डीएचएफएल मामला: पिरामल एंटरप्राइजेज का दावा, एफडी धारकों के लिये उसकी पेशकश ओकट्री कैपिटल से बेहतर

नयी दिल्ली, नौ जनवरी (भाषा) पिरामल एंटरप्राइजेज ने शनिवार को दावा किया कि डीएचएफएल के लिये उसकी पेशकश 55 हजार से अधिक खुदरा एफडी धारकों के लिये अमेरिका की कंपनी ओकट्री कैपिटल की तुलना में बेहतर है।

ओकट्री ने डीएचएफएल के लिये अंतिम दौर की बोली में पिरामल के जैसी ही पेशकश की है। हालांकि ओकट्री ने दावा किया है कि वह पिरामल के 150 करोड़ रुपये की तुलना में एफडी धारकों को 300 करोड़ रुपये अतिरिक्त देगी।

पिरामल ने एक बयान में कहा, ‘‘ओकट्री द्वारा की गयी पेशकश में भुगतान की संरचना बेहद जटिल है। ओकट्री ने उक्त राशि डीएचएफएल की बीमा अनुषंगी की बिक्री से प्राप्त होने वाले धन से देने की बात की है। डीएचएफएल की बीमा अनुषंगी में पहले ही विदेशी निवेशकों की हिस्सेदारी सर्वाधिक मंजूर सीमा 49 प्रतिशत पर है। चूंकि ओकट्री खुद भी एक विदेशी कंपनी है। ऐसे में उसे बीमा अनुषंगी का स्वामित्व रखने या उसे बेचने दोनों में मुश्किलें आने वाली है।’’

पिरामल ने कहा कि इस तरह ओकट्री के द्वारा एफडी धारकों को भुगतान के लिये की गयी पेशकश बेहद अनिश्चित है।

पिरामल ने कहा कि उसने एफडी धारकों को अग्रिम नकदी से 150 करोड़ रुपये अतिरिक्त देने की पेशकश की है।

भाषा सुमन

सुमन

Share This

0 Comments

Leave a Comment

डीएचएफएल मामला: पिरामल एंटरप्राइजेज का दावा, एफडी धारकों के लिये उसकी पेशकश ओकट्री कैपिटल से बेहतर

नयी दिल्ली, नौ जनवरी (भाषा) पिरामल एंटरप्राइजेज ने शनिवार को दावा किया कि डीएचएफएल के लिये उसकी पेशकश 55 हजार से अधिक खुदरा एफडी धारकों के लिये अमेरिका की कंपनी ओकट्री कैपिटल की तुलना में बेहतर है।

ओकट्री ने डीएचएफएल के लिये अंतिम दौर की बोली में पिरामल के जैसी ही पेशकश की है। हालांकि ओकट्री ने दावा किया है कि वह पिरामल के 150 करोड़ रुपये की तुलना में एफडी धारकों को 300 करोड़ रुपये अतिरिक्त देगी।

पिरामल ने एक बयान में कहा, ‘‘ओकट्री द्वारा की गयी पेशकश में भुगतान की संरचना बेहद जटिल है। ओकट्री ने उक्त राशि डीएचएफएल की बीमा अनुषंगी की बिक्री से प्राप्त होने वाले धन से देने की बात की है। डीएचएफएल की बीमा अनुषंगी में पहले ही विदेशी निवेशकों की हिस्सेदारी सर्वाधिक मंजूर सीमा 49 प्रतिशत पर है। चूंकि ओकट्री खुद भी एक विदेशी कंपनी है। ऐसे में उसे बीमा अनुषंगी का स्वामित्व रखने या उसे बेचने दोनों में मुश्किलें आने वाली है।’’

पिरामल ने कहा कि इस तरह ओकट्री के द्वारा एफडी धारकों को भुगतान के लिये की गयी पेशकश बेहद अनिश्चित है।

पिरामल ने कहा कि उसने एफडी धारकों को अग्रिम नकदी से 150 करोड़ रुपये अतिरिक्त देने की पेशकश की है।

भाषा सुमन

सुमन

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password