Punjab Politics: पंजाब कांग्रेस में कलह जारी, राहुल ने सुनील जाखड़ और कुछ वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की

नई दिल्ली। (भाषा) कांग्रेस की पंजाब इकाई में कलह को दूर करने के लिए चल रहे प्रयासों के तहत पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सुनील जाखड़ और कुछ अन्य वरिष्ठ नेताओं के साथ मंत्रणा की। दूसरी तरफ, मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह मंगलवार को कांग्रेस की तीन सदस्यीय समिति के साथ मैराथन बैठक करने के बाद बुधवार को पंजाब लौट गए। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने जाखड़ के अलावा पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत बादल और पूर्व पीसीसी अध्यक्ष प्रताप सिंह बाजवा के साथ बैठक की। राहुल गांधी से मुलाकात के बाद जाखड़ ने कहा कि कांग्रेस की राज्य इकाई में कोई झगड़ा नहीं है और मुख्य मुद्दा यह है कि अगले विधानसभा चुनाव में कैसे पार्टी एकजुट होकर उतरे और जीत हासिल करे। उन्होंने संवाददाताओं से यह भी कहा, ‘‘ राहुल जी से मुलाकात के बाद मुझे यह उम्मीद है कि इस मसले का बहुत जल्द हल निकलेगा।

कांग्रेस आलाकमान से मिले बिना अमरिंदर के पंजाब लौटने के सवाल पर जाखड़ ने बताया कि उनके दौरे का एजेंडा समिति से मुलाकात था। प्रदेश अध्यक्ष बदलने की संभावना पर जाखड़ ने कहा, ‘‘मुद्दा प्रदेश अध्यक्ष का नहीं है। मुद्दा यह है कि कांग्रेस कैसे एकजुट होकर चुनाव जीते।’’ उन्होंने यह भी कहा कि सिद्धू को राहुल गांधी के समक्ष पहुंचकर अपनी बात रखनी चाहिए। पंजाब में कुछ विधायकों के रिश्तेदारों को नौकरी देने से जुड़े विवाद पर जाखड़ ने कहा, ‘‘कुछ गलत लोग कैप्टन साहब से ऐसे फैसले करवा रहे हैं। ये जो तथाकथित सलाहकार हैं, वो मुख्यमंत्री के कार्यालय को इस स्थिति में ला रहे हैं।’’ राहुल गांधी पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के इस संकट को हल करने के लिए पिछले कुछ दिनों से राज्य के पार्टी नेताओं से लगातार मुलाकात कर रहे हैं। उन्होंने सोमवार और मंगलवार को भी पंजाब कांग्रेस के कई नेताओं के साथ बैठक की थी। उधर, अमरिंदर सिंह ने मंगलवार को राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के संसद भवन स्थित कक्ष में कांग्रेस की समिति के सदस्यों के साथ लंबी बैठक की। खड़गे इस समिति के प्रमुख हैं।

खड़गे के अलावा कांग्रेस महासचिव और पंजाब प्रभारी हरीश रावत तथा दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जेपी अग्रवाल इस समिति में शामिल हैं। समझा जाता है कि इस बैठक में कलह दूर करने के फार्मूले पर विचार करने के साथ ही आगामी विधानसभा चुनाव में एकजुट होकर उतरने की तैयारी पर चर्चा हुई। गौरतलब है कि इन दिनों सिद्धू मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के खिलाफ जमकर बयानबाजी कर रहे हैं। विधायक परगट सिंह और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कुछ अन्य नेताओं ने भी मुख्यमंत्री के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि पार्टी नेतृत्व अमरिंदर सिंह के चेहरे के साथ चुनाव में उतरने का पक्षधर है, हालांकि साथ ही वह सिद्धू को भी साथ लेकर चलना चाहता है। सूत्रों की मानें तो सिद्धू अब भी सरकार में नेतृत्व परिवर्तन पर जोर दे रहे हैं, लेकिन पार्टी की ओर से उन्हें संगठन में ‘सम्मानजनक स्थान’ की पेशकश के साथ मनाने का प्रयास किया जा रहा है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password