रेलवे में बेहतर सुविधाओं के लिए निजी निवेश जरूरी, जानें रेलवे के निजीकरण पर क्या बोले पीयूष गोयल

Indian Railway Privatisation: रेलवे प्राइवेटाइजेशन को लेकर पिछले कई दिनों से लोगों के मन में कई सवाल उठ रहे हैं और रेलवे को निजी हाथों में देने का आरोप भी लग रहे हैं। लेकिन रेलमंत्री पीयूष गोयल ने आज इसे लेकर स्पष्ट कर दिया है कि रेलवे को निजी हाथों में कभी नहीं सौंपा जाएगा।

रेलमंत्री पीयूष गोयल ने लोकसभा में कहा कि रेलवे भारत की संपत्ति है और इसका कभी भी निजीकरण नहीं किया जाएगा। इसके साथ ही रेल मंत्री ने ये भी कहा है कि यात्रियों को अच्छी सुविधाएं मिलें, रेलवे के कामकाज को सुचारु बनाने के लिए निजी निवेश को प्रोत्साहित किया जाएगा।

रेलमंत्री ने आगे कहा कि, सड़कें भारत की संपत्ति हैं लेकिन क्या कोई कहता है कि सड़क पर सिर्फ सरकारी गाड़ियां चलेंगी? क्योंकि प्राइवेट और सरकारी वाहन दोनों ही आर्थिक गतिविधि को आगे बढ़ाते हैं। तो क्या रेलवे लाइन पर कोशिश नहीं होनी चाहिए? उसमें निजी निवेश आता है, तो उसका स्वागत होना चाहिए।

आज लोकसभा में वर्ष 2021-22 के लिए रेल मंत्रालय के नियंत्रणाधीन अनुदानों की मांगों पर चर्चा के दौरान रेलमंत्री ने कहा कि देश में यह भ्रम फैलाने की कोशिश की जा रही है कि रेलवे का निजीकरण किया जा रहा है। मैं सभी सांसदों को विश्वास दिलाता हूं कि भारतीय रेल प्राइवेटाइज नहीं होगी और भारत सरकार की ही रहेगी।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password