Love at First Site: किसी को पहली नजर में कैसे हो जाता है प्यार, जानिए क्या है इसके पीछे का वैज्ञानिक कारण

Love at First Site: किसी को पहली नजर में कैसे हो जाता है प्यार, जानिए क्या है इसके पीछे का वैज्ञानिक कारण

Love at First Site

Love at First Site: कई लोग मानते हैं कि उन्हें पहली नजर में ही किसी से प्यार हो गया। शायद आपके साथ भी कभी न कभी ऐसा हुआ होगा। आप किसी अपरिचित व्यक्ति से मिले होंगे और उसकी बातें, उसकी हरकतें, अदाएं आपको उससे पहली बार मिलते ही अच्छी लगने लगी होंगी। पहली बार उससे मिलने के बाद आपको ऐसा लगने लगा होगा कि हम दोनों एक दूसरे को न जाने कितने दिनों से जानते हैं। लेकिन क्या आप इसके पीछे के वैज्ञानिक कारणों को जानते हैं? ज्यादातर लोग इस चीज के बारे में नहीं जानते होंगे, तो चलिए आज हम आपको विस्तार से बताते हैं।

कैसे केमिस्ट्री डेवलप हो जाती है

ज्यादातर लोगों को लगता है कि इसके पीछ भावनात्म वजहें हैं। हां ये भी सही है, लेकिन एक शोध में खुलासा हुआ है कि इसके पीछे वैज्ञानिक कारण भी है। (Science Behind Love at First Site) वैज्ञानिकों ने इसको लेकर एक स्टडी की है। इस स्टडी में कई लोगों को ब्लाइंड डेट (Blind Date) पर जाने के लिए कहा गया था। वैज्ञानिक ये जानना चाहते थे कि कैसे पहली बार में ही कुछ लोगों की केमिस्ट्री डेवलप हो जाती है।

यह एक मनोवैज्ञानिक प्रक्रिया है

स्टडी में जो खुलासा हुआ वो काफी दिलचस्प था। शोधकर्ताओं ने पाया कि यह एक मनोवैज्ञानिक प्रक्रिया है। सबसे पहले ये प्रक्रिया शारीरिक लक्षणों से शुरू होती है। पहला लक्षण ये है कि इसमें दो लोगों की धड़कनें एक ही धुन में चलने लगती हैं। इस रिसर्च में 142 लोगों को शामिल किया गया था। जिसे में 18 से 38 साल के लोगों को एक साथ ब्लाइंड डेट पर भेजा गया था। इस दौरान डेटिंग केबिन में आई-ट्रैकिंग ग्लास, हार्ट रेट मॉनिटर्स तथा पसीना जांचने के यंत्र लगे हुए थे।

17 कपल्स को पहले नजर में प्यार हो गया था

इसमें से 17 कपल्स ऐसे सामने आए थे, जिन्हें पहली ही नज़र में प्यार का अहसास हुआ था। इन कपल्स के दिल की धड़कनें एक ही धुन में चल रही थीं। वैज्ञानिकों ने इसे फिजियोलॉजिकल सिंक्रोनी नाम दिया। बता दें कि इसमें आप एक तरह से मूर्छित अवस्था के जैसे बर्ताव करते हैं। आपको पता ही नहीं चलता है कि आप क्या कर रहे होते हैं। जब किसी को पहली नजर का प्यार होता है तो हथेलियों में हल्का-हल्का पसीना आता है। इस रिपोर्ट को Nature Human Behavior नामक जर्नल में प्रकाशित किया गया है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password