Lucknow covid-19: सीएम योगी ने स्कूली बच्चों के प्रति दिखाई सतर्कता,जारी किए दिशा-निर्देश

लखनऊ: राजधानी में लगातार बढ़ते मामलों को देख प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने स्कूली  छात्रों को स्वास्थय सुरक्षा को लेकर अत्यधिक सतर्कता बरतने और उनके और उनके बाच कोविडृ प्रोटोकॉल के प्रति जागरुकता फैलाने के निर्देश दिए, मुख्य अधिकारियों के साथ बैठक के बाद दिशा- निर्देश जारी किए। और कहा कि हमें सबसे ज्यादा  हमें बच्चों के स्वास्थ्य सुरक्षा को लेकर सतर्क रहना होगा।

मुख्य अधिकारिक प्रवक्ता के मुताबिक 

मिली जानकारी के मुताबिक मुख्य अधिकारिक प्रवक्ता ने बताया कि, मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूलों में बच्चों को कोविड प्रोटोकॉल के बारे में आवश्यक रूप से जागरूक किया जाना चाहिए। प्रवाक्ता ने कहा, “पिछले कुछ दिनों से विभिन्न राज्यों में कोविड-19 के मामलों में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। एनसीआर के जिलों में भी इसका प्रभाव है। बीते 24 घंटे में गौतमबुद्ध नगर में 103 और गाजियाबाद में 33 नए मरीज सामने आए हैं।” प्रवक्ता के अनुसार, “मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि एनसीआर के जिलों और लखनऊ में सभी के लिए सार्वजनिक स्थानों पर मास्क लगाने के नियम को प्रभावी ढंग से लागू किया जाए।

वैक्सीनेशन बढ़ाने के दिए निर्देश

लोगों को कोविड प्रोटोकॉल के अनुपालन के लिए जागरूक भी किया जाए।” प्रवाक्ता के मुताबिक, योगी ने कहा कि हमें बच्चों की स्वास्थ्य सुरक्षा को लेकर सतर्क रहना होगा और स्कूलों में छात्रों को कोविड प्रोटोकॉल के बारे में जागरूक किया जाए। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि एनसीआर के जिलों (गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद, हापुड़, मेरठ, बुलंदशहर, बागपत) और लखनऊ में टीकाकरण से बचे लोगों को चिन्हित कर उन्हें टीका लगाया जाए। प्रवक्ता ने बताया कि उत्तर प्रदेश में फिलहाल कुल 856 सक्रिय मामले मौजूद हैं।

24घंटो में कितनी हुई जाँच

बीते 24 घंटे में 1.13 लाख नमूनों की कोरोना जांच की गई, जिसमें 170 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई। इसी अवधि में 110 लोग कोरोना मुक्त भी हुए। उन्होंने बताया कि कोविड टीकाकरण अभियान की प्रगति संतोषप्रद है, लेकिन बच्चों के टीकाकरण को और गति देने की जरूरत है। प्रवक्ता के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में 18 साल से अधिक उम्र की सौ फीसदी आबादी को टीके की कम से कम एक खुराक लग चुकी है, जबकि 86.69 प्रतिशत से अधिक वयस्कों को दोनों खुराक हासिल हो चुकी हैं। उन्होंने बताया कि 15 से 17 साल के आयु वर्ग में 94.26 प्रतिशत किशोरों को पहली खुराक दी जा चुकी है, जबकि 12 से 14 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों को पहली खुराक के बाद पात्रता के अनुसार दूसरी खुराक दी जाएगी।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password