Debite Transaction Limit Increase : बड़ी खुशखबरी! अब कर पाएंगे बड़ी राशि का ट्रांजेक्शन,RBI ने बढ़ाई डेबिट ट्रांजैक्शन की लिमिट

Debite Transaction Limit Increase : बड़ी खुशखबरी! अब कर पाएंगे बड़ी राशि का ट्रांजेक्शन,RBI ने बढ़ाई डेबिट ट्रांजैक्शन की लिमिट

नई दिल्ली। अगर आप ऑटो Reserve Bank (RBI): डेबिट ट्रांजैक्शन करते हैं तो आपके लिए बड़ी खुशखबरी है। दरअसल RBI ने ऑटो डेबिट ट्रांजैक्शन पर बड़ी राहत देते हुए एक अहम फैसला लिया है। जिसमें रिजर्व बैंक ने OTP बेस्ड रेकरिंग पेमेंट की लिमिट को बढ़ाकर 15000 रुपए कर दिया है। इसका मतलब अब 15 हजार रुपए तक का ऑटो डेबिट बिना OTP के किया जा सकेगा। उससे ऊपर की ऑटो डेबिट ट्रांजैक्शन के लिए OTP अनिवार्य रहेगा। आपको बता दें ऐसे ट्रांजैक्शंस को Recurring transactions कहते हैं।

10 हजार बढ़ाई लिमिट —
आपको बता दें अभी तक OTP बेस्ड रेकरिंग पेमेंट की लिमिट 5 हजार ​थी। जिसे 10 हजार बढ़ा कर अब 15000 कर दिया गया है। इसका ऐलान पिछले दिनों रिजर्व बैंक गवर्नर शक्तिकांत दास ने मॉनिटरी पॉलिसी में भी किया था।

किस ट्रांजैक्शन के लिए होता है e-mandate?
Recurring transactions जैसे कि OTT Subscription जैसी payments के लिए लिमिट को बढ़ाया गया है। आपको बता दें ऑटो डेबिट ट्रांजैक्शन में नियमानुसार 24 घंटे पहले ग्राहक को डेबिट की सूचना देनी होती है। यह नियम अभी भी रहेगा। लेकिन इसमें नया बदलाव ये किया गया है कि अब इसके भुगतान की सीमा 5000 से बढ़ाकर 15000 कर दी गई है।

ऑटो डेबिट का e mandate अक्सर लोगों ने अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड के अलावा UPI interface पर भी लगाया होता है। आपको बता दें RBI ने 1 अक्टूबर 2021 को क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और UPI से रेकरिंग पेमेंट (Auto-debit mandates) के लिए OTP ऑथेंटिकेशन जरूरी किया था। मंथली आधार पर यह ऑटो मोड में काम करता है।

ग्राहकों को कैसे मिलेगा फायदा?
शक्तिकांत दास द्वारा मीडिया को दी गई जानकारी के अनुसार रेकरिंग पेमेंट के लिए बिना OTP की लिमिट 15000 रुपए करने से ग्राहकों को फायदा मिलेगा। रिजर्व बैंक ने पिछले साल इसे ग्राहकों की सुविधा और सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए लागू किया था।

ये होगा फायदा —
रेकरिंग पेमेंट की मदद से मंथली सब्सक्रिप्शन, इंटरनेट रिचार्ज, इंश्योरेंस प्रीमियम जमा करना, एजुकेशन फीस जमा करना जैसे काम करते हैं। इसकी लिमिट को बढ़ाकर 15 हजार करने से ग्राहक थोड़ी बड़ी ट्रांजैक्शन को कर पाएंगे। रिजर्व बैंक के मुताबिक, अभी तक 6.25 करोड़ मैंडेट रजिस्टर की गई है। इसमें 3400 इंटरनेशनल मर्चेंट भी शामिल हैं।

1 अक्टूबर 2021 से लागू था नियम
RBI ने 1 अक्टूबर 2021 को ऑटो डेबिट रूल्स को लागू किया था। पेमेंट वाले दिन से कम से कम 24 घंटे पहले कस्टमर को ऑटो डेबिट को लेकर मैसेज भेजना जरूरी है। अपने मोबाइल पर भीम ऑटो पे सिस्टम सेट करना चाहते हैं तो नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) के बताए निर्देशों का पालन कर सकते हैं। NPCI ने ऑटो पे सिस्टम सेट करने के लिए स्टेप बाई स्टेप तरीके बताए हैं। आप भी इन तरीकों का इस्तेमाल कर अपने मोबाइल पर भीम ऑटो पे सेट कर सकते हैं।

BHIM UPI ऐप में ऑटो पे सेट करने की प्रक्रिया —

BHIM UPI ऐप में लॉगिन करें।
अगले स्टेप में ऑटो डेबिट पर क्लिक करें।
मैंडेट पर क्लिक करें।
नया मैंडेट बनाएं/पिछला मैंडेट चेक करें।
हर महीने, हफ्ते, सालाना या किसी और मोड में पेमेंट को सेट करें।
कंपनी (मर्चेंट) को पेमेंट करना है, उसके लिए ऑटो डेबिट की तारीख सेट करें।
अब Proceed पर क्लिक कर दें।

Gold Testing Tips : सोना असली है या नकली? घर बैठे मिनटों में ऐसे करें पहचान, ये हैं टेस्ट के तरीके

 

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password