खरगोन : इंदिरा गांधी को भगवान मानते हैं यहां के आदिवासी, 30 साल से मंदिर में कर रहे हैं पूजा

indira gandhi

खरगोन। हाल ही में हमने देखा कि इंदौर के सर्राफा व्यापारी निर्मल वर्मा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चांदी की मूर्ति बनवाई थी। भारत में नेताओं की मूर्तियां बनाना कोई नई बात नहीं है। ऐसी मूर्तियां देश के चौराहों पर आप देख सकते हैं। लेकिन कुछ नेता ऐसे भी रहे हैं जिनकी पूजा की जाती है। मध्य प्रदेश के खरगोन में एक ऐसा ही इलाका है जहां के आदिवासी पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को भगवान से कम नहीं मानते। उन्हें लगता है कि प्रधानमंत्री रहते हुए इंदिरा गांधी ने जो उनके लिए किया है, वह भगवान ही कर सकते हैं। यही कारण है कि यहां इंदिरा गांधी की प्रतिमा स्थापित कर मंदिर बनाया गया है और उसमें पूजा भी की जाती है।

मंदिर 1987 में बनाया गया था

खरगोन जिले के झिरनिया क्षेत्रे में एक गांव है पड़लिया। यह एक आदिवासी बहुल्य इलाका है, यहां इंदिरा गांधी की आदम कद प्रतिमा है और उस स्थान को मंदिर का रूप दिया गया है। इस मंदिर को 1987 में तत्कालीन कांग्रेस विधायक चिड़ा भाई डावर और गांव वालों ने मिलकर बनवाया था। मंदिर में स्थापित करने के लिए इंदिरा गांधी की प्रतिमा जयपुर से लाई गई थी।

लोग देवी जैसी आस्था रखते हैं

आज वहां के लोग इंदिरा गांधी में देवी जैसी आस्था रखते हैं और उनकी नियमित रूप से पूजा की जाती है। जब भी नया जोड़ा शादी के बाद गांव में आता है तो वह देवी-देवताओं के साथ इंदिरा गांधी का आशीर्वाद लेना नहीं भूलता। दरअसल, आदिवासी मानते हैं जिस भी महिला की आकस्मिक मौत होती है वो सती हो जाती है। कुछ इसी तरह इंदिरा गांधी की भी मृत्यु हुई।

खरगोन के अलावा मध्य प्रदेश के इंदौर में भी इंदिरा गांधी का मंदिर है। यहां भी रोज विधिवत रूप से पूजा-अर्चना की जाती है। साथ ही भंडारे का भी आयोजन किया जाता है। कांग्रेस के बड़े नेता यहां अक्सर दर्शन करने आते हैं। इंदिरा गांधी का यह मंदिर इंदौर के केईएच कंपाउंड व सीआरपी लाइन में है।

यहां भी है मंदिर

मध्यप्रदेश में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का मंदिर है। यहां रोज विधिवत पूजा-अर्चना के साथ ही भंडारे का भी आयोजन होता है। यहां अक्सर कांग्रेस के बड़े नेता दर्शन करने आते हैं। इंदिरा गांधी का यह मंदिर इंदौर के केईएच कंपाउंड व सीआरपी लाइन में है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password