दुनिया के सबसे खूंखार सीरियल किलर की कहानी, जिसे एक-दो बार नहीं बल्कि 19 बार कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई

Night Stalker

नई दिल्ली। दुनियाभर में एक से बढ़कर एक खूंखार सीरियल किलर हुए। मगर एक नाम ऐसा है, जिसका नाम सुनकर रूह कांप जाती है। इस शैतान का नाम है रिचर्ड रेमिरेज (Richard Ramirez)। जिसे दुनिया ‘रात का शिकारी’ (Night Stalker) के नाम भी जानती थी। उस पर 13 हत्या, 5 हत्या के प्रयास, 11 रेप और 14 डकैती के मामले दर्ज किए गए। हालांकि, यह सिर्फ आधिकारिक आंकड़ा है। उसके गुनाह और अपराध करने के तरीके सुनकर अदालत में जज की भी रूह कांप उठी थी। जज ने इस सीरियल किलर को एक या दो बार नहीं बल्कि 19 बार मौत की सजा सुनाई थी।

कैंसर से मरा था क्रूर किलर

जज ने अपने फैसले में कहा था, ‘इसके गुनाह किसी भी मानवीय समझ से परे क्रूरता और शातिरपने की हदों को पार करने वाले हैं।’ बता दें कि अमेरिका के कैलिफोर्निया में जून, 1984 से लेकर अगस्त 1985 तक इस खूंखार अपराधी ने दरिंदगी की सारी हदें पार कर दींथी। 1985 में खौफ का सिलसिला 17 मार्च को ही शुरू हुआ था, जब उसने दो महिलाओं को मार दिया था। 20 नवंबर, 1989 को उसे मौत की सजा सुनाई गई थी। मगर 2013 में वो कैंसर से मर गया।

लाश के पास बैठकर खाना खाता था

रिचर्ड रेमिरेज को हत्या से ज्यादा मरने वाले की आंखों में अपना खौफ देखने में मजा आता था। इसलिए वह हर बार किसी को मारने से पहले अपना खौफ जरूर पैदा करता था। एक महिला को गोली मारने से पहले उसने खिड़की से खींचकर उसे बाहर निकाला और फिर गोली मारी। इसी तरह मैक्सिन जाजारा नाम की महिला की तो वह आंखे अपने साथ निकालकर ले गया। एक 81 साल की बुजुर्ग की उसने हथौड़े से पीट-पीटकर हत्या कर डाली। वह कितना बड़ा दरिंदा था, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वह लाशों के पास बैठकर खाना खाया करता था। हत्या के बाद वह अक्सर घर में रखा सारा सामान खा जाता था।

वह लाश के पैर पर निशान छोड़ जाता था

रिचर्ड रेमिरेज हर बार गुनाह करने के बाद एक खास तरह का निशान छोड़ देता था। इस निशान का मतलब होता है, ‘शैतान जिंदाबाद’। वह अक्सर दीवार पर या फिर लाश के पैर पर यह निशान छोड़ जाता था। इतना ही नहीं वह अपने शिकारों से ‘शैतान जिंदाबाद’ बुलवाता था। रिचर्ड ने हत्याओं के लिए हर तरह के हथियार का इस्तेमाल करता था।उसने बच्चों को भी नहीं बख्शा। कई बच्चों का उसने यौन शोषण किया और उनकी बेरहमी से हत्या की। बाद में उसके हमले से बचे एक छह साल के बच्चे ने उसे पहचानने में पुलिस की मदद की थी।

जूते की वजह से आया पकड़ में

इस हत्यारे ने पूरे कैलिफोर्निया में आतंक मचा रखा था। पुलिस भी उसे नहीं पकड़ पा रही थी। लेकिन एक बार पुलिस को घटना स्थल से एक जूते के निशान मिले, जिससे पता चला कि यह एविया नाम के ब्रांड का जूता है। यह ब्रांड खास तरह के लोगों की पसंद था। हत्यारा 11.5 नंबर का जूता पहनता था। ऐसे पांच जोड़ी जूते एरिजोना में बेचे गए थे और एक लॉस एंजिलिस में। इससे ही किलर की पहचान हो सकी थी।

ऐसे पकड़ा गया खूंखार शिकारी

एक दिन अगस्त, 1985 में रेमिरेज कैलिफोर्निया के एक घर में घुसा। उसने बिल कार्न्स नाम के शख्स के सिर में तीन गोलियां मारी। इसके बाद उसने उसकी मंगेतर इनेज एरिकसन के साथ दुष्कर्म किया और खूब मारा। बाद में उसे बांध दिया। उसने महिला से शैतान जिंदाबाद बुलवाया। लूटपाट के बाद उसने कहा कि लोग पूछें तो कह देना, ‘मैं रात का शिकारी हूं’। बाद में इस महिला की मदद से पुलिस ने उसका स्कैच बनवाया। हालांकि, हत्यारा इस बात से अनजान था कि उसका स्कैच बन चुका है। वह अपने भाई के घर से लॉस एंजिलिस लौटा, तो लोगों ने उसे पहचान लिया। उसने भागने की कोशिश की, लेकिन भीड़ ने उसे पकड़ लिया। पुलिस के आने से पहले लोगों ने उसे जमकर पीटा और बाद में पुलिस के हवाले कर दिया।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password