जानिए कोरोना का नया वेरिएंट B.1.1529, पहले से मौजूद वेरिएंट से कितना खतरनाक है?

Corona B.1

नई दिल्ली। दक्षिण अफ्रीका में कोविड-19 का एक नया वेरिएंट B.1.1529 मिला है। इस वेरिएंट के आने के बाद से दुनिया भर में हड़कंप मच गया है। क्योंकि वैज्ञानिकों ने चेताया है कि नया वैरिएंट वैश्विक स्तर पर तेजी से फैल सकता है। इसके साथ ही वैज्ञानिकों ने यह भी चेतावनी दी है कि नए वैरिएंट से कोविड वैक्सीन बेअसर हो सकती है। आइए विस्तार में जानते हैं इस नए वैरिएंट के बारे में।

इस वैरिएंट में कुल 50 तरह के म्यूटेशंस हैं

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, B.1.1.529 वैरिएंट में कुल मिलाकर 50 तरह के म्यूटेशंस हैं। इनमें 30 तरह के म्यूटेशंस सिर्फ स्पाइक प्रोटीन के हैं। स्पाइक प्रोटीन ही अधिकांश COVID-19 वैक्सीन के लक्ष्य हैं और यही हमारे शरीर में वायरस की पहुंच को रोकता है। शोधकर्ता अभी यह पता लगा रहे हैं कि नया वैरिएंट पहले से मौजूद वैरिएंट से कितना घाटत और संक्रामक है।

डेल्टा वैरिएंट की तुलना में काफी खतरनाक है नया वैरिएंट

बतादें कि डेल्टा वैरिएंट की तुलना में नए वैरिएंट के रिसेप्टर बाइंडिंग डोमेन में भी 10 तरह के म्यूटेशंस पाए गए हैं। वहीं डेल्टा में सिर्फ दो तरह के म्यूटेशंस पाए गए थे। म्यूटेट होने का सीधा सा अर्थ है कि वायरस के जेनेटिक मटेरियल में बदलाव हुआ है। मालूम हो कि डेल्टा प्लस वैरिएंट जो बाद के वैरिएंट से उत्परिवर्तित हुआ, उसकी स्पाइक प्रोटीन पर K417N उत्परिवर्तन की विशेषता रही थी। इस म्यूटेसन की वजह से रोग प्रतिरोधी क्षमता प्रभावित हुई थी।

समय-समय पर कोरोना के नए रूप सामने आते रहते हैं

गौरतलब है कि कोरोना वायरस संक्रमण फैलाने के साथ ही अपना रूप भी बदलते रहता है। समय-समय पर इसके नए रूप सामने आते रहते हैं। कई बार ये काफी घातक होते हैं, तो कई बार ये खुद ही खत्म भी हो जाते हैं। ऐसे में वैज्ञानिक नए वैरिएंट को लेकर अपनी पैनी नजर बनाए हुए हैं। वैज्ञानिक यह भी पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या नया स्वरूप जन स्वास्थ को प्रभावित कर सकता है या नहीं।

इसी सप्ताह हुई है इस वैरिएंट की पहचान

मालूम हो कि नए वैरिएंट की पहचान इसी सप्ताह दक्षिण अफ्रीका में की गई थी। इसके बाद यह तुरंत ही बोत्सवाना सहित आस-पास के देशों में फैल गया है, जहां पूरी तरह से टीकाकरण किए गए लोग भी संक्रमित हो गए हैं। वहीं दक्षिण अफ्रीका में अब तक नए वैरिएंट के 100 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। वहीं हांगकांग में भी इस वैरिएंट के दो मामले सामने आए हैं। जबकि इजरायल में एक मामले की पुष्टि हुई है।

पूरी दुनिया अलर्ट

WHO नए वैरिएंट के आकलन को लेकर आज एक बैठक करने वाला है। जहां यूनानी वर्णमाला से इसे कोई नाम दिया जाए या नहीं ये तय किया जाएगा। बतादें कि दक्षिण अफ्रीका में मिले नए वेरिएंट के बाद पूरी दुनिया है अलर्ट। ब्रिटिश सरकार ने घोषणा की है कि वह शुक्रवार को दोपहर 12 बजे से दक्षिण अफ्रीका और पांच अन्य दक्षिणी अफ्रीकी देशों से उड़ानों पर प्रतिबंध लगा रही है और जो कोई भी हाल में उन देशों से आया है, उसे कोविड-19 संबंधी जांच करा लेनी चाहिए।

भारत ने भी गुरुवार को इन दक्षिण अफ्रीकी देशों के यात्रियों की कड़ी स्क्रीनिंग करने का आह्वान किया है। विदेश मंत्रालय ने कहा है कि हाल ही में ढील दिए गए वीजा प्रतिबंधों और अंतरराष्ट्रीय यात्रा को खोलने के मद्देनजर लापरवाही से इस वैरिएंट के गंभीर स्वास्थ्य परिणाम हो सकते हैं।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password