Indian Railway: यह बॉक्स ट्रैक के किनारे क्यों लगाया जाता है? रेलवे इसकी मदद से क्या करता है?

Indian Railway

Indian Railway: ट्रेन से जब आप सफर करते हैं, तो आपको पटरी के किनारे-किनारे एक एल्यूमिनियम बॉक्स जरूर दिखा होगा। इस बॉक्स को देखकर आपके मन में यह सवाल जरूर आया होगा कि आखिर इस बॉक्स का क्या काम है? रेलवे इस बॉक्स में ऐसा क्या रखता है कि इसे थोड़ी-थोड़ी दूरी पर रखना पड़ता है? चलिए आज हम आपको इसकी उपयोगिता बताते हैं।

इसे क्या कहते हैं?

बता दें कि इस बॉक्स का इस्तेमाल रेलवे (Railway) यात्रियों की सुरक्षा के लिए करता है। रेलवे अपनी भाषा में इसे ‘एक्सल काउंटर बॉक्स’ (Axle Counter Box) कहता है। इसे 3 से 5 किलोमीटर की दूरी में लगाया जाता है। इसके अंदर एक स्टोरेज डिवाइस होता है जो सीधे ट्रेन की पटरी से जुड़ा होता है। आइए जानते हैं ये करता क्या है?

Indian Railway
Indian Railway

क्या काम है इसका?

दरअसल, एक्सल काउंटर बॉक्स के नाम से ही साफ है कि ये एक्सल को काउंट करता है। एक्सल ट्रेन के दो पहियों को जोड़कर रखता है और ये डिवाइस उसी को काउंट करता है। रेलवे इस बॉक्स के माध्यम से हर 5 किलोमीटर पर एक्सल की गिनती तरता है। ताकि यह पता लगाया जा सके कि जितने पहियों के साथ ट्रेन स्टेशन से निकली थी, आगे भी उसमें उतने ही हैं या नहीं।

इसलिए इसे 3 से पांच किलोमीटर की दूरी पर लगाया जाता है

मान लिजिए अगर किसी ट्रेन के साथ यात्रा के दौरान कोई हादसा हो जाता है और इसके एक या दो डिब्बे ट्रेन से अलग हो जाते हैं तो यह एक्सल काउंट बॉक्स आसानी से गिनती करके बता देता है कि ट्रेन के कोच कम हैं, जबकि ट्रेन स्टेशन से निकली थी तब इसमें पूरे कोच लगे थे। इस तरह रेलवे को हादसे की जानकारी मिल जाती है। 3 या पांच किलोमीटर की दूर पर इस बॉक्स को इसीलिए लगाया जाता है ताकि एग्जैक्ट कहां से ये डिब्बे अलग हुए हैं उसका भी पता लगाया जा सके।

Indian Railway
Indian Railway

रेलवे को इससे काफी मदद मिलती है

इस बॉक्स के जरिए रेलवे को हादसे के बाद कार्रवाई करने में काफी मदद मिलती है। जैसे ही ट्रेन एक्सल काउंटर बॉक्स के सामने से गुजरती है, उसमें ट्रेन के एक्सल के बारे में सारी जानकारी दर्ज हो जाती है और फिर अगले बॉक्स में भेज दिया जाता है कि इस ट्रेन में कितने एक्सल लगे हैं। अगर एक्सल की संख्या पिछले एक्सल काउंटर बॉक्स से मैच नहीं खाता है तो आगे वाला एक्सल काउंटर बॉक्स ट्रेन के सिग्नल को रेड कर देता है। ऐसे में ड्राइवर ट्रेन को रोक देता है।

Indian Railway
Indian Railway

बॉक्स पटरी पर लगे सेंसर से जुड़ा हुआ होता है

यह बॉक्स एक्सल काउंट के अलावा ट्रेन की गति और दिशा भी बताता है। बॉक्स को पटरी में लगे एक डिवाइस से जोड़ा जता है। इस डिवाइस को आप सेंसर कह सकते हैं। जो ट्रेन के एक्सेल को काउंट करता है और बॉक्स तक उसकी जानकारी पहुंचाता है।

ये भी पढ़े:- Indian Railway: रेलवे में टोकन एक्सचेंज सिस्टम क्या है? जानिए यह कैसे काम करता है

ये भी पढ़े:- Indian Railway: पटरी के किनारे इस बॉक्स को क्यों बनाया जाता है? जानिए इसका खास मकसद

ये भी पढ़े:- Indian Railway: यात्रा के दौरान सामान चोरी हो जाने पर रेलवे देता है मुआवजा ? जानिए क्या है इससे जुड़ा नियम

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password