MIG Fire Aircraft : क्यों विडो मेकर के नाम से बदनाम ये विमान, 2025 तक वायुसेना से हो जाएंगे बाहर ?

MIG -21 Aircraft : क्यों विडो मेकर के नाम से बदनाम ये विमान, 2025 तक वायुसेना से हो जाएंगे बाहर ?

MIG -21 Aircraft: राजस्थान के बाड़मेर में हुए हादसे के बाद से मिग-21  विमान (MIG -21 Aircraft) का नाम चर्चा में आ रहा है जहां पर खबर आ रही है कि, अगले तीन सालों में इन विमानों को वायुसेना से हटाने की तैयारी है। बताते चलें कि, इस विमान से अब तक 200 से ज्यादा हादसे हो गए है।

30 सितंबर तक करेगी रिटायर

आपको बताते चलें कि, भारतीय वायु सेना 30 सितंबर तक मिग-21 बाइसन विमानों वाले श्रीनगर एयरबेस के 51 स्क्वाड्रन को रिटायर कर देगी। यह फैसला फ्लाइट सेफ्टी को सुनिश्चित करने के लिए बेहद अहम माना जा रहा है। जहां पर इसके पीछे हादसों को वजह बनाया जा रहा है। आलम यह होगा कि, 2025 में मिग-21 का बेड़ा खत्म हो जाएगा।

जानें क्यो रहा बदनाम

आपको बताते चलें कि, मिग-21 को लेकर लगातार बदनामी झेलनी पड़ रही है जहां पर करीब 500 फाइटर जेट क्रैश हो चुके हैं तो वहीं पर हादसों में 200 से ज्यादा पायलट्स व 56 आम लोगों को जान गंवानी पड़ी। जिस वजह से  Mig-21 उड़ता ताबूत और विडो मेकर के नाम से भी बदनाम कहा जा रहा है। वही पर इसके कारनामे अच्छे भी है जहां पर यह स्क्वाड्रन फरवरी 2019 में बालाकोट हवाई हमले के बाद हुए पाकिस्तानी अटैक से मशहूर हुआ था।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password