Janna Jaroori hai: जानिए 125 साल के उस स्कूल को जहां मुकेश अंबानी और सलमान खान जैसे दिग्गजों ने की है पढ़ाई

Janna Jaroori hai: जानिए 125 साल के उस स्कूल को जहां मुकेश अंबानी और सलमान खान ने की है पढ़ाई

Janna Jaroori hai

Janna Jaroori hai:आपने कभी सोचा कि भारत के सबसे अमीर इंसान ने कहां से पढ़ाई की है।कई बार लगता है कि बड़े-बड़े लोग सिर्फ विदेशों में ही पढ़ते हैं।लेकिन आपको बता दें यह स्कूल भारत में है जहां से न केवल मुकेश अंबानी ने पढ़ाई की है बल्कि सलमान खान अरबाज खान निर्माता-निर्देशक अनुराग कश्यप इत्यादि कई मशहूर व्यक्तियों ने पढ़ाई की है।वहीं यह स्कूल खूबसूरत पहाड़ों के नजदीक है। जिसके कारण यहां से बेहद ही खूबसूरत नजारे देखने को मिलते हैं।आपको जानकर हैरानी होगी कि इस स्कूल में 10 बच्चों बीच एक टीचर नियुक्त किया जाता है।वहीं इस स्कूल में 5 वीं कक्षा से लेकर 12 वीं कक्षा तक की पढ़ाई होती है।आपको बता दें यह स्कूल को सिंधिया ट्रस्ट के माध्यम से चलाया जाता है। इस समय इस ट्रस्ट के  डायरेक्टर केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया हैं।जब इस स्कूल की खोला गया था तब सिर्फ राजा महाराजाओं, बड़े पॉलिटिशियन और बिजनेस मैन के बच्चों को शिक्षित किया जाता था। लेकिन आजादी के बाद यह एक पब्लिक स्कूल बन गया। अब यहां कोई भी विद्यार्थी एडमिशन ले सकता है।आज इस खबर में हम जानेगे इस 125 साल पुराने इस स्कूल के बारे में…Janna Jaroori hai

भारतीय छात्रों के लिए फीस

इस स्कूल का नाम है द सिंधिया स्कूल (The Scindia School) बता दें ग्वालियर के महाराजा माधव राव सिंधिया ने 1897 में इस स्कूल की स्थापना मध्यप्रदेश के ग्वालियर में की थी। 110 एकड़ में फैले इस स्कूल में केवल लड़कों का बोर्डिंग स्कूल है। लेकिन इस स्कूल में पढ़ने के लिए मोटी रकम भरनी है।भारतीय छात्रों के लिए स्कूल फीस की बात करें तो लगभग 12 लाख रुपये है। वहीं, दाखिले के लिए प्रोस्पेक्टस और टेस्ट के लिए जो चार्ज है वो 21,500 रुपये हैं। 12 में से 7,50,000 लाख रुपये बोर्डिंग, लॉजिंग और ट्यूशन फी के हैं जिसे तीन इंस्टॉलमेंट में जमा करना होता है।

1897 में हुई थी स्थापना
दी सिंधिया स्कूल की स्थापना 1897 में ग्वालियर फोर्ट के पास हुई थी। तत्कालीन महाराजा माधवराव सिंधिया ने इस स्कूल की स्थापना में सरदार स्कूल के नाम से की थी। कई दशकों तक राजाओं, सरदारों और जागरीदारों के बेटों को किशोरावस्था में ही अनुशासन और पाबंदी का जीवन इस स्कूल में व्यतीत करना सिखाया जाता रहा है।

बदल गया नाम 
साल 1933 में समिति ने यह निर्णय लिया कि विद्यालय को सार्वजनिक स्वरूप दिया जाए। तब इसका नाम सरदार स्कूल से बदलकर ‘सिंधिया स्कूल’ रखा गया। शहर में लगभग 300 फीट की ऊंचाई पर बसे ग्वालियर दुर्ग के ऐतिहासिक अवशेषों की देखरेख और मरम्मत के बाद उन्हें छात्रावास और विद्यालय परिसर का प्रारूप दिया गया।Janna Jaroori hai
खेलने के लिए 22 मैदान
ग्वालियर शहर के कोलाहल से दूर प्राकृतिक सौंदर्य के मध्य ग्वालियर के ऐतिहासिक दुर्ग पर यह स्कूल स्थिति है। स्कूल का भवन व होटल वास्तुकला के अनुपम उदाहरण हैं। कैंपस में छात्रों के खेलने के लिए 22 मैदान हैं। जिसमें क्रिकेट, लॉन टेनिस, स्वीमिंग पूल, हार्स राइडिंग, बॉक्सिंग से लेकर हर तरह के इंडोर गेम, ओपन थिएटर हैं।Janna Jaroori hai
मुकेश अंबानी और सलमान खान भी रहे छात्र
सिंधिया स्कूल की फीस इतनी महंगी है कि यहां पढ़ने वाले छात्र रईस ही रहे हैं। फिल्म अभिनेता सलमान खान ( Salman Khan ) इस स्कूल में अरबाज खान के साथ 1977 से 1979 तक पढ़े थे। इस दौरान वे दोनों रानोजी हाउस में रहते थे। इस स्कूल ने देश को कई बड़े नेता, सेना के लिए जनरल, उद्योगपति और फिल्म अभिनेता दिए हैं। सूरज बड़जात्या, नितिन मुकेश, अनुराग कश्यप, अली असगर, सुनील भारती मित्तल और मुकेश अंबानी भी यहां पढ़ाई कर चुके हैं।Janna Jaroori hai
Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password