Mars Planet Fact: मंगल ग्रह पर 4 अरब साल पहले आई थी भीषण बाढ़, अब रह सकते हैं धरती के ये जीव

नई दिल्ली: धरती के जीव अब मंगल ग्रह (Mars Planet Fact) पर भी रह सकते हैं। वैज्ञानिकों ने यह दावा किया है। वैज्ञानिकों के मुताबिक, धरती के कुछ जीव इस ग्रह पर रह सकते हैं। इतना ही नहीं वैज्ञानिकों को जीवन के सबूत मिलने के साथ ही ये भी पता लगा है कि, अरबों साल पहले यहां भीषण बाढ़ भी आई थी। आइए जानते हैं, आखिर किस आधार पर वैज्ञानिकों ने दावा किया है।

जानकारी के मुताबिक, मंगल ग्रह की भू-मध्य रेखा पर लगभग 4 अरब साल पहले भीषण बाढ़ आई थी। इसका खुलासा एक नए अध्ययन में हुआ है। इससे संकेत मिलता है कि, मंगल पर जीवन संभव है। नासा के क्यूरियोसिटी रोवर द्वारा इकट्ठे किए गए आंकड़ों का आंकलन करने के बाद वैज्ञानिकों ने बाढ़ का पता लगाया है।

बर्फ पिघलने से आई थी बाढ़
नासा ने यह रोवर नवंबर 2011 में लॉन्च किया था। रिसर्च में यह पाया गया है कि, उल्कापिंड के प्रभाव में आकर मंगल ग्रह की बर्फ पिघली और यहां भयानक बाढ़ आ गई। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के मार्स क्यूरियोसिटी रोवर ने बताया, मंगल ग्रह पर सूक्ष्म जीवों के होने के सबूत भी मिले हैं।
सूक्ष्म जीव ही रह सकते हैं मंगल पर
शोधकर्ताओं ने अपनी स्टडी में पाया है कि, ऐसे तो मंगल ग्रह पर रहना मुश्किल है, क्योंकि वहां कम दबाव का वायुमंडल है। वातावरण और मौसम असुरक्षित और तेजी से बदलने वाला है। ऐसी स्थिति में धरती पर रहने वाले जीवों का वहां रहना बेहत मुश्किल है, लेकिन धरती पर मौजूद चार प्रजातियों के माइक्रो-ऑर्गेनिज्म यानी सूक्ष्म जीव वहां रह सकते हैं।

हाल ही में यूनिवर्सिटी ऑफ अरकंसास के शोधकर्ताओं की स्टडी रिपोर्ट ओरिजिंस ऑफ लाइफ एंड इवोल्यूशन ऑफ बायोस्फेयर (Origins of Life and Evolution of Biospheres) जर्नल में प्रकाशित हुई। इसमें बताया गया है धरती पर मौजूद किस तरह के जीव मंगल ग्रह पर रह सकते हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, धरती के जो जीव मंगल पर रह सकते हैं उन्हें मीथैनोजेन्स (Methanogens) कहते हैं। ये बहुत ही प्राचीन सूक्ष्म जीव हैं, जो किसी भी तरह के कम दबाव वाले वातावरण में रहने योग्य होते हैं। इन जीवों को ऑक्सीजन की जरूरत नहीं पड़ती।

धरती पर मीथैनोजेन्स गीली जगहों, समुद्र और जानवरों के पाचन नली में भी पाए जाते हैं। ये मल की जगह मीथेन गैस निकालते हैं।
यूनिवर्सिटी ऑफ अरकंसास के शोधकर्ताओं की लीडर रेबेका मिकोल का कहना है, मंगल ग्रह पर मीथेन गैस मौजूद है। जो कि कई करोड़ साल पहले मौजूद जीवों से निकली है, या फिर आज भी वहां ऐसे जीव हैं, जो मीथेन के जरिए जीवित हैं। ऐसे में हम उम्मीद कर सकते हैं कि धरती के ये मीथैनोजेन्स मंगल ग्रह पर रह सकते हैं।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password