Gwalior Child Kidnapping Case : बेटे के अपहरण आरोप से दुखी मां की खुदखुशी, मुंहबोले भाई ने किया था बच्चे का अपहरण

Gwalior Child Kidnapping Case : बेटे के अपहरण आरोप से दुखी मां की खुदखुशी, मुंहबोले भाई ने किया था बच्चे का अपहरण

suicide case

ग्वालियर। जिले में एक ऐसा मामला जिसे सुनकर आप हैरान रह जाएंगे। मामला ग्वालियर Gwalior Child Kidnapping Case  से है जहां एक महिला पर अपने ही बेटे के अपहरण के आरोप लगे। आरोप लगने से महिला इतना आहत हो गई कि उसने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। दरअसल प्रियंका कुशवाह के 9 साल के बेटे का तीन लोगों ने अपहरण कर लिया था और जब पुलिस ने इस मामले का खुलासा किया और आरोपियों को गिरफ्तार किया तो उनमें से एक आरोपी ने बयान दिया कि प्रियंका के कहने पर ही उसने बच्चे को अगवा किया था।

बच्चे की मां के मायके का पड़ोसी

हालांकि पुलिस ने जांच की लेकिन इसमें कोई दम नहीं निकला, लेकिन अपने बच्चे के अपहरण के आरोप में प्रियंका काफी दुखी थी। लिहाजा बुधवार सुबह उसने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। प्रियंका की सास के मुताबिक मंगलवार को वो पुलिस को भी बयान देने गई थी, आरोपियों में से एक प्रियंका का मुंहबोला भाई था जिसने अपहरण के एवज में पांच लाख फिरौती की मांग की थी। बताया जा रहा है कि इनमें से एक अपहरणकर्ता ने बयान दिया था कि मां के कहने पर बच्चे को उठाया गया। आरोप लगाने वाला बदमाश बच्चे की मां के मायके का पड़ोसी है।

ये है मामला
दो दिन पहले सोमवार को जनकगंज थानाक्षेत्र स्थित हारकोटा सीर निवासी जितेन्द्र सिंह कुशवाह उर्फ जीतू का 9 वर्षीय बेटा कृष सोमवार दोपहर 3 बजे कोल्डड्रिंक लेने के लिए निकला था। इसके बाद वह घर ही नहीं लौटा। इसके बाद शाम को 7 बजे जब परिवार वाले जनकगंज थाना शिकायत करने जा रहे थे तभी छात्र के पिता को कॉल आया। कॉल करने वाले ने सीधे कहा कि अपने इकलौते बेटे को जिंदा देखना चाहता है तो 5 लाख रुपए इंतजाम कर लो।

जितेन्द्र फॉलवर डेकोरेशन का काम करते हैं। जितेन्द्र ने पुलिस का सूचना दी। पुलिस ने कार्रवाई कर 6 घंटे में बच्चे को मुक्त कराने के बाद अपहरणकर्ता मोहन कुशवाह उर्फ मोनू, 60 वर्षीय किशन पाल और दामोदर कुशवाह को हिरासत में लिया है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password