कपूर का पूजा के समय ही नहीं, इन चीजों में भी होता है फायदा! जानिए इसका महत्व

Camphor

नई दिल्ली। हिंदू धर्म में पूजा के समय कपूर का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसका सिर्फ धार्मिक लाभ ही नहीं बल्कि इसका वैज्ञानिक और आयुर्वेदिक महत्व भी है। रोजाना कपूर जलाने से हवा में मौजूद आस-पास के बैक्टीरिया नष्ट हो जाते हैं। करोना के समय भी जानकार कपूर जलाने को कह रहे थे। क्योंकि इससे जीवन में नाकारात्मकात दूर होती है। धार्मिक आधार पर भी माना जाता है कि घर में पैसों से लेकर किसी भी प्रकार की तंगी से निजात पाने के लिए कपूर सबसे कारगर है। आइए आज हम जानते हैं कि कपूर का इस्तमाल हम कहां-कहां कर सकते हैं।

रसोई में कपूर का इस्तेमाल

हर रोज जब आपके घर में सभी लोग खाना खा लें तो पूरी रसोई की साफ-साफाई करने के बाद एक छोटी सी चांदी की कटोरी में कपूर के साथ एक लौंग का जोड़ा डालकर जलाना चाहिए। चांदी की कटोरी न हो तो आप पीतल या स्टील की कटोरी का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। वास्तु के अनुसार ऐसा करने से आपके घर में बरकत बनी रहती हैष और धन संबंधित समस्याओं का अंत होता है। इस उपाय से कर्ज से भी जल्द से जल्द मुक्ति मिलती है।

कपूर से दाम्पत्य जीवन को खुशहाल बनाएं

इसके अलावा दाम्पत्य जीवन को सुखी बनाने के लिए भी आप कपूर का प्रयोग कर सकते हैं। माना जाता है कि दांपत्य जीवन में समस्या को खत्म करने के लिए शयनकक्ष की सफाई करके कपूर जलाना चाहिए। ताकि वहां मौजूद नकारात्मक ऊर्जा दूर हो जाएं और संबंध में मधुरता बनी रहे। इसके अलावा स्त्री को रात में अपने पति के तकिए के नीचे कूपर रख देने चाहिए और सुबह उठकर उस कपूर को बिना किसी को बताएं चुपचाप जला देना चाहिए। इससे दांपत्य जीवन में खुशहाली बनी रहती है।

घी में डुबोकर जलाएं कपूर

रोचाना घर में सुबह-शाम देसी घी में कपूर को डुबोकर जलाने से घर की नकारात्मक ऊर्जा नष्ट हो जाती है और परिवार में सद्भावना बनी रहती है। आप इस धूप को अपने पूरे घर में यानी हर कमरे, हॉल व आंगन में भी दिखाएं। ये उपाय प्रेम भावना बनाए रखने के लिए सहायक माना जाता है। शास्त्रों के अनुसार प्रतिदिन देवी-देवताओं के समक्ष कपूर जलाने से अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है। व देवी देवता हमेशा प्रसन्न रहते हैं व उनकी ही कृपा से आपके घर में सुख-शांति और समृद्धि आती है। यदि घर में किसी प्रकार का वास्तु दोष हो तो कपूर जलाने से उसके प्रभावों से भी मुक्ति प्राप्त होती है। व गृह शांति बनी रहती है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password