Dec 2021 Festival Calendar : न हो परेशान, यहां पढ़े दिसंबर माह के त्योहार व तिथियां

dec vrat tyohar

नई दिल्ली। कल यानि December 2021 Festival Calendar बुधवार से वर्ष 2021 का आखिरी माह शुरू होने वाला है। साल का आखिरी माह दिसंबर बेहद खास होता है। तापमान में गिरवाट तो आएगी ही साथ ही हिंदू त्योहार के साथ क्रिसमस और नया साल भी मनाया जाएगा। ज्योतिषाचार्य पंडित रामगोविन्द शास्त्री के अनुसार वैसे तो अंग्रेजी केलेंडर के अनुसार ये महीना वर्ष की समाप्ति का है। फिर भी त्योहार के लिहाज से देखें तो इसे अहम माना है। मार्गशीर्ष का हिंदू माह दिसंबर में विवाह पंचमी, दत्तात्रेय जयंती, गीता जयंती आदि शुभ दिनों के लिए खास माना जाता है।

आइए जानते हैं दिसंबर 2021 में पड़ने वाले व्रत और त्योहार के कब है।

प्रदोष व्रत-2 दिसंबर (Pradosh Vrat)—

प्रदोष व्रत में भगवान शिव की पूजा करने से सभी प्रकार के पाप समाप्त हो जाते हैं। मनचाहा जीवन साथी मिलता है। प्रदोष व्रत का शुभ मुहूर्त 02 दिसंबर 2021 सुबह 02.05 मिनट — रात्रि 10.56 मिनट तक

गीता जयंती- 14 दिसंबर (Gita Jayanti) —

हिंदुओं की पवित्र पुस्तक श्रीमद् भगवद गीता, मार्गशीर्ष के महीने में एकादशी तिथि शुक्ल पक्ष को अस्तिव में आई थीं। इस साल गीता की 5158वीं वर्षगांठ मनाई जाएगी।

मार्गशीर्ष पूर्णिमा व्रत- 18 दिसंबर (Margashirsha Purnima Vrat) –

हिन्दू व्रतों में महत्वपूर्ण व्रत पूर्णिमा पर सत्यनारायण भगवान की कथा सुनी जाती है। एक दिन का उपवास भी रखते हैं।

दत्तात्रेय जयंती- 18 दिसंबर (Dattatreya Jayanti) —

मार्गशीर्ष महीने की पूर्णिमा तिथि दत्तात्रेय की जयंती का प्रतीक है। जिन्हें भगवान ब्रह्मा, विष्णु और शिव का अवतार माना जाता है।

अन्नपूर्णा जयंती – 19 दिसंबर (Annapurna Jayanti)- 

मार्गशीर्ष पूर्णिमा के दिन देवी मां के अन्नपूर्णा रूप की पूजा की जाती है। जिसमें विभिन्न दस महाविद्याओं काली, तारा, षोडशी, भुवनेश्वरी, भैरवी, छिन्नमस्ता, धूमावती, बगलामुखी, मातंगी और कमला की भी पूजा की जाती है।

अखुरथ संकष्टी चतुर्थी- 22 दिसंबर (Akhuratha Sankashti Chaturthi) –

अखुरथ संकष्टी चतुर्थी तिथि, कृष्ण पक्ष (चंद्रमा के घटते चरण) पर मनाई जाकी है। इस दिन भक्त व्रत रखके रात में चंद्रमा को देखने के बाद व्रत को खोला जाता है।

सफला एकादशी- 30 दिसंबर (Saphala Ekadashi) —

भगवान विष्णु के भक्त 30 दिसंबर को सफला एकादशी व्रत का पालन करेंगे। उपवास दशमी तिथि पर मध्याह्र भोजन के बाद शुरू होकर सूर्योदय के बाद द्वादशी तिथि पर समाप्त होगा।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password