कमलनाथ बोले, हमारी सरकार को नोटों के बल से गिराया, सत्ता में आए तो 2 लाख तक का कर्जा करेंगे माफ

भोपाल। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ Kamal Nath  ने आज शिवपुरी जिले की करैरा विधानसभा karera assembly in Shivpuri  के कांग्रेस प्रत्याशी प्रागीलाल जाटव व शिवपुरी जिले की पोहरी विधानसभा के कांग्रेस प्रत्याशी हरीवल्लभ शुक्ला के समर्थन में आयोजित विशाल जनसभाओं को संबोधित करते हुए कहा कि बाबासाहेब आंबेडकर ने संविधान बनाया था और उसमें प्रावधान किया था कि यदि किसी विधायक या सांसद का निधन हो जाता है तो उपचुनाव होंगे लेकिन उन्होंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि सौदेबाजी व बोली के कारण भी उपचुनाव होंगे ,उन्होंने इसका कोई प्रावधान उन्होंने नहीं रखा था।

लोकतंत्र को धन तंत्र में तब्दील कर दिया
आज देश भर में उप चुनाव हो रहे हैं लेकिन मध्यप्रदेश में 28 उपचुनाव में से 25 उपचुनाव किसी के निधन के कारण नहीं हो रहे है बल्कि सौदेबाजी व बोली के कारण यह उपचुनाव हो रहे हैं , कैसा मध्य प्रदेश को कलंकित देशभर में भाजपा ने किया। प्रदेश की राजनीति को भाजपा ने बिकाऊ राजनीति बना दिया। वीरों की माटी ग्वालियर-चंबल को देशभर में बदनाम किया ,इस अनैतिक राजनीति का ऐसा दौर किसी ने कभी नहीं सोचा होगा। चुनाव तो प्रजातंत्र का उत्सव होते हैं लेकिन भाजपा ने इन उपचुनावों को सौदेबाजी का उत्सव बना दिया , लोकतंत्र को धन तंत्र में तब्दील कर दिया।

यहां के लोग यही संदेश देश भर में देंगे
कमलनाथ ने कहा कि ग्वालियर-चंबल की माटी वीरों की भूमि है ,बहादुरों की माटी है ,यहां के सबसे ज्यादा लोग हमारे देश की रक्षा के लिए सीमाओं पर डटे हुए हैं।यहां के लोग सब कुछ बर्दाश्त कर सकते हैं लेकिन ग़द्दारों और बिकाऊओ को बर्दाश्त नहीं कर सकते है , यहां के लोग यही संदेश देश भर में देंगे।

भाजपा सरकार ने विधानसभा में भी स्वीकारी

कमलनाथ ने कहा कि मैं महाराजा नहीं मैं तो सिर्फ़ कमलनाथ हूं ,महाराजाओं को तो आपने आजमा लिया  और पहचान भी लिया। प्रदेश की जनता ने 15 वर्ष बाद अपने वोट से कांग्रेस की सरकार बनाई, लेकिन हमारी 15 माह की सरकार को नोटों से बल से गिरा दिया और नोट की सरकार बना ली गयी। 15 वर्ष बाद भाजपा ने जो प्रदेश हमें सौंपा वो किसानों की आत्महत्या ,महिलाओं पर अत्याचार ,बेरोजगारी ,भ्रष्टाचार में देश में नंबर वन पर था।

हमने 27 लाख किसानों का कर्ज माफ किया

कमलनाथ ने कहा कि  कई चुनौतियां हमारे सामने थी ,कृषि क्षेत्र की चुनौती हमारे सामने थी।किसान का जन्म क़र्ज़ में होता है और किसान की मृत्यु भी कर्ज में होती है। हमने क्रांति लाते हुए कर्ज माफी की शुरुआत की , पहली बार इतिहास में हमने डिफाल्टर के साथ-साथ चालू खाते वालों का भी कर्ज माफ किया। हमने 27 लाख किसानों का कर्ज माफ किया ,जिसकी सच्चाई भाजपा सरकार ने विधानसभा में भी स्वीकारी।

2 लाख तक का भी कर्जा माफ करेंगे
आज शिवराज और सिंधिया किसान कर्ज माफी को लेकर झूठ बोल रहे हैं , वह यह सच्चाई जान लें कि करैरा के इसी मंच से सिंधिया ने किसान भाइयों को कर्ज माफी के सर्टिफिकेट खुद अपने हाथों से बाँटे थे। हम वादा दिलाते हैं हमारी सरकार वापस बनेगी तो किसानों का 2 लाख तक का भी कर्जा माफ करेंगे।

अत्याचार का शिकार हो रहे
सभा को संबोधित करते हुए नाथ ने कहा कि हमारी सरकार ने किसानों के साथ न्याय किया ,आज धान का भाव देख ले क्या मिल रहा है और 1 वर्ष पुत्र हमारी सरकार में क्या मिल रहा था , यह अंतर देख ले ? आज शिवराज जी झूठ की , घोषणाओं की व कलाकारी की राजनीति कर रहे हैं। खुद को कभी किसान का बेटा बनाते हैं ,कभी मामा बताते हैं और तस्वीर आपके सामने हैं कि आज उनकी सरकार में किसान भाई और भांजियाँ ही सबसे ज़्यादा अत्याचार का शिकार हो रहे है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password