May 14 Lord Shri Parashuram Jayanti : हर युग में जन्में हैं श्री परशुराम

14 may

भोपाल। 14 मई यानि शुक्रवार को May 14 Lord Shri Parashuram Jayanti अक्षय तृतीया के साथ—साथ भगवान श्री परशुराम जी का प्रकट उत्सव भी है। भगवान श्री परशुराम महाराज एक मात्र ऐसे गुरू हैं जिन्होंने सभी अध​र्मियों की नाश करके पूरी पृ​थ्वी ब्राहृमणों को दे दी थी। आइए हम आपकों बताते हैं इनसे जुड़ी हुई कुछ रोचक बातें।

हर युग में हैं श्री परशुराम

पंडित सनत कुमार खम्परिया के अनुसार अक्षय तृतीया के दिन दोपहर को 12 बजे भगवान परशुराम का मनाया जाता है। भगवान श्री परशुराम चारों युगों में हैं। सतयुग में भगवान परशुराम उत्पन्न हुए थे। द्वापर युग में भीष्मपितामह को धनुर्विद्या सिखाई थी। कलयुग में भी अश्वथामा के साथ रहे हैं। अधर्मी राजाओं का वध कर पृथ्वी पर धर्म की स्थापना की थी और अंत में पूरी पृथ्वी ब्राहृमणों को दान में दे दी थी। भगवान श्री परशुराम सभी युगों में रहे हैं। भगवान श्री परशुराम अमर हैं।

परशुराम अश्वत्थामा, बलुरव्यासो हनुमान।
सा विभीषण: कृपा बलस्य रामस्यो सप्तैते चिरजीवन:।।

अर्थात अश्वत्थामा, बलि, श्री हनुमान, विभीषन, कृपाचार्य व परशुराम जी अमर हैं।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password