कोरोना से बचाव और जनजीवन को सामान्य बनाने के लिए नई गाइडलाइन पर दें ध्यान: CM

कोरोना से बचाव और जनजीवन को सामान्य बनाने के लिए नई गाइडलाइन पर दें ध्यान: CM

भोपाल. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि शहरी क्षेत्रों में कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए कोविड से बचाव के लिए आवश्यक उचित व्यवहार का पालन और उसका प्रचार-प्रसार करना आवश्यक है। इसके लिए सामुदायिक भागीदारी और जवाबदेही सुनिश्चित करनी होगी। लॉकडाउन खुलने और जीवन सामान्य होने के साथ-साथ कोविड का प्रसार संभावित है। इससे बचाव के लिए पॉजीटिव और संभावित रोगी केन्द्रित रणनीति पर कार्य करना आवश्यक है।

हर जिले में स्थापित होंगे कमांड एवं कंट्रोल सेंटर

मुख्यमंत्री ने कहा कि अब पॉजीटिव रोगी के द्वारा उसके उपचार में सहयोग और कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग में रोगी और उसके परिवार की सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित की जाएगी। पॉजीटिव रोगी को पूरी जानकारी लिखित में उपलब्ध कराने के लिए ब्राउशर प्रदान किया जाएगा। बिना लक्षण वाले अथवा मंद लक्षण वाले पॉजीटिव रोगियों के लिए होम आइसोलेशन को प्रोत्साहित किया जाएगा। इन रोगियों की बेहतर मॉनीटरिंग के लिए जिला स्तर पर कमांड एवं कंट्रोल सेंटर स्थापित किया जाएगा। कोरोना से बचाव के लिए सतर्क रहने के उद्देश्य से पल्स ऑक्सीमीटर, थर्मामीटर के उपयोग और सार्थक लाइट एप डाउनलोड करने को प्रोत्साहित किया जाएगा।

वीडियो कॉल द्वारा होगी मॉनीटरिंग

होम आइसोलेशन मरीजों से सेंटर में तैनात डॉक्टर दिन में दो बार आवश्यक रूप से वीडियो कॉल कर स्वास्थ्य की जानकारी लेंगे। इन केन्द्रों पर एम्बुलेंस अनिवार्यत: रहेगी। किसी भी रोगी का स्वास्थ्य बिगड़ने पर उसे तत्काल अस्पताल शिफ्ट किया जाएगा।

फीवर क्लीनिक पर लिए जाएंगे सेम्पल

संभावित व्यक्तियों के सेम्पल संग्रहण के लिए फीवर क्लीनिक को प्राथमिक स्त्रोत के रूप में विकसित किया जाएगा। अब घर-घर जाकर सेम्पल संग्रहण की प्रक्रिया बंद होगी। फीवर क्लीनिक पर जांच तथा सलाह की सभी व्यवस्थाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।

कोरोना प्रोटोकॉल के साथ मनेगा दुर्गा उत्सव

मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन-4 के प्रावधान अनुसार दुर्गा उत्सव आयोजन में अधिकतम एक सौ व्यक्तियों की उपस्थिति की स्वीकृति होगी, परंतु कोरोना से बचाव की सभी सावधानियों जैसे सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क तथा सेनेटाइजर का उपयोग अनिवार्यता: सुनिश्चित करना होगा। दुर्गा विसर्जन के संबंध में समयानुसार गाइड लाइन जारी की जाएगी।

निजी चिकित्सालय निर्धारित दर पर करेंगे इलाज

कोविड-19 के उपचार के लिए निजी चिकित्सा संस्थानों को प्रोत्साहित किया जाएगा। निजी चिकित्सालयों के द्वारा कोविड-19 मरीजों का इलाज 29 फरवरी 2020 अथवा उसके पूर्व अधिसूचित रेट लिस्ट अनुसार ही किया जाएगा। किसी भी स्थिति में अस्पताल इस दर में 40 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि नहीं कर सकेंगे।

शासकीय स्वास्थ्य संस्थानों में होगा क्षमता संवर्धन

कोविड-19 की आगामी महीनों में संभावित स्थिति को देखते हुए शासकीय स्वास्थ्य संस्थाओं में उपयुक्त बेड, ऑक्सीजन आपूर्ति, उपकरण तथा प्रबंधन में निरंतर क्षमता संवर्धन का कार्य किया जाएगा। इसके लिए प्रत्येक जिले का केपेसिटी एडीशन प्लान बनाकर जिला कलेक्टर्स को उपलब्ध कराया गया है। स्वास्थ्य संस्थान कोविड रोगियों के चिकित्सकीय प्रबंधन से संबंधित अपने अनुभव तथा प्रशिक्षण संबंधी जानकारी परस्पर साझा करेंगे। रोगियों की सुविधा के लिए हेल्प डेस्क स्थापित किए जाएंगे।

कोमोर्बिड रोगियों और 60 वर्ष से अधिक आयु के मरीजों पर विशेष ध्यान

कोविड-19 के संभावित या पॉजीटिव ऐसे रोगी जो अन्य गंभीर बीमारियों से ग्रस्त हैं या जिनकी आयु 60 वर्ष से अधिक है, उन्हें विशेष चिकित्सकीय निगरानी में रखा जाएगा।

ग्रामीण क्षेत्रों में संस्थागत क्वारेंटाइन पर रहेगा जोर

मुख्यमंत्री ने ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना को फैलने से रोकने के लिए संस्थागत क्वारेंटाइन और सघन कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग की प्रक्रिया जारी रहेगी।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password