Green Fennel Benefits : क्या आपको पता है, कब खाना चाहिए सौंफ, इस समय सेवन करने से होगा फायदा

भोपाल। अगर आप भी Green Fennel Benefitsसौंफ का सेवन करते हैं तो यह खबर आपके लिए है। सौंफ एक ऐसी चीज है जिसे लगभग हर कोई खाना पसंद करता है। ये तो सभी को पता है कि सौंफ खाने से शरीर को कई प्रकार के फायदे होते हैंं लेकिन क्या आपको पता है इसका सही सेवन आपको कैंसर जैसी घातक बीमारियों से भी बचाता है। साथ ही साथ आपका ब्लड प्रेशर को भी नियंत्रित करता है।

सौंफ को बड़ों के साथ—साथ बच्चों को भी पसंद होता ही। खाने के बाद कई घरों में हरी सौंफ का सेवन किया जाता है। खाने के बाद सौंफ खाने से खाना पचने में आसानी होती है। ऐसा माना जाता है। साथ ही यह रिफ्रेशमेंट के लिए भी काफी अच्छा होता है। स्वास्थ्य की दृष्टि से इसके कई फायदे हो सकते हैं। विशेषज्ञों की मानें तो सौंफ के नियमित रूप से सेवन से पाचन क्रिया तो ठीक होती ही है साथ ही ये कैंसर जैसे रोगों में भी कारगार साबित हो सकती है।

इन सब चीजों के अलावा सबसे अधिक ध्यान रखने योग्य बात यह है कि इसे कब और कैसे खाना चाहिए। इस बात को विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है। आइए हम आपको बताते हैं कैसे।

इन गुणों से भरपूर है सौंफ (Green Fennel Nutrient ) —
हरी सौंफ में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं। जैसे- विटामिन सी, विटामिन ई, विटामिन के, जिंक, पोटैशियम, मैग्नीशियम, सेलेनियम, आयरन, फाइबर जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं। यह सभी पोषक तत्व स्वास्थ्य के लिए काफी फायदंमेद हो सकते हैं। वजन कम करने से लेकर पाचन को दुरुस्त करने में सौंफ आपकी मदद कर सकता है।

कब खाना चाहिए?
विशेषज्ञों की मानें तो वैसे तो सौंफ का सेवन किसी भी वक्त किया जा सकता है। पर अगर आप पाचन संबंधी विकारों को दूर करना चाहते हैं, तो खाने के बाद सौंफ विशेष रूप से खाना चाहिए। अगर आप मुंह के दुर्गंध की समस्या से परेशान हैं तो रात में सोने से पहले 1 चम्मच सौंफ का सेवन जरूर लें।

हरी सौंफ के फायदे ( Benefits of Green Fennel in Hindi) —

1. सांसों को करे तरोताजा —
आपको बता दें हरी सौंफ में एक खास तरह का एसेंशियल ऑयल पाया जाता है जो हमारे शरीर के लिए एंटीबैक्टीरियल गुण का काम करता है। यह जीवाणुरोधी गुण सांसों को फ्रेश है। इसका मीठा स्वाद लार के स्त्राव को बढ़ाता है। इसका फायदा ये होता है कि हानिकारक बैक्टीरिया नष्ट हो जाते हैं। एक्सपर्ट की मानें तो का कहना है कि अगर आप अपनी सांसों को तरोताजा करना चाहते हैं, तो नियमित रूप से खाने के बाद 5 से 10 बार हरी सौंफ का सेवन करें।

2 — पाचन रहता है सही —
हरी सौफ में मौजूद एसेंशियल ऑयल पाचक रसों और एंजाइमों के स्त्राव को बढ़ाने में आपकी मदद करता है। जो पाचन सही करने में कारगार साबित होता है। इसमें मौजूद मैथनोल (anethole), फेनचोन (fenchone) और एस्ट्रैगोल (estragole) जैसे एंटीस्पास्मोडिक (antispasmodic) और एंटी-इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory) गुण कब्ज, अपच और सूजन से जुड़ी परेशानी को दूर करते हैं। इसमें मौजूद फाइबर पाचन के लिए फायदेमंद होता है।

3. पोटेशियम ब्लड प्रेशर को करेगा कंट्रोल —
हरी सौंफ के बीज में पाया जाने वाला पोटैशियम भरपूर आपकी नसों में फ्लूड के रेगुलेट करके बढ़ाता है। जो आपके शरीर में हार्ट रेट और ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में काफी मददगार साबित होता है। एक रिसर्च में ये बात सामने आई है कि हरी सौंफ का बीज लार (saliva) में नाइट्राइट (Nitrite) के स्तर को बढ़ाता है। यह नाइट्राइट प्राकृतिक तत्व होनेे के कारण ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करता है।

4. फाइटोन्यूट्रिएंट्स होता है फायदेमंद —
हरी सौंफ में फाइटोन्यूट्रिएंट्स (phytonutrients) की उच्च मात्रा होती है, जो साइनस की समस्याओं को दूर करने में आपकी मदद करती है। नियमित रूप से इस छोटे से बीज का सेवन करने से ब्रोन्कियल को आराम मिलता है, जो अस्थमा और ब्रोंकाइटिस के लक्षणों को कम करने में आपकी मदद कर सकता है।

5. एनेथोल स्तनपान में होता है सहायक —
हरी सौंफ में पाया जाने वाला एनेथोल (Anethole) ब्रेस्ट मिल्क के स्त्राव को बढ़ाने में मददगार साबित होता है। होता यू हैं कि हरी सौंफ में पाया जाने वाला एनेथोल (Anethole) गैलेक्टागॉग्स (galactagogues) को उत्तेजित करता है। जो ब्रेस्ट मिल्क के स्त्राव को बढ़ाने में सहायक होता है।

6. ब्लड को करता है साफ —
ब्लड को साफ करने में हरी सौंफ आपके लिए मददगार हो सकते हैं। इसमें मौजूद तेल और फाइबर आपके रक्त को शुद्ध करने में असरदार होते हैं। साथ ही यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में आपकी मदद करते हैं।

7. फ्री-रेडिकल्स के प्रभाव को कम करता बचाता है कैंसर से —

हरी सौँफ के नियमित रूप से सेवन करने से कैंसर जैसी गंभीर परेशानी से बचा जा सकता है। कई रिसर्च में इस बात का खुलासा हुआ है कि हरी सौंफ में शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं, जो फ्री-रेडिकल्स के प्रभावों को कम कर सकते हैं। साथ ही यह ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मददगार हो सकते हैं। ऐसे में हरी सौंफ कैंसर के जोखिमों को कम करने में आपकी मदद कर सकता है।

8. आंखों की रोशनी बढ़ाने में है सहायक —
आंखों की रोशनी को बढ़ाने में हरी सौंफ काफी फायदेमंद हो सकती है। दरअसल, इसमें पाया जाने वाला विटामिन ए और एसेंशियल विटामिन आंखों के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। हरी सौंफ के अर्क का सेवन करने से ग्लूकोमा जैसी परेशानी को कम किया जा सकता है।

9. वजन घटाने में असरदार —
फाइबर से भरपूर सौंफ वजन घटाने में मदद कर सकता है। ये फाइबर बार-बार भूख लगने की परेशानी को कम करता है। साथ ही मेटाबॉलिज्म रेट को बढ़ाता है, जिससे आपके शरीर का वजन संतुलित रह सकता है। नियमित रूप से हरी सौंफ का सेलन करने से काफी हद तक वजन कम कर सकते हैं। हालांकि, सौंफ खाने के साथ आपको नियमित रूप से एक्सरसाइज और सही डाइट की आवश्यकता होती है।

10. गैस की परेशानी को करे दूर —
हरी सौंफ का सेवन करने से पाचन दुरुस्त रहता है। इसमें मौजूद एंटीमाइक्रोबियल गुण गैस की परेशानी को कम करने में मददगार होती है। अगर आपको हमेशा गैस की समस्या रहती है, तो खाने के बाद 1 चम्मच हरी सौंफ का सेवन जरूर करें।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password