राज्य सरकार की केंद्र सरकार से मांग, ‘राम वन गमन पथ’ योजना को मिले मंजूरी

रायपुर: राम वन गमन पथ को लेकर भी राज्य बनाम केंद्र होना वाला है। दरअसल बघेल सरकार राज्य में राम वन गमन पथ को विकसित करने पर जोर दे रही है। लेकिन बीजेपी का आरोप है कि कांग्रेस राम के नाम पर राजनीतिक हित साध रही है। इस विवाद में अब केंद्र सरकार भी आ गई है, केंद्रीय पर्यटन राज्य मंत्री प्रहलाद पटेल रायपुर पहुंचे थे। इस योजना पर क्या विवाद खड़ा होने की संभावना है।

केंद्रीय पर्यटन राज्य मंत्री प्रहलाद पटेल पर्यटन मंत्रालय के अभियान में शामिल होने छत्तीसगढ़ में थे। पर्यटन का ज़िक्र आया तो राम वन गमन पथ का भी ज़िक्र निकला । क्यूंकि भगवान राम के ननिहाल छत्तीसगढ़ में अब तक राम वन गमन के रास्तों पर पर्यटन केंद्र विकसित करने को मंजूरी नहीं मिल सकी है। छत्तीसगढ़ में इसमें ऐसे 9 क्षेत्रों को विकसित करने की योजना है, जहां भगवान राम के कदम पड़े थे। सरकार की मंशा है कि केंद्र सरकार अपनी स्वदेश दर्शन योजना में इसको शामिल करे। मंजूरी के लिए राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से कई बार संपर्क किया है। इस बारे में जब केंद्रीय पर्यटन मंत्री से पूछा गया तो उनका कहना था कि कई राज्यों के मुख्यमंत्री को पत्र लिखा गया है। उसके बाद केंद्रीय टीम जैसा कहेगी फैसला लिया जाएगा।

वहीं राज्य सरकार के पर्यटन मंत्री ताम्रध्वज साहू और संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने केंद्रीय मंत्री से मुलाकात की और केंद्र के राम वन गमन पथ में छत्तीसगढ़ के स्थानों को शामिल करने को लेकर चर्चा की।

दरअसल, राज्य सरकार की मंशा है कि केंद्र के स्वदेश दर्शन योजना में छत्तीसगढ़ को भी शामिल किया जाए। इसीलिए राज्य सरकार ने खुद योजना बनाई और पहले चरण के आठ स्थलों को विकसित करने और उसके बाद राम वन गमन पत के 16 जिलों के बचे हुए 43 स्थलों को विकसित करने की योजना है। सियासी नजरिए से अलग हटकर देखें तो पौराणिक, धार्मिक और ऐतिहासिक मान्यताओं के आधार पर कई ऐसे स्थान मिल जाएंगे, जो आस्था का केंद्र हैं। इसलिए सरकार चाहती है कि धार्मिक आस्था के साथ ये प्रोजेक्ट पर्यटन को भी बढा़वा देना वाला साबित होगा। लेकिन केंद्र कितना महत्व देता हैं, ये आने वाले दिनों में सामने आएगा।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password