FSSAI की रिपोर्ट में बड़ा खुलासा, बाजार में बिकने वाली 9 प्रतिशत से ज्यादा सब्जियों में जहर -

FSSAI की रिपोर्ट में बड़ा खुलासा, बाजार में बिकने वाली 9 प्रतिशत से ज्यादा सब्जियों में जहर

नई दिल्ली: फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी (FSSAI) की नई रिपोर्ट में बहुत ही चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। यह रिपोर्ट हर परिवार के लिए जानना बहुत जरुरी है, क्योंकि हर परिवार सब्जियों का हर दिन सेवन करता है और हम सब्जियों को खाते हैं जिससे हमारे शरीर को स्वास्थ्य और पोषक तत्व मिल सके। लेकिन FSSAI की रिपोर्ट के मुताबिक हम इस समय जहरीली सब्जियों का सेवन कर रहे हैं, जोकि हमारे लिए काफी नुकसानदायक है।

दरअसल, फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी की देशव्यापी जांच में पता चला है कि बाजार में बिकने वाली 9 प्रतिशत से ज्यादा सब्जियां खाने के योग्य नहीं हैं। क्योंकि इन सब्जियों में लेड और कैडमियम जैसे हानिकारक हेवी मेटल्स की मात्रा तय सीमा से 2 से 3 गुना ज्यादा पाई गई है। इनमें सबसे बुरी स्थिति मध्य प्रदेश की है क्योंकि यहां उगाई और बेचे जानी वाली 25 प्रतिशत सब्जियां जांच में फेल हो गई हैं।

15 प्रतिशत सब्जियां पाई गई जहरीली

दूषित सब्जियों के मामले में दूसरे नंबर पर छत्तीसगढ़ है, यहां 13 प्रतिशत सब्जियों में हानिकारक तत्व पाए गए हैं। इसके बाद बिहार, चंडीगढ़, महाराष्ट्र, राजस्थान, झारखंड, पंजाब और दिल्ली का नंबर आता है। इस स्टडी के दौरान पूरे देश को पांच जोन में बांटा गया था, इनमें से सिर्फ साउथ जोन से लिए गए सभी नमूने जांच में पास हुए हैं। जबकि मध्य, पूर्वी, पश्चिमी और उत्तरी जोन में 5 से लेकर 15 प्रतिशत तक सब्जियां जहरीली पाई गई हैं।

3 हजार 300 से ज्यादा सैंपल्स में फेल हुए 306 सैंपल्स

फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी द्वारा की गई इस स्टडी के दौरान देशभर से पत्ते वाली, फल वाली और जमीन के नीचे उगने वाली सब्जियों के 3 हजार 300 से ज्यादा सैंपल्स लिए गए थे। इनमें से 306 यानी लगभग 9 प्रतिशत सैंपल्स किसी न किसी पैमाने पर फेल हो गए, जो 306 सैंपल्स फेल हुए हैं। उनमें से 260 में लेड की मात्रा तय सीमा से बहुत ज्यादा पाई गई है। पत्ते वाली सब्जियों को छोड़ दिया जाए तो बाकी सब्जियों में लेड की मात्रा 100 माइक्रोग्राम प्रति किलो से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password