महाराष्ट्र : दो दिन में 180 पक्षियों की मौत के बाद लातूर गांव के आसपास अलर्ट जोन घोषित

औरंगाबाद (औरंगाबाद), 10 जनवरी (भाषा) कई राज्यों में बर्डफ्लू की वजह से उत्पन्न भय के माहौल के बीच महाराष्ट्र के लातूर में अहमदपुर इलाके के 10 किलोमीटर के क्षेत्र को ‘अलर्ट जोन’ घोषित किया गया है, जहां पर गत दो दिन में 128 मुर्गियों सहित 180 पक्षी मृत पाए गए हैं।

लातूर के जिलाधिकारी पृथ्वीराज बीपी ने रविवार को बताया कि पक्षियों की मौत की वजह का पता नहीं चला है लेकिन एहतियातन यहां से 265 किलोमीटर दूर केंद्रवाड़ी गांव के आसपास अलर्ट जोन घोषित किया गया है।

लातूर जिला प्रशासन द्वारा जारी विज्ञप्ति के मुताबिक अलर्ट जोन का अभिप्राय है कि उस इलाके में किसी भी वाहन की आवाजाही, पोल्ट्री, पक्षी, पशु, चारा और खाद आदि की ढुलाई प्रतिबंधित रहेगी।

अहमदपुर के तहसीलदार प्रसाद कुलकर्णी ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया, ‘‘शनिवार को गांव में 128 मुर्गियां मृत मिली थीं, जबकि रविवार को 52 पक्षी मरे हुए मिले। सभी नमूनों को पुणे जांच के लिए भेजा गया है और नतीजों का इंतजार है।’’

उन्होंने बताया कि मौके पर पहुंची टीम ने पाया कि जहां पर पक्षियों को रखा गया था वहां कम स्थान पर बहुत अधिक पक्षी थे।

भाषा धीरज दिलीप

दिलीप

Share This

0 Comments

Leave a Comment

महाराष्ट्र : दो दिन में 180 पक्षियों की मौत के बाद लातूर गांव के आसपास अलर्ट जोन घोषित

औरंगाबाद (औरंगाबाद), 10 जनवरी (भाषा) कई राज्यों में बर्डफ्लू की वजह से उत्पन्न भय के माहौल के बीच महाराष्ट्र के लातूर में अहमदपुर इलाके के 10 किलोमीटर के क्षेत्र को ‘अलर्ट जोन’ घोषित किया गया है, जहां पर गत दो दिन में 128 मुर्गियों सहित 180 पक्षी मृत पाए गए हैं।

लातूर के जिलाधिकारी पृथ्वीराज बीपी ने रविवार को बताया कि पक्षियों की मौत की वजह का पता नहीं चला है लेकिन एहतियातन यहां से 265 किलोमीटर दूर केंद्रवाड़ी गांव के आसपास अलर्ट जोन घोषित किया गया है।

लातूर जिला प्रशासन द्वारा जारी विज्ञप्ति के मुताबिक अलर्ट जोन का अभिप्राय है कि उस इलाके में किसी भी वाहन की आवाजाही, पोल्ट्री, पक्षी, पशु, चारा और खाद आदि की ढुलाई प्रतिबंधित रहेगी।

अहमदपुर के तहसीलदार प्रसाद कुलकर्णी ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया, ‘‘शनिवार को गांव में 128 मुर्गियां मृत मिली थीं, जबकि रविवार को 52 पक्षी मरे हुए मिले। सभी नमूनों को पुणे जांच के लिए भेजा गया है और नतीजों का इंतजार है।’’

उन्होंने बताया कि मौके पर पहुंची टीम ने पाया कि जहां पर पक्षियों को रखा गया था वहां कम स्थान पर बहुत अधिक पक्षी थे।

भाषा धीरज दिलीप

दिलीप

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password