Heart Burn : सीने की जलन कहीं गंभीर बीमारी के तो नहीं है संकेत!

Heart Burn : सीने की जलन कहीं गंभीर बीमारी के तो नहीं है संकेत!

heart burn

नई दिल्ली। आज कल आपने देखा होगा Heart Burn लोगों को सीने में जलन की समस्या आम बात हो गई है। लोग इसे अक्सर एसिडिटी की समस्या से जोड़कर देखते हैं। सीनें की ठीक बीचोंबीच होने वाली तेज जलन को हार्टबर्न का नाम दिया गया है। विशेषज्ञों की मानें तो ये जलन किसी गंभीर बीमारी का भी संकेत हो सकती है। वैसे आम तौर पर प्रेग्नेंसी, गेस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स डिसीज (GERD) या फिर एंटी-इनफ्लेमेटरी ड्रग्स के कारण हो सकता है। इस संबंध में एक स्टडी की गई है। जिसमें दावा किया गया ​है कि हार्टबर्न की समस्या कैंसर और हार्ट अटैक होने का संकेत हो सकती है। अगर आप भी इससे पीड़ित हैं तो बिना देरी किए तुरंत अपनी चिकित्सक से संपर्क करें।

क्यों हो सकते हैं कैंसर के लक्षण
पेट के कैंसर को हार्टबर्न से जोड़कर देखने का कारण है। जब पेट की आंत से बहने वाला एडिट टिशू को डैमेज करता है। जिसके चलते जलन की समस्या होने लगती है। विशेषज्ञों की मानें तो हार्टबर्न के कारणों को समय रहते पता कर लेना चाहिए। ये डाइजेशन सिस्टम में होने वाली प्रि—कैंसर डिसीज हो सकती है। जिसे अनदेखा करना आपके लिए भारी पड़ सकता है।

क्या है हायटस हर्निया-

यह समस्या सामान्य रूप से 50 वर्ष की उम्र के बाद लोगों को घेरती है। जब कमजोरी के कारण स्टामक का एक पार्ट चेस्ट के निचले हिस्से को ऊपर की ओर धकेलता है। तब यह स्थिति बनती है। इस स्थिति को हायटस हर्निया कहा जाता है। सीने में लगातार जलन बढ़ने पर इसका इलाज जरूर कराएं। गंभीर लक्षण होने पर ही इलाज की जरूरत पड़ती है। सीने में जलन के दौरान जांच किए जाने पर ही इसे टेस्ट करने पर ही पहचाना जा सकता है।

पेप्टिक अल्सर डिसीज-

अगर आपको जलन की समस्या लगातार बनी हुई है। तो इसे इग्नोर न करें। जबकि पेप्टिक अल्सर डिसीज से जूझ रहे लोग इसको इग्नोर करने की गलती बिल्कुल भी न करें। हार्टबर्न और पेप्टिक अल्सर डिसीज के लक्षण लगभग समान हैं।

हार्ट अटैक का भी हो सकता है कारण –
हृदय रोगियों को इन लक्षणों से विशेष रूप से आगाह रहना चाहिए। ये पेशेंट कई बार इसे हार्टबर्न समझकर इग्नोर कर देते हैं। जबकि इन रोगियों को इन अंतर समझना आना चाहिए। जिसके लिए कुछ विशेष लक्षणों को आपको ध्यान रखना होगा। जिसमें चिपचिपी त्वचा, तेज हार्टबीट, दर्द, इनडाइजेशन और जी मिचलाना आदि हृदयाघात के वॉर्निंग साइन माने जाते हैं। जबकि इसके विपरीत सीने में जलन व दर्द, मुंह का स्वाद कड़वा होना, लेटने पर दर्द बढ़ना, चटपटा खाने के बाद गले तक जलन बढ़ने को हार्टबर्न के संकेत माने जाते हैं।

इन लक्षणों के दिखते ही तुरंत करें डॉक्टर से संपर्क —

— सीने में जलन के लक्षणों का गंभीर होना या ऐसा लगातार होना
निगलने में कठिनाई या दर्द महसूस करना।
— अगर आपको कई घंटों तक लगातार सीने में जलन रहती हो।
— जलन से उल्टी वोमेटिंग हो जाती हो।
— अचानक से वेट लॉस होना।
— लगातार दो सप्ताह तक हार्टबर्न की शिकायत रहने पर दवाई लेना।
— गले का बैठ जाना और घबराहट बनी रहना।

नोट : इस लेख में दी गई सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं। बंसल न्यूज इसकी पुष्टि नहीं करता। इस पर अमल करने से पहले विशेषज्ञों की सलाह लें।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password