Goat Milk Benefits in Dengue : क्या वाकई बकरी के दूध में छिपा है डेंगू का इलाज, डेंगू के बढ़ते ही बढ़ी डिमांड

dengue

नई दिल्ली। कोरोना का कहर Goat Milk Benefits in Dengue खत्म हुआ नहीं है इसी बीच डेंगू भी अपने पैर पसारने लगा है। हर शहर में इसके केस लगातार बढ़ रहे हैं। प्रशासन द्वारा भी इसकी रोकथाम के लिए बचाव किए जा रहे हैं। ऐसे में इसके इलाज के लिए बकरी के दूध का इस्तेमाल बताया जा रहा है। आम तौर पर बिकने वाली 50 से 60 रूपए लीटर की अपेक्षा इसके दूध की कीमत भी काफी अधिक हो गई हैं। आइए जानने की कोशिश करते हैं कि इस बकरी के दूध में ऐसा क्या पाया जाता है जो इसे अधिक उपयोगी बना देता है।

डेंगू के केस बढ़ने पर बकरी के दूध की डिमांड भी बढ़ जाती है। यही स्थिति एक बार फिर बन रही है। लोग डेंगू के इलाज के लिए बकरी का दूध पी रहे हैं। बकरी के दूध की मांग बढ़ने के साथ—साथ इसके दाम भी बढ़ने लगे हैं। कई स्थानों पर तो बकरी का दूध 1500 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से बाजार में बिक रहा है।

आखिर ऐसा क्या होता है इसके दूध में
ये कोई नई बात नहीं है जब बकरी के दूध के दामों Goat Milk Benefits in Dengue में इजाफा हुआ है। डेंगू के समय बकरी के दूध के दाम अक्सर बढ़ जाते है। आइए हम आपको बताते हैं इसमें क्या होता है, जिसकी वजह से बकरी के दूध की डिमांड बढ़ रही है। साथ ही जानते हैं आखिर क्यों डेंगू में बकरी का दूध पीने की सलाह दी जाती है।

जानते हैं इससे जुड़ी हर एक बात…

इस कारण बढ़ जाती है मांग
बकरी के दूध में पाया जाने वाला फैट, प्रोटीन, लैक्टोज, मिनरल और विटामिन इसे विशेष बनाता है। इसके कारण आपकी हेल्थ के लिए काफी फायदेमंद होता है। डेयरी प्रोडक्ट में पाए जाने वाले अवयवों के साथ ही बकरी के दूध में कुछ लिपिड और कई तरह के एसिड पाए जाते हैं जिससे हमारे शरीर के पाचन में सहायता ​मिलती है। साथ ही इसमें कुछ ऐसे तत्व भी पाए जाते हैं तो हमें रोगों से लड़ने के लिए ताकत देते हैं। इसमें कैल्शियम, प्रोटीन, पोटैशियम और विटामिन डी भरपूर मात्रा में पाया जाता है। जो शरीर के लिए बहुत लाभकारी होता है।

इसलिए डेंगू में है मददगार
कई रिसर्च में ये बात सामने आई है कि बकरी के दूध में कुछ विशेष चीज होती है ​जिसे सेलेनियम कहते हैं। डेंगू में सबसे बड़ा खतरा सेलेनियम और प्लेटलेट काउंट के कम होने का होता है। प्लेटलेट कम होते ही मरीज को खतरे का रिस्क बढ़ने लगता है। जिसमें बकरी के दूध से मिलने वाला सेलेनियम शरीर को सेलेनियम प्रदान करता है। जो डेंगू से लड़ने में सबसे अधिक कारगार साबित होता है। हालांकि यह तत्व गाय के दूध में भी पाया जाता है। पर इसकी अपेक्षा बकरी के दूध में इसकी मात्रा काफी ज्यादा होती है। इतना ही बकरी का दूध शरीर में अलग—अलग मिनरल को पचाने में भी काफी मददगार साबित होता है।

इसे लेकर है कई भ्रांतियां
जानकारों की मानें तो गाय का दूध भी बकरी के दूध के बराबर ही लगभग समान रूप से पौष्टिकता से भरा होता है। बकरी के दूध से प्लेटलेट्स बढ़ते हैं। अभी तक इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। इस तरह की भ्रांतियां केवल भ्रमित करने के लिए फैलाई जाती हैं। अगर किसी को डेंगू के लक्षण दिखाई देते हैं तो तुरंत योग्य डॉक्टरों से संपर्क करना चाहिए। दवाई नियमित रूप से लेंं। कई लोगों द्वारा नारियल पानी, कीवी और पपीते के पत्ते भी लेने की सलाह दी जा रही है। फिर भी इन सबका पालन करने के पहले अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लेनी चाहिए।

नोट — इस नोट में दी गई सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं। बंसल न्यूज इसकी पुष्टि नहीं करता। किसी भी प्रकार से अमल करने से पहले चिकित्सक की सलाह जरूर लें।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password