आयकर विभाग ने बेनामी संपत्ति मामले में वाद्रा से पूछताछ की

नयी दिल्ली, चार जनवरी (भाषा) आयकर विभाग ने बेनामी संपत्ति विरोधी कानून के तहत कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाद्रा के खिलाफ जांच के सिलसिले में सोमवार को उनसे पूछताछ की।

आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी है।

पेशे से कारोबारी 52 वर्षीय वाद्रा ने कहा कि इस पूछताछ का मकसद किसानों के आंदोलन जैसे देश से जुड़े ‘वास्तविक मुद्दों’ से ध्यान भटकाना है। वह कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के पति हैं।

सूत्रों के मुताबिक, वाद्रा को आयकर विभाग के कार्यालय पहुंचकर जांच में शामिल होना था लेकिन उन्होंने कोविड-19 से संबंधित दिशानिर्देशों का हवाला दिया। इसके बाद आयकर अधिकारियों का दल सुखदेव विहार स्थित उनके आधिकारिक परिसर पहुंचा और पूछताछ की।

सूत्रों ने बताया कि आयकर विभाग के दल की ओर से बेनामी संपत्ति लेनदेन (निषेध) कानून के प्रावधानों के तहत करीब आठ घंटों तक वाद्रा से पूछताछ की गई और उनका बयान दर्ज किया गया।

सूत्रों ने जानकारी दी है कि राजस्थान के बीकानेर में वाद्रा से संबंधित एक कंपनी द्वारा कुछ भूखंड खरीदे जाने के संदर्भ में पूछताछ की गई। इसी मामले को लेकर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 2015 में धनशोधन का मामला दर्ज किया था।

प्रवर्तन निदेशालय अतीत में इसको लेकर वाद्रा से पूछताछ कर चुका है तथा उसने 2019 में उनकी कंपनी ‘स्काई लाइट हॉस्पिटैलिटी प्राइवेट लिमिटेड’ की 4.62 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की थी।

सूत्रों ने बताया कि ईडी ने विदेश में कथित तौर पर कुछ अघोषित संपत्ति होने तथा इस मामले से जुड़े दस्तावेज आयकर विभाग को सौंपे थे ताकि बाद में बने बेनामी संपत्ति कानून के तहत कार्रवाई हो सके।

आयकर विभाग के अधिकारियों के दल के जाने के बाद वाद्रा ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘सभी जानते हैं कि यह राजनीतिक प्रतिशोध है। जब कभी प्रियंका (उनकी पत्नी) किसानों की मदद के लिए कदम बढ़ाती हैं और दूसरे मुद्दे उठाती हैं तो फिर वे (एजेंसियां) किसके पास आएंगी?’’

उन्होंने कहा, ‘‘वे रॉबर्ट वाद्रा के पास आएंगी। मैं राजनीतिक मुद्दों में नहीं जाना चाहता, लेकिन वे किसानों के आंदोलन जैसे मुद्दों से ध्यान भटका रहे हैं।’’

वाद्रा ने कहा, ‘‘उन्होंने जो भी सवाल और नोटिस भेजे थे, उनका हमने जवाब दिया। उनका (जांच एजेंसियों) स्वागत है और मैं जवाब देने के लिए तैयार हूं।’’

यह पूछे जाने पर कि क्या आज की पूछताछ बेनामी संपत्ति विरोधी कानून से जुड़ी थी तो उन्होंने कहा, ‘‘यह सामान्य थी और इसमें कुछ भी बेनामी से जुड़ा नहीं है।’’

वाद्रा का कहना था कि आयकर अधिकारियों के सवाल उनकी पिछले पांच-सात वर्षों की गतिविधियों से जुड़े थे।

ब्रिटेन में कथित तौर पर कुछ अघोषित आय रखने के आरोप में भी वाद्रा आयकर विभाग की जांच के दायरे में हैं।

प्रवर्तन निदेशालय भी धनशोधन विरोधी कानून के तहत वाद्रा के खिलाफ इन आरोपों की जांच कर रहा है।

कांग्रेस ने कुछ महीने पहले कहा था कि वाद्रा के खिलाफ राजनीतिक प्रतिशोध की भावना से कार्रवाई की जा रही है।

भाषा हक हक दिलीप

दिलीप

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password