Lata Mangeshkar: पतली आवाज के कारण कभी काम देने से मना कर देते थे संगीतकार!, जानिए क्यों स्वर कोकिला ने जीवन भर नहीं की शादी?

Lata Mangeshkar

मुंबई। स्वर कोकिला से मशहूर और भारत रत्न से सम्मानित लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) आज अपना 92वां जन्मदिन मना रही हैं। इस खास मौके पर उन्हें लोग देश और दुनियाभर से शुभकामनाएं दे रहे हैं। लता ताई के नाम कई रिकॉर्ड हैं। उन्होंने 36 भारतीय भाषाओं में गाने रिकॉर्ड कराए हैं। केवल हिंदी भाषा में ही 1 हजार से ज्यादा गीतों में उन्होंने अपनी आवाज दी है। यही कारण है कि उन्हें वर्ष 1989 में दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है। इसके अलावा उन्हें वर्ष 2001 में भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ (Bharat Ratna) से भी सम्मानित किया गया था।

इंदौर, मध्यप्रदेश में हुआ था जन्म

लता मंगेशकर का पूरा नाम “कुमारी लता दीनानाथ मंगेशकर” है उनका जन्म 28 सितम्बर, 1929 में इंदौर, मध्यप्रदेश में हुआ था। उनके पिता दीनानाथ मंगेशकर भी एक कुशल रंगमंचीय गायक थे। यही कारण है कि उन्होंने बचपन से ही लता को संगीत सिखाना शुरू कर दिया था। लकिन ज्यादा दिन तक उन्हें पिता का साथ नहीं मिला वर्ष 1942 में उनका निधन हो गया। इस दौरान लता केवल 13 वर्ष की थीं। घर में सबसे बड़ा होने के कारण घर की जिम्मेदारी उन्हीं के कंधों पर आ गई। ऐसे में नवयुग चित्रपट फिल्म कंपनी के मालिक और उनके पिता के दोस्त मास्टर विनायक (विनायक दामोदर कर्नाटकी) ने इनके परिवार को संभाला और लता मंगेशकर को एक सिंगर और अभिनेत्री बनाने में मदद की।

संगीतकार उन्हें काम देने से मना कर देते थे

हालांकि, स्वरा कोकिला को भी शुरुआत में बॉलीवुड में जगह बनाने के लिए काफी मेहनत करनी पड़ी थी। क्योंकि कई संगीतकारों ने उनकी पतली आवाज के कारण काम देने से मना कर दिया था। लेकिन धीरे-धीरे उन्हें अपने जुनून और प्रतिभा के दम पर काम मिलने लगा और आज वह फिल्मी दुनिया की सबसे मजबूत महिला हैं। इन सभी चीजों को तो ज्यादातर लोग जानते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि उन्होंने शादी क्यों नहीं की? अगर आप नहीं जानते हैं तो आइए आज हम आपको इसके पीछे की वजह बताते हैं।

उनकी प्रेम कहानी पूरी नहीं हो पाई

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, लता मंगेशकर को कभी किसी से प्यार हुआ था। लेकिन उनकी ये प्रेम कहानी कभी पूरी नहीं हो पाई। शायद इसी कारण से उन्होंने कभी शादी नहीं की। रिपोर्ट्स की माने तो लता मंगेशकर को डूंगरपुर राजघराने के महाराजा राज सिंह से प्यार हो गया था। लेकिन ये मोहब्बत कभी मुक्कमल नहीं हो पाई। कहा जाता है कि राज ने अपने माता-पिता से वादा किया था कि वो किसी भी आम घर की लड़की को उनके घराने की बहूं नहीं बनाएंगे और यह वादा उन्होंने मरते दम तक निभाया।

लता शादी को लेकर क्या कहती हैं?

हालांकि, लता मंगेशकर शादी को लेकर कहती हैं कि उनके उपर पूरे घर की जिम्मेदारी थी इसीलिए उन्होंने कभी शादी नहीं की। लेकिन दूसरे तरफ लता की तरह राज भी जीवन भर अविवाहित रहे। राज, लता से 6 साल बड़े थे और उन्हें प्यार से मिट्ठू पुकारा करते थे। उनकी जेब में हमेशा एक टेप रिकॉर्डर रहता था जिसमें लता के चुनिंदा गाने होते थे।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password