Marriage Loan: जानिए ‘मैरिज लोन’ क्या है और आप इसका लाभ कैसे उठा सकते हैं?

Marriage Loan

Marriage Loan: लोग अपने आवश्यकताओं के अनुसार लोन (Lone) लेते हैं। इसके लिए आपके पास कई विकल्प होते हैं। हर लोन पास होने की अलग प्रक्रिया होती है। कुछ लोन केवल विशिष्ट काम के लिए ही दिए जाते हैं। जैसे- होम लोन, इसे केवल घर खरीदने या घर की मरम्मत कराने के लिए दिया जाता है। वहीं कार लोन कार खरीदने के लिए दिया जाता है, तो एजुकेशन लोन पढ़ाई के लिए मिलता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि शादी के लिए भी मैरेज लोन दिया जाता है। अगर नहीं जानते तो चलिए आज हम आपको इस लोन के बारे में बताते हैं।

शादी को खूबसूरत पल माना जाता है

दरअसल, शादी को जीवन का एक खास पल और बेहद खूबसूरत माना जाता है। लेकिन कई बार शादी को खास बनाने में बजट बिगड़ जाता है। ऐसे में परेशानियों को दूर करने और शादी के लिए जरूरी खर्चों को पूरा करने के लिए कई बैंक और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां आपको मैरिज लोन भी देती हैं। हालांकि इसे काफी हद तक पर्सनल लोन के रूप में ही देखा जाता है। आप बैंक से या तो पर्सनल लोन ले सकते हैं या फिर सीधे-सीधे शादी के लिए लोन का ऑप्शन चुन सकते हैं। इन लोन पर लगने वाले ब्याज की दर भी पर्सनल लोन के समान ही या उससे अधिक होती है।

इसमें इंटरेस्ट के साथ पैसे का भुगतान करना होता है

बता दें, कई बैंक तरह-तरह के प्लान के साथ मैरिज लोन ऑफर करती हैं। आप जिस अंदाज में अपनी शादी करना चाहते हैं, मैरिज लोन के जरिये उसके खर्चों को पूरा कर सकते हैं। हालांकि, इसके बाद आपको तय समय सीमा के मुताबिक इंटरेस्ट के साथ पैसे का भुगतान करना होता है। बैंक आपको मैरिज लोन ईएमआई के आधार पर भी देते हैं। जो आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

लोन के लिए योग्यता

इस लोने के योग्य होने के लिए आपकी आयु 21 वर्ष से 65 वर्ष के बीच होनी चाहिए और आपके पास कमाई का साधन होना चाहिए, चाहे आप नौकरी करते हों या आपका स्वयं का रोज़गार हो। इसके अलावा इनकम स्लैब भी निर्धारित की गयी हैं जो प्रत्येक बैंक में अलग अलग हैं। इसके अलावा यदि आप नौकरी करते हैं तो आवश्यक है कि आप कम से कम दो वर्षों से नौकरी कर रहे हों।

शादी के लिए ज्वाइंट लोन की सुविधा भी उपलब्ध है

बैंक और वित्तीय सेवा कंपनियां विवाह के लिए जॉइंट लोन सुविधाएं भी देती हैं जिसमें मैरिज लोन चुकौती का बोझ भागीदारों के बीच बंट जाता है। विशेष रूप से साझा निर्भरता के साथ, जॉइंट लोन दोनों भागीदारों के क्रेडिट प्रोफाइल को प्रभावित करता है और इसके साथ भागीदारों को आवश्यक रूप से रीपेमेंट समय सीमा पर ईएमआई का प्रबंधन करना होता है। अधिकांश बैंक और NBFC शादी के लोन पर प्रीपेमेंट शुल्क लगाते हैं। यदि कोई व्यक्ति लॉक-इन अवधि पूरी होने से पहले लोन राशि को चुकता करना चाहता है, तो बैंक निर्धारित प्राप्तियों और पेबल्स के रूप में प्रीपेमेंट पेनल्टी के रूप में 5 फीसद चार्ज कर सकते हैं। आम तौर पर छह महीने से एक साल की लॉक-इन अवधि होती है।

इन दस्‍तावेजों की पड़ती है आवश्‍यकता

दस्तावेजीकरण के लिए आपको आय का प्रमाण पत्र, सेलरी स्लिप, बैंक स्टेटमेंट आदि जमा करना होता है। और यदि ऐसा व्यक्ति जो स्वयं की शादी के लिए लोन ले रहा है उसे शादी का निमंत्रण पत्र तथा अन्य व्यवस्थाओं की जानकारी भी देनी पड़ती है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password