Corona Update: कोरोना की रोकथाम के लिए फैसला, अब गांव, नगर और वॉर्डों में बनाए जाएंगे क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप, आदेश जारी

भोपाल। प्रदेश में कोरोना के कहर को रोकने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। अब कोरोना केवल शहरों तक सीमित नहीं रहा। अब कोरोना संक्रमण गावों को भी अपनी चपेट में ले चुका है। अब कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के लिए ब्लॉक, ग्राम और वार्ड संकट प्रबंधन समूह यानि क्रायसिस मैनेजमेंट ग्रुप का गठन किया जाएगा‌। इसको लेकर आदेश भी जारी कर दिए गए हैं। इस जारी आदेश में कहा गया है कि कोविड -19 महामारी के संक्रमण को रोकने की दृष्टि से राज्य सरकार द्वारा अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए गये हैं। जिला स्तर पर प्रभावी नियंत्रण की दृष्टि से जिला संकट प्रबंधन समूह डिस्ट्रिक्ट क्रायसिस मेनेजमेन्ट ग्रुप के गठन के पश्चात निर्णय लिया गया है कि कोविड -19 महामारी के संक्रमण को प्रभावी रूप से रोकने के लिए ब्लॉक स्तरीय, ग्राम स्तरीय एवं नगरीय क्षेत्रों में वॉर्ड स्तरीय संकट प्रबंधन समूहों का गठन किया जाएगा।

विकासखण्ड संकट प्रबंधन समूह ब्लॉक क्राइसिस मैनेजमेन्ट ग्रुप के अध्यक्ष अनुविभागीय अधिकारी ( राजस्व ) होंगे। इस समूह में अनुविभागीय अधिकारी ( पुलिस ), मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जनपद पंचायत, ब्लॉक मेडिकल ऑफीसर, विकासखण्ड मुख्यालय के नगरीय क्षेत्र के आयुक्त के प्रतिनिधि अथवा मुख्य नगर पालिका अधिकारी ( नगर पालिका / नगर पंचायत ), प्रोजेक्ट आफीसर, ( महिला एवं बाल विकास विभाग), सांसद एवं क्षेत्रीय विधायक के द्वारा नियुक्त प्रतिनिधि, कलेक्टर द्वारा नामांकित विकासखण्ड जनप्रतिनिधि और गणमान्य नागरिक, स्वयंसेवी संगठन आदि सदस्य होंगे। ग्राम संकट प्रबंधन समूह ग्राम क्राइसिस मेनेजमेन्ट ग्रुप का गठन प्रत्येक गांव में किया जाएगा।

अधिकारियों को दी जाएगी जिम्मेदारी…
ग्राम संकट प्रबंधन के समूह के अध्यक्ष ग्राम पंचायत की प्रशासनिक समिति के अध्यक्ष होंगे। ग्राम पंचायत के सचिव, जन अभियान परिषद, महिला स्वसहायता समूह, राजनैतिक व सामाजिक कार्यकर्ता, प्रशासनिक समिति के संबंधित ग्राम में निवासरत सदस्य, ग्राम रोजगार सहायक, आशा-आगनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका, ग्राम के कोटवार और पटेल उक्त समूह के सदस्य होंगे। नगरीय क्षेत्रों में वार्ड संकट प्रबंधन समूह वार्ड कायसिस मेनेजमेन्ट ग्रुप का गठन प्रत्येक वॉर्ड में किया जाएगा। इस ग्रुप के अध्यक्ष वार्ड प्रभारी अधिकारी होंगे।

सांसद एवं विधायक के द्वारा नियुक्त प्रतिनिधि, नगर निगम आयुक्त अथवा मुख्य नगर पालिका अधिकारी द्वारा नामांकित जनप्रतिनिधि , सामाजिक संगठन के प्रतिनिधि, वार्ड के प्रतिष्ठित निजी चिकित्सक, स्वयंसेवी संगठन , जन अभियान परिष , राजनैतिक एवं सामाजिक संगठन के कार्यकर्ता तथा महिला स्वसहायता समूह सदस्य होंगे। उक्त समूहों द्वारा ब्लॉक , ग्राम एवं वार्ड स्तर पर कोरोना वायरस संकमण से उत्पन्न आपात स्थिति के नियंत्रण के लिएराज्य सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देर्शों के प्रभावी क्रियान्वयन तथा कोविड -19 महामारी की रोकथाम के लिये सामाजिक सहभागिता सुनिश्चित करने की कार्यवाही की जाएगी।

 

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password