Mahila Ayog Case : पत्नी बोली, पति करना चाहता है दूसरी शादी, हालत बिगाड़ने के लिए मुझे ​खिलाता है अलग-अलग दवा

mahila ayog case bhopal

भोपाल। वैसे तो आपने कई तरह के अजीब केस सुने होंगे, लेकिन राजधानी भोपाल में एक अलग तरह का केस सामने आया है। इस केस में एक पत्नी ने अपने पति पर ही कई तरह के आरोप लगाए हैं। महिला ने अपने पति पर आरोप लगाते हुए कहा कि उसका पति मानसिक हालात बिगाड़ने और पागल करार देने की कोशिश कर रहा है। पत्नी ने पति के खिलाफ महिला आयोग की अनुभागीय अधिकारी से मामले की शिकायत की है।

दूसरी महिला से शादी करना चाहता है
भोपाल के अशोका गार्डन क्षेत्र मेें रहने वाली एक पत्नी ने महिला आयोग अधिकारियों को बताया कि उसके पति का दूसरी महिला से अफेयर चल रहा है। पति मेरे से पीछा छुडाने के लिए मुझे प्रताड़ित कर रहा है। पति मुझे पागल घोषित करके दूसरी महिला से शादी करना चाहता है।

पूरी तरह स्वस्थ हूं
महिला ने आरोप लगाया कि पति मुझे बार-बार मनोचिकित्सक के पास ले जा रहा है। जबकि मैं पूरी तरह स्वस्थ हूं। महिला ने कहा मैं ना तो पागल हूं और ना ही मुझे कोई मानसिक बीमारी है। पति तलाक लेने के फेरे में है ,लेकिन हमारे तीन बच्चे हैं मैं उसे तलाक कैसे दे दूं। यदि मुझे कुछ हो जाता है तो उसका जिम्मेदार मेरा पति होगा।

चैट से हुआ खुलासा
पति की दूसरी महिला के अफेसर के बार में महिला आयोग अधिकारियों को बताते हुए पत्नी ने दावा कि उसने पति ​का सोशल ​मीडिया पर चैट देखा और चैट में उसने कई बातें भी पढ़ी। महिला ने कहा कि दूसरी औरत के साथ अफेयर का खुलासा सोशल अकाउंट चैट के माध्यम से हुआ। महिला ने बताया उसने अपने पति और दूसरी महिला की सोशल मीडिया पर चैट देखी। महिला ने बताया कि पति दूसरी महिला के इशारे दो बार मुझे मनोचिकित्सक के पास ले गया। पति लंबे समय से मुझे तरह-तरह की दवाई खाने के लिए देता रहा, लेकिन उसने कभी इनका उपयोग नहीं किया।

खत्म ​​हो जाए दूसरी औरत से अफेयर
पत्नी ने बताया कि पूरे रिश्तेदार यहां तक की उसकी सास भी उसके साथ है। इससे पति और भी ज्यादा नाराज है। महिला ने बताया कि जब पति उसको दवाई खिलाने की कोशिश करने लगा तो उसने यह बात अपने भाई को भी बताई। सभी की समझाइश के बाद उसने महिला आयोग में शिकायत दर्ज कराने पर विचार किया। पत्नी ने महिला आयोग अधिकारियों से कहा कि उसके पति की दूसरी औरत से अफेयर खत्म हो ताकि वह अपने परिवार के साथ खुशी जीवन जी सके।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password