Minister Usha Thakur: प्रदेश की संस्कृति मंत्री ने दिया बयान, बोलीं- पूरी दुनिया में भगवा छाएगा तभी होगी शांति

भोपाल। प्रदेश की संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर लगातार अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में बनी रहती हैं। हाल ही में सेल्फी को लेकर चार्ज लेने वाले बयान को लेकर सुर्खियां बटोरने के बाद अब मंत्री ठाकुर ने एक और बयान दिया है। शिवराज कैबिनेट में मंत्री और महू से विधायक उषा ठाकुर ने अपने बयान में कहा कि पूरे दुनिया में भगवाकरण होना चाहिए। ठाकुर ने कहा कि भगवा शांति का प्रतीक है, भगवाकरण करना यानी त्याग, बलिदान, तपस्या जैसे मूल्यों को प्राथमिकता से मानना है। उन्होंने कहा कि पूरे विश्व में भगवाकरण हो जाए तो ही मानवता में सुख-शांति रह पाएगी। बता दें कि मंत्री ठाकुर लगातार अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में बनी रहती हैं।

हाल ही में उन्होंने एक समारोह के दौरान सेल्फी लेने को लेकर चार्ज लेने की भी बात कही थी। वहीं इससे पहले भी वह कई बयान देकर सुर्खियां बटोर चुकी हैं। इलाहाबाद हाईकोर्ट के बयान को लेकर भी उषा ठाकुर ने बयान दिया था। दरअसल इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक फैसला देते हुए कहा था कि गौमांस खाना किसी का भी मौलिक अधिकार नहीं हो सकता। इस फैसले का मंत्री ठाकुर ने स्वागत किया था। ठाकुर ने कहा था कि जीभ के स्वाद के लिए जीवन का अधिकार नहीं छीना जा सकता। भारत की पहचान गाय से ही है। भारतीय संस्कृति में गायों की पूजा की जाती है।

सेल्फी को लेकर चार्ज की कही थी यह बात
पर्यटन एवं संस्कृति तथा खंडवा जिले की प्रभारी मंत्री ऊषा ठाकुर ने एक अनोखी बात कही है। ठाकुर ने सेल्फी में समय खराब होने की बात करते हुए कहा कि अब हर सेल्फी का सौ रुपए शुल्क लिया जाएगा। दरअसल मंत्री ऊषा ठाकुर बीते दिनों खंडवा के दो दिवसीय दौरे पर थीं। इस दौरान मंत्री ठाकुर जब भाजपा कार्यालय पहुंची तो काफी लोग सेल्फी के लिए इंतजार करते दिखे। इसके बाद ठाकुर ने अपने संबोधन ने इस बात का जिक्र किया था।

ठाकुर ने कहा था कि सेल्फी में वक्त बहुत खराब होता है। सेल्फी लेने में कई घंटे खराब हो जाते हैं और कई जगहों पर समय पर नहीं पहुंच पाते। ठाकुर ने कहा कि संगठनात्मक दृष्टि से यह विचार किया गया है कि हमारी मंडल कार्यकारिणी में जो जितनी सेल्फी लेगा वह 100 रुपये का शुल्क के हिसाब से राशि कोषाध्यक्ष के पास जमा करेगा। ताकि वह राशि संगठन के ही काम में आ सके। साथ ही मंत्री ठाकुर ने कहा कि फूल के बुके की जगह स्वागत में बुक दीजिए। बुक से सम्मान करना फूलों से कहीं अधिक अच्छा है। मंत्री ठाकुर का यह बयान अब इंटरनेट पर चर्चा का विषय बन गया है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password