलते यहां भक्तों को मंदिर में जाने की अनुमति नहीं दी गई थी। परंपरा के अनुसार होली के त्योहार की शुरुआत सबसे पहले बाबा महाकाल मंदिर प्रांगण से हुई। बाबा के दर पर धूमधाम से होली मनाई गई। बाबा ने मंदर के पंडे पुजारियों के साथ जमकर रंग उड़ाया। यहां सभी ने बाबा की भक्ति में लीन होकर अबीर गुलाल और फूलों के साथ जमकर होली खेली। रंगों के इस त्योहार पर मंदिर प्रांगण में ऐसा रंग-गुलाल उड़ा कि बाबा रंगों से सराबोर हो गए।

बता दें कि उज्जैन में सभी त्योहारों की शुरुआत महाकाल के दरबार से होती है। वहीं इस बार भी परंपरा अनुसार भस्मारती में बाबा को रंग गुलाल लगाया गया। हालांकि इस बार कोरोना के कारण भक्तों को बाबा के साथ होली खेलने का मौका नहीं मिला। हर साल यहां हजारों की संख्या में देशभर से भक्त बाबा के साथ होली खेलने के लिए जमा होते थे। इस बार बाबा ने भी बिना भक्तों के ही होली मनाई।

उज्जैन में कोरोना के कारण सख्ती…
बता दें कि उज्जैन में कोरोना संक्रमण के कारण काफी सख्ती करना पड़ा है। यहां बीते दिनों से लगातार कोरोना संक्रमितों की संख्या में विस्फोट देखने को मिल रहा है। पिछले दिनों यहां एक दिन में 90 मरीज तक सामने आए हैं। इसी को देखते हुए जिले के कलेक्टर ने यहां कोरोना को लेकर सख्ती कर दी थी। यहां मंदिर में होली के मौके पर भक्तों को दर्शन करने का मौका नहीं मिला। कलेक्टर ने कहा था कि यहां बीते दिनों एक मेडिकल प्रोफेशनल की कोरोना संक्रमण के कारण मौत हो गई थी। इतना ही नहीं स्वास्थ्य कर्मचारी को कोरोना की दोनों वैक्सीन भी लग चुकी थी। इसके बाद भी उसकी मौत हो गई। इसी को देखते हुए प्रशासन ने यहां सख्ती दिखाई थी।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password