mp board result: 10वीं-12वीं के बाद क्या करें? कि कलेक्टर,एसपी और अन्य अधिकारी बनें आपके बच्चे..

mp board result

जिले का राजा यानी की कलेक्टर यही होता है पूरे जिले का सबसे बड़ा पद। जिन्हें हम District collector, District Magistrate (DM) आदि  नामों से भी जानते हैं।कलेक्टर जिसे हम DM भी कहते है लेकिन ये दोनों पद अलग-अलग है लेकिन दोनों पर एक ही व्यक्ति कार्य करता है जो जिले में भूमि या राजस्व से सम्बंधित कार्य देखता है तो उन्हें कलेक्टर कहते है।mp board result

Mahrana Pratap javelin weight :नीरज चोपड़ा के भाले से कितना ज्यादा था महराणा प्रताप के भाले का वजन?

JANNA JARORRI HAI: काले धब्बे वाले केले में क्या खास बात होती है? जानें इस सवाल का जवाब

क्या होता है इसका काम

जिले का सारा काम इन्ही के ऊपर होता है जिले में कानून व्यवस्था बनाये रखना, उसके लिए जरूरी कदम ऊठाना, जरूरत पड़ने पर कर्फ्यू लगाना, धारा 144 लागू करना, इसके साथ ही जिले में विकास सम्बंधित कार्य करवाना, क्षेत्र में चल रही सभी योजनाओ पर नजर रखना, उनकी निगरानी करना, जिले में कार्य करने वालेmp board result

तहसील दार,नायब तहसील दार,पटवारी,कानूनगो जैसे पद को एक तहसील से दूसरे तहसील में ट्रांसफर करना, उनके सभी कार्यो की जाँच करना, उन्हे अवकाश प्रदान करना, इसके साथ ही किसान को लोन देना, फिर उसके लिए वसूली करना, और भूमि से सम्बंधित विवादों के सुलझाना उन पर फैसला सुनाना, जिले में सरकारी सम्पति का रख रखाव उनकी समय-समय पर मरम्मत करवाना आदि कार्य कलेक्टर के अंतर्गत आते है.

क्षेत्र में किसी बड़े मंत्री के आगमन पर उनकी व्यवस्था देखना,जिले में किसी भी तरह के आपदा आने पर उसके लिए जरूरी कदम उठाना, लोगो को राहत मोहैया करवाना आदि बहुत से कार्य होते है जो जिला कलेक्टर को करने होते है.mp board result

why Diamond city name is panna:जानिए डॉयमंड सिटी पन्ना के नाम के पीछे की हैरान करने वाली कहानी

precedent salary and allowances: भारत के राष्ट्रपति की कितनी है तनख्वाह,जानिए और भी बहुत कुछ

कलेक्टर की सैलरी कितनी होती है?

एक कलेक्टर का वेतन 95,000 से 1,20,000 प्रति माह होती है जो अलग-अलग राज्यों में कम ज्यादा भी हो सकता है इसके साथ ही इन्हें अलग से बहुत से भत्ते और सुविधाए भी मिलते है जैसे इनको रहने के लिए सरकारी आवास दिया जाता है जहाँ पर सब कुश फ्री होता है जैसे बिजली का बिल, कुक, माली, नौकर आदि की सुविधा प्रदान की जाती है, आने-जाने के लिए सरकारी गाड़ी में दी जाती है ड्राईवर और सिक्यूरिटी भी दी जाती है.

biryani history: जानिए विदेश से भारत तक बिरयानीकैसे पहुंची?

KOTA COACHING REAL TRUTH: कोटा की कोचिंग जाने या भेजने से पहले जान लो ये बातें,परेशानियों से बच सकते हो…

कलेक्टर बनने के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए?

कलेक्टर बनाने के लिए उम्मीदवार को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय (University) से किसी भी सब्जेक्ट से ग्रेजुएशन कम्पलीट होना जरूरी होता है, उम्मीदवार का 12th में 50% मार्क होना जरूरी है फिर उसको ग्रेजुएशन के लिए किसी भी सब्जेक्ट से जैसे

  • BA
  • SC
  • COM
  • TECH
  • BCA
  • BBA

आदि में से कोई भी कोर्स कर सकता है और इसके लिए उम्मीदवार की आयु सीमा 21 से 32 साल के बीच होनी चाहिए जिसमे OBC वालो को 3 साल की छूट दी जाती है जो फिर OBC वालो की आयु सीमा (21 से 35) साल हो जाती है, SC/ST वालो को 5 साल की छूट दी जाती है जो की इनकी आयु सीमा (21 से 37) साल होनी चाहिए.

कलेक्टर बनाने के लिए UPSC (Civil Service Exam) देना होता है.

online coaching vs offline coaching:ऑनलाइन कोचिंग करें या फिर ऑफलाइन,जानिए कौन है बेहतर..

MP Best Engineering College: एमपी के सबसे बढ़िया TOP इंजीनियरिंग कॉलेज

कलेक्टर की भर्ती प्रकिया क्या है?

इसकी भर्ती में सबसे पहले प्रारंभिक परीक्षा फिर मुख्य परीक्षा और इंटरव्यू लिया जाता है प्रारंभिक परीक्षा में दो पेपर होते है पहला पेपर General Studies, इसमें 200 नंबर के 100 प्रश्न पूछे जाते है सभी बहुविकल्पीय होते है जिसका समय 2 घंटे का होता है.

दूसरा होता है Civil Services Aptitude Test का, जो की Qualifying पेपर जो की मैरिट लिस्ट में नहीं जोड़े जाते है इसमें 200 नंबर के 80 प्रश्न, बहुविकल्पीय जो की 2 घंटे का टाइम होता है

General Studies में

  • विज्ञान
  • पर्यावरण और परिस्थितिकी
  • सामयिकी
  • अर्धशास्त्र
  • सरकारी नीतियां और पहलू
  • संस्थान
  • अंतराष्ट्रीय संबंध
  • राजनीति
  • भूगोल
  • आधुनिक इतिहास
  • मध्यकालीन इतिहास
  • कला और संस्कृति
  • आजादी के बाद का इतिहास

आदि से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते है

Civil Services Aptitude Test में

  • गणित (अंकगणित, बीजगणित, रेखागणित और सांख्यिकी)
  • अंग्रेजी
  • सामान्य बौद्धिक योग्यता
  • Logical and analytical ability
  • Decision making and problem solving
  • Comprehensive

आदि से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते है.

mp board result: 10वीं-12वीं के बाद क्या करें? कि कलेक्टर,एसपी और अन्य अधिकारी बनें आपके बच्चे..

SMARTPHONE HARMS: जानिए आंखों के साथ किन और अंगों पर नकारात्मक प्रभाव डाल रहा है आपका स्मार्टफोन

जिसके बाद मुख्य परीक्षा होती है जिसमे 9 पेपर होते है और प्रत्येक पेपर 3 घंटे का होता है जो लैंग्वेज के दो पेपर होते है जिसमें-

  1. Language (2 पेपर)
  2. Essay
  3. General studies 1
  4. General studies 2
  5. General studies 3
  6. General studies 4
  7. Optional Paper – Paper 1
  8. Optional Paper- Paper 2

Language (2 पेपर) में अंग्रेजी का पेपर अनिवार्य होता है जो 300-300 नंबर का होता है और टाइम 3 घंटे का होता है

इसके बाद Essay 300, 3 घंटे का होता है

Essay

  • साहित्य और संस्कृति
  • सामाजिक क्षेत्र
  • राजनैतिक क्षेत्र
  • विज्ञान
  • पर्यावरण और प्रौद्योगिकी
  • आर्थिक क्षेत्र
  • कृषि उद्योग एवं व्यापार
  • राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय घटनाक्रम
  • प्राकृतिक आपदायें
  • राष्ट्रीय विकास योजना और परियोजना

आदि से सम्बंधित essay लिखना होता है

General studies 1

General studies 2

General studies 3

के एग्जाम होते है जो की 250-250 नंबर के होते है जो की टाइम 3-3 घंटे का होता है

जिनमें

  • भारतीय इतिहास (प्राचीन, मध्यकालीन और आधुनिक)
  • भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन और भारतीय संस्कृति
  • विश्व भुगोल
  • भारतीय भुगोल और प्राकृतिक संसाधन
  • राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर घटित वर्तमान घटनाएं
  • भारतीय कृषि
  • भारतीय राजनीति
  • भारतीय अर्थव्यवस्था
  • सामान्य विज्ञान
  • जीवन शैली
  • सामाजिक रीति रिवाज

आदि से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते है.

General studies 4

इसमें Ethics पेपर से सवाल पूछे जाते है जो की 250 नंबर का होता है.

Optional Paper – Paper 1 और Paper 2

इसमें भी 250-250 नंबर के होते है और इसका टाइम भी 3-3 घंटे का होता है इसके टोटल 29 सब्जेक्ट्स होते है जिसमे Candidate को कोई 1 सब्जेक्ट चूज करना होता है और उसी में से प्रश्न पूछे जाते है.

कलेक्टर का इंटरव्यू कैसा होता है?

ये 250 नंबर का होता है जिसमे आपके बारे में आपके पढ़ाई के बारे में आदि किसी भी बारे में प्रश्न पूछे जा सकते है इंटरव्यू क्लियर करने के बाद Candidate को लाल बहादुर शाश्त्री (National Academy of Administration) में ट्रेनिंग के लिए भेज दिया जाता है फिर ट्रेनिंग कम्पलीट करने के बाद Candidate को किसी भी जिले में पोस्टिंग कर दी जाती है.

कलेक्टर के लिए अप्लाई कैसे करें?

इसके लिए आपको https://upsconline.nic.in/ इस साईट पर जाना है यहाँ पर आपको सभी लेटेस्ट Vacancy देखने को मिल जाएँगी जिन पर क्लिक करके आप उनके बारे में पढ़ सकते है और अप्लाई भी कर सकते है.

पढ़िए वो मस्जिद जहां सबसे पहले हुई थी लाउडस्पीकर से अजान

maa Sharda temple maihar :जानिए मैहर के मां शारदा मंदिर में सबसे पहले पूजा कौन और कैसे करता है

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password