सिंहदेव के पत्र से आहत हैं कई विधायक, कांग्रेस में विवाद का माहौल

CHHATTISGARH CONGRESS : सिंहदेव के पत्र से आहत हैं कई विधायक, कांग्रेस में विवाद का माहौल

CHHATTISGARH CONGRESS
CHHATTISGARH CONGRESS : छत्तीसगढ़ में सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी के विधायक दल की बैठक में विधायकों ने मंत्री टीएस सिंहदेव के पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग से इस्तीफे के तरीके पर प्रश्न सवाल खड़ा किया है। राज्य के कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने रविवार को कहा कि विधायक उनके इस्तीफे से आहत हुए हैं।
रायपुर, 17 जुलाई (भाषा) छत्तीसगढ़ में सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी के विधायक दल की बैठक में विधायकों ने मंत्री टीएस सिंहदेव के पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग से इस्तीफे के तरीके पर प्रश्न सवाल खड़ा किया है। राज्य के कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने रविवार को कहा कि विधायक उनके इस्तीफे से आहत हुए हैं। रायपुर स्थित मुख्यमंत्री निवास में कांग्रेस विधायक दल की बैठक करीब दो घंटे चली। बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत में चौबे ने कहा कि अधिकांश विधायकों ने सिंहदेव के त्यागपत्र पर सवाल उठाया है। चौबे ने कहा, ”माननीय महाराज साहब (टीएस सिंहदेव) ने जिस तरीके से पत्र लिखा है, कांग्रेस के अधिकांश विधायकों ने उस पर बड़ा सवाल खड़ा किया है। पत्र में उन्होंने विभाग छोड़ने की जो बात कही है तथा उसमें उन्होंने जिन बिंदुओं का उल्लेख किया है उससे अधिकांश विधायक अपने खुद को आहत महसूस कर रहे हैं।” मंत्री ने बताया, ”कांग्रेस विधायकों ने पार्टी के राज्य प्रभारी पीएल पुनिया के सामने अपनी बात रखी। वह आलाकमान के प्रतिनिधि हैं, वह हाईकमान में अपनी बात कहेंगे। मैं समझता हूं कि कोई सम्मानजनक ​हल निकलेगा।’’ चौबे ने बताया कि बैठक में सोमवार को राष्ट्रपति चुनाव के लिए होने वाले मतदान पर भी विधायकों से चर्चा की गई। गौरतलब है कि राज्य में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता टीएस सिंहदेव ने शनिवार को पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग से इस्तीफा दे दिया था। मंत्री के इस्तीफे के बाद कांग्रेस ने मुख्यमंत्री निवास में विधायक दल की बैठक बुलाई, जिसमें सिंहदेव मौजूद नहीं थे। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने रविवार को बताया कि आज शाम 7.30 बजे के बाद पार्टी के विधायक दल की बैठक शुरू हुई और दो घंटे से अधिक समय तक चली। बैठक में कांग्रेस के 71 विधायकों में से 64 विधायक पहुंचे थे जिनमें मंत्रिमंडल के सदस्य भी शामिल हैं। इससे पहले बैठक में अनुपस्थिति के संबंध में फोन पर सवाल करने पर सिंहदेव ने ‘भाषा’ से बताया कि वह पूर्वनियोजित पारिवारिक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए अपने गृहनगर और विधानसभा क्षेत्र अंबिकापुर में हैं, इसी वजह से विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं हो पाए। हालांकि, उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति चुनाव में वोट डालने के लिए वह सोमवार को रायपुर में होंगे। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री बघेल के साथ कथित मनमुटाव के बाद सिंहदेव ने शनिवार को पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग से इस्तीफा दे दिया था। हालांकि, वह लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, चिकित्सा शिक्षा, बीस सूत्रीय कार्यान्वयन और वाणिज्यिक कर (जीएसटी) विभाग के मंत्री बने रहेंगे। वहीं, मुख्यमंत्री से सिंहदेव के इस्तीफे के कारण राज्य में उत्पन्न नये हालात के संबंध में सवाल करने पर उन्होंने कहा कि उन्हें इसकी जानकारी मीडिया से मिली है और त्यागपत्र मिलने के बाद वह उसपर विचा करेंगे। बघेल ने कहा, ”मुझे मीडिया के माध्यम से जानकारी मिली है। मुझे वह (चार पन्नों का त्याग पत्र) पत्र नहीं मिला है। मिलेगा तब मैं परीक्षण करूंगा। मेरी उनसे चर्चा नहीं हुई है। कल रात में फोन लगाया था। लेकिन बात नहीं हो सकी।” वहीं, 15 जुलाई से राज्य के दौरे पर आए अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के छत्तीसगढ़ प्रभारी पीएल पुनिया ने कहा कि उन्होंने इस मुद्दे पर एआईसीसी महासचिव केसी वेणुगोपाल, मुख्यमंत्री बघेल और सिंहदेव से बात की है। पुनिया ने कहा कि सिंहदेव ने मुख्यमंत्री से उन्हें पंचायत विभाग के प्रभार से मुक्त करने का अनुरोध किया है और बघेल को अनुरोध पत्र मिलने के बाद इस मुद्दे का समाधान किया जाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को भेजे अपने त्यागपत्र में सिंहदेव ने कहा है, ”जन-घोषणा पत्र के विचारधारा के अनुरूप महत्वपूर्ण विषयों को दृष्टिगत रखते हुए, मेरा यह मत है कि विभाग के सभी लक्ष्यों को समर्पण भाव से पूर्ण करने में वर्तमान परिस्थितियों में स्वयं को असमर्थ पा रहा हूं। अतएव पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के भार से मैं अपने आप को पृथक कर रहा हूं। आपने मुझे शेष जिन विभागों की जिम्मेदारी दी है उन्हें अपनी पूर्ण क्षमता और निष्ठा से निभाता रहूंगा।” सिंहदेव के इस्तीफे के बाद रविवार को हो रही कांग्रेस विधायक दल की बैठक को महत्वपूर्ण माना जा रहा है। छत्तीसगढ़ के 90 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के 71, भारतीय जनता पार्टी के 14, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के तीन और बसपा के दो विधायक हैं।
Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password