Devendra Chaurasia murder case : ​महिला विधायक के पति की जानकारी देने वाले को मिलेगा 50 हजार का इनाम, पुलिस कर रही है तलाश

Devendra Chaurasia murder case

भोपाल। मध्य प्रदेश पुलिस ने हत्या के एक मामले में बसपा विधायक रामबाई सिंह के पति गोविंद सिंह की गिरफ्तारी Devendra Chaurasia murder case में मददगार होने वाली सूचना देने पर इनाम की राशि बढ़ाकर 50 हजार रुपये कर दी है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बृहस्पतिवार को कहा कि इससे पहले पुलिस ने गोविंद सिंह की गिरफ्तारी में मददगार होने वाली सूचना देने पर 30,000 रुपये का इनाम घोषित किया था, जिसे मध्य प्रदेश के पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी ने बुधवार शाम को बढ़ाकर 50,000 कर दिया है।

तीन रिश्तेदारों को बुधवार रात गिरफ्तार कर लिया
रामबाई प्रदेश के दमोह जिले की पथरिया विधानसभा सीट से बसपा की विधायक हैं।एक अन्य पुलिस अधिकारी ने बताया कि पुलिस ने सिंह को संरक्षण देने के आरोप में विधायक रामबाई के तीन रिश्तेदारों को बुधवार रात गिरफ्तार कर लिया।वर्ष 2019 में हुई कांग्रेस नेता देवेंद्र चौरसिया की हत्या के मामले में गोविंद सिंह आरोपी हैं।

50,000 रुपये कर दिया
दमोह के पुलिस अधीक्षक हेमंत चौहान ने बताया, ‘‘आरोपी गोविंद सिंह की गिरफ्तारी पर इनाम को पुलिस महानिदेशक ने बढ़ाकर 50,000 रुपये कर दिया है।’’एक अन्य अधिकारी ने बताया कि गोविंद सिंह पर इनाम घोषित करने के साथ ही विशेष कार्य बल (एसटीएफ) के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक विपिन माहेश्वरी भी उसकी गिरफ्तारी के प्रयासों के क्रम में पिछले कुछ दिनों से दमोह में डेरा डाले हुए हैं।

हत्या का मामला दर्ज किया था
इस बीच, स्थानीय प्रशासन ने बुधवार को दमोह में सागर नाका पर बने विधायक रामबाई के घर में किये गये कथित अतिक्रमण एवं अवैध निर्माण को ढहा दिया।तहसीलदार बबीता राठौड़ ने बताया कि नियमानुसार इस अतिक्रमण को हटाया गया है।हालांकि, रामबाई सिंह ने प्रशासन की इस कार्रवाई को अवैध बताया है।विधायक ने मीडिया से कहा, ‘‘यदि मेरा पति किसी मामले में आरोपी है तो पुलिस को उसकी तलाश करनी चाहिए और मेरे परिवार को मुसीबत में नहीं डालना चाहिए।’’उन्होंने कहा, ‘‘प्रशासन मेरे वैध घर को अवैध बता रही है।’’चौरसिया की मार्च 2019 में कांग्रेस में शामिल होने के बाद दमोह जिले के हटा शहर में हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने इस मामले में गोविंद सिंह और अन्य के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया था।

गौरतलब है कि शीर्ष अदालत ने पिछले सप्ताह कहा था कि इस मामले के तथ्य बताते हैं कि 15 मार्च 2019 को प्राथमिकी दर्ज होने के बावजूद जांच अधिकारियों ने उसकी गिरफ्तारी के लिए कोई कदम नहीं उठाया। प्राथमिकी में चौरसिया के बेटे सोमेश ने आरोप लगाया था कि गोविंद सिंह उनके पिता की हत्या में लिप्त हैं।उच्चतम न्यायालय ने पिछले सप्ताह बसपा विधायक के पति को गिरफ्तार करने में पुलिस के असफल रहने पर कड़ी टिप्पणी की थी और प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) को आरोपी को तत्काल गिरफ्तार करने का निर्देश दिया था। इसके बाद प्रदेश पुलिस ने गोविंद सिंह को पकड़ने के प्रयास तेज कर दिये हैं।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password