Metaverse Wedding: अब शादी में शामिल हो सकेंगे अनगिनत मेहमान! भारत में होने जा रही है पहली मेटावर्स विवाह

metaverse marriage

Metaverse Wedding: कोरोना संकट की वजह से लाइफस्टाइल में काफी परिवर्तन हुआ है। पूर्व में भी कई बड़ी आपदाओं के कारण सामाजिक, आर्थिक और जीवनशैली में बदलाव देखे गए हैं। देश में कोरोना के चलते शादी-समारोह सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। शादी समारोह में 50 या 100 से अधिक लोगों को शामिल होने की अनुमति नहीं है। हालांकि, जल्द ही इस समस्या से भी छुटकारा मिल सकता है। आइए जानते हैं कैसे पाएंगे छुटकारा…

कहां हो रही है यह शादी?

दरअसल, तमिलनाडू में भारत की पहली मेटावर्स शादी होने जा रही है। इस शादी में अनगिनत मेहमान शामिल हो सकेंगे। ये शादी 6 फरवरी को होगी। अब आपके मन में यह सवाल उठ रहा होगा कि आखिर ये मेटावर्स क्या है? बता दें कि मेटावर्स को आप वर्चुअल रियलिटी के तौर पर समझ सकते हैं। यानी एक ऐसी दुनिया जहां लोगों की मौजूदगी डिजिटल तौर पर रहेगी। लोग डिजिटली एक दूसरे से मिल सकेंगे। आसान भाषा में इसे समझें तो आप में से अधिकतर लोग पौराणिक कथाओं में ‘नाराद’ के किरदार से अवगत होंगे। नारद के बारे में कहा जाता है कि वे पल भर में नारायण के पास तो दूसरे पल में महादेव के समक्ष हाजिर हो जाते थे। समझ लें कि मेटावर्स टेक्नोलॉजी में भी कुछ ऐसा ही होने वाला है।

कई कंपनियां इस तकनीक पर काम कर रही हैं

फेसबुक समेत दुनिया भर की कई टेक्नोलॉजी कंपनियां इस तकनीक पर काम कर रही हैं। खासकर वीडियो गेम कंपनियां तो इस तकनीक को हाथों हाथ ले रही हैं। जानकार भी मान रहे हैं कि यह भविष्य की तकनीक है जो मौजूदा दुनिया को पूरी तरह से वर्चुअल बना देगी।

अन्य डिवाइसों की जरूरत पड़ेगी

बतादें कि अभी तक वर्चुअल वर्ल्ड को आप केवल अपने स्क्रीन पर देखते थे। लेकिन मेटावर्स इससे काफी आगे की चीज है। इस तकनीक के माध्यम से आप एक-दूसरे से आपस में मिल सकेंगे, काम कर सकेंगे और खेल सकेंगे। इसके लिए आपको वर्चुअल रियलिटी हेडसेट्स, ऑगमेंटेड रियलिटी ग्लासेस, स्मार्टफोन ऐप्स और अन्य डिवाइसों की जरूरत पड़ेगी।

पलक झपकते ही सामने होंगी सारी चीजें

इसमें ऑनलाइन लाइफ की अन्य चीजों जैसे शॉपिंग और सोशल मीडिया को भी शामिल किया जा सकता है। वेबसाइट एबीसीन्यूज डॉट गो डॉट कॉम पर टेक्नोलॉजी एक्सपर्ट विक्टोरिया पेट्रोक के हवाले लिखी गई रिपोर्ट में कहा गया है कि यह कनेक्टिविटी के क्षेत्र में काफी आगे की चीज है, जहां सभी चीजें पलक झपकते आपके सामने होंगी। ऐसे में आप जिस तरह से अपना फिजिकल लाइफ जी रहे हैं ठीक उसी तरह वर्चुअल लाइफ भी जी पाएंगे।

इसके फायदे

मेटावर्स की कल्पना एक ऐसी चीज के रूप में की जा रही है जिसमें आप अपने घर बैठे अपनी पसंद की दुनिया या जगह पर पहुंचकर उसका लाइव आनंद ले सकते हैं। अभी तक आप मोबाइल फोन पर वीडियो कॉल कर किसी जगह या अपने पसंद के किसी लाइव शो का आनंद ले सकते हैं, लेकिन मेटावर्स इससे काफी आगे की चीज है। इसमें आप डिजिटल क्लॉथिंग (digital clothing) के जरिए एक वर्जुअल दुनिया में एंट्री कर लेंगे। यानी फिजिकली आप अपने घर में हैं लेकिन आपका दिमाग खास डिजिटल उपकरणों की सहायता से वर्चुअल दुनिया में विचरण करा रहा होगा।

पूरे कंसेप्ट को बदल देगा मेटावर्स

मेटावर्स वर्क फ्रॉम होम जैसी स्थिति के लिए गेम चेंजर हैं। आप कोविड काल में घर से काम करते वक्त अपने साथियों से वीडियो कॉल पर मीटिंग करते हैं। लेकिन मेटावर्स इसके पूरे कंसेप्ट को बदल सकता है। इसमें एक दूसरे को वीडियो कॉल पर देखने की बजाय सभी एक वर्चुअल दुनिया में एक साथ काम कर सकते हैं। वे वहां एक दूसरे को देख सकते हैं।

कौन होस्ट करेगा मेटावर्स शादी?

तमिलनाडु के एक कपल ने दिनेश एसपी और जनगानंदिनी रामास्वामी अगले महीने के पहले रविवार को शिवलिंगपुरम गांव में शादी करेंगे। जिसके बाद वे रिसेप्शन को वर्चुअली होस्ट करेंगे, जो कि देश की पहली मेटावर्स शादी होगी। जिसमें मेहमान वर्चुअली हिस्सा ले सकेंगे। भारत की पहली मेटावर्स शादी को पॉलिगॉन ब्लॉकचेन और TardiVerse मेटवर्स स्टार्टअप होस्ट करेंगे। दिनेश IIT मद्रास में एक प्रोजेक्ट एसोसिएट हैं। जो मेटावर्स शादी का आइडिया पेश किया था। साथ ही उनकी होने वाली पत्नी को भी उनका आइडिया पसंद आया।

कैसे से आया मेटावर्स शादी का आइडिया?

दिनेश क्रिप्टो और ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी में काम कर चुके हैं। और पिछले एक साल से एथेरियम माइनिंग कर रहे हैं। जो क्रिप्टोकुरेंसी का एक रूप है। चूंकि ब्लॉकचैन मेटावर्स की बुनियादी तकनीक है। दिनेश के मुताबिक जब मेरी शादी तय हो गई थी, तो मैंने मेटावर्स में एक रिसेप्शन रखने के बारे में सोचा था। दुल्हन के दिवंगत पिता भी इस शादी में शामिल हो सकेंगे। उनकी तस्वीरों के आधार पर उनका अवतार बनेगा।

हॉगवार्ट के किले पर रखी गई रिसेप्शन की थीम

दूल्हा-दुल्हन हैरी पॉटर के फैन हैं, इसलिए हॉगवार्ट के किले पर रिसेप्शन थीम रखी गई है। कृष्णागिरी के शिवलिंगपुरम में 6 फरवरी को विवाह से लौट कर दोनों लैपटॉप पर पारंपरिक परिधान पहने अवतारों के जरिए रिसेप्शन में आएंगे। रिश्तेदारों को शामिल होने के लिए लिंक व पासवर्ड दिए गए हैं, जिनसे वे अपने अवतार चुनेंगे। सभी अवतार एक दूसरे से मिल और बातचीत कर सकेंगे। गिफ्ट भी वाउचर या गूगल-पे से दिए जाएंगे। लेकिन यहां सबसे अहम, खाना नहीं होगा।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password