JANNA JAROORI HAI: पड़ोसी के घर के पालतू कुत्ते से हैं परेशान ? तो ये कानून पहले जान लीजिए… दोनों के आएंगे काम

JANNA JAROORI HAI:पड़ोसी के घर के पालतू कुत्ते से हैं परेशान ? तो ये कानून पहले जान लीजिए… दोनों के आएंगे काम

JANNA JAROORI HAI

JANNA JAROORI HAI: सोशल मीडिया पर पालतू कुत्तों से जुड़े कई वीडियो शेयर किया जा रहा है। कई वीडियो में दिख रहा है कि पालतू कुत्तों (Pet Dogs Owner Rules) की ओर से पड़ोसी पर हमला किया जा रहा है, जबकि एक वीडियो आया था, जिसमें दिख रहा था कि एक पड़ोसी ने कुत्ते पर हमला कर दिया था। अक्सर पालतू कुत्तों और उनके भौंकने की वजह से कई पड़ोसियों में विवाद हो जाता है। वहीं, पड़ोसियों की शिकायत रहती है कि दूसरे घरों के पालतू कुत्तों से उन्हें दिक्कत होती है। लेकिन, क्या आप जानते हैं पालतू कुत्तों को लेकर भी सरकार की ओर से कई नियम (Rules For Pet Dogs Owner) तय किए गए हैं और इन नियमों के हिसाब से आप पालतू कुत्तों को पाल सकते हैं। साथ ही अगर आपका पड़ोसी कुत्ता पाल रहा है तो आपको उन नियमों के हिसाब से बिहेव करना होगा।

ऐसे में जानते हैं कि आखिर पालतू कुत्तों को लेकर क्या नियम हैं और कुत्ते पालने वालों के साथ उनके पड़ोसियों को किन नियमों का पालन करना चाहिए… तो जानते हैं पालतू कुत्तों से जुड़े नियम, जो भारत सरकार की ओर से तय की गई है…

पालतू कुत्ते पालने वालों के लिए ये हैं नियम

बता दें कि एनिमल वेलफेयर बोर्ड ऑफ इंडिया की ओर से पालतू कुत्तों को पालने को लेकर नियम तय किए गए हैं। इस बोर्ड का कहना है कि अगर कोई पालतू जानवर का ऑनर किसी नगरपालिका कानून का उल्लंघन नहीं कर रहा है तो वो आसानी से सोसायटी में रह सकता है और कुत्ते को पाल सकता है। हालांकि, ये भी ध्यान रखना होगा कि आपके कुत्ते पालने से किसी दूसरे व्यक्ति को इससे दिक्कत होनी चाहिए। आपके पालतू जानवर दूसरों के लिए परेशानी का कारण बन सकती है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, भारतीय संविधान के आर्टिकल 51 A (G) के अनुसार, हर नागरिक का यह दायित्व है कि वह जीवित प्राणियों और जानवरों के प्रति दयापूर्ण व्यवहार करें। इसके अलावा जानवरों के प्रति क्रूरता की रोकथाम अधिनियम 1960 की धारा 11 (3) में कहा गया है कि हाउसिंग सोसाइटी के लिए पालतू जानवरों को प्रतिबंधित करने का प्रस्ताव पारित करना अवैध है। यानी कोई भी सोसाएटी पालतू कुत्तों को रखने से मना नहीं कर सकती है। ऐसा भी नहीं है कि कोई आम सभा में बैठकर प्रस्ताव पास कर दिया जाए तो पालतू जानवर पर बैन लगाया जा सकता है। आपको जानवर पालने का पूरा अधिकार है। इसके अलावा एक किराएदार भी फ्लैट में जानवर रख सकते हैं।

भौंकने को लेकर होती है आपत्ति

अक्सर देखने को मिलता है कि कुत्ते के भौंकने को लेकर काफी दिक्कतें होती हैं। ऐसे में नियमों में ये भी साफ किया गया है कि कुत्ते के भौंकने की वजह से पालतू जानवर रखने के लिए मना नहीं किया जा सकता है। आपके लिए यह एक मौलिक अधिकार की तरह है। हालांकि, यह ड्यूटी भी पालतू जानवर मालिक की है कि अगर कुत्ता ज्यादा भौंकता है तो उसका इलाज करवाना जरुरी है और तय समय के बाद उसे अपने घर में रखना जरूरी है।

पड़ोसी कैसे कर सकते हैं शिकायत

कई लोगों के सवाल होते हैं कि उनके पड़ोसी के कुत्ते काफी ज्यादा भौंकते हैं तो इस स्थिति में क्या करना चाहिए। इसके लिए समझाइश की जा सकती है और अगर आप कोर्ट में केस दर्ज करना चाहते हैं तो न्यूसंस के आधार पर ऐसा कर सकते हैं। इसमें वहां के लोकल ध्वनि प्रदूषण आदि के नियम लागू होते हैं। इस तरह के केस में उन मामलों को शामिल किया जाता है, जिसमें आपको किसी व्यक्ति से दिक्कत हो, जिसमें आवाज, बदबू आदि कई तरह की परेशानी शामिल है।

लिफ्ट और पार्क को लेकर क्या है नियम

नियमों के अनुसार, पालतू जानवरों को इमारतों की लिफ्टों का उपयोग करने से मना नहीं किया जा सकता है। कोर्ट के कई फैसले बताते हैं कि कुत्ते एक परिवार का हिस्सा है, इसलिए उन्हें लिफ्ट में ले जाने से नहीं रोका जा सकता है। साथ ही कोई सोसाएटी इसके लिए ज्यादा पैसे नहीं वसूल सकती है। वहीं, सोसाएटी के पार्क में भी पालतू जानवरों को ले जाने से मना नहीं किया जा सकता है।

JANNA JAROORI HAI: Troubled by the pet dog in the neighbor’s house? So know this law first… both will come in handy

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password