COVID-19: क्या खुली हवा में टहलने से भी होता है कोरोना, जान‍िए क्या कहते हैं एक्‍सपर्ट

COVID-19: क्या खुली हवा में टहलने से भी होता है कोरोना, जान‍िए क्या कहते हैं एक्‍सपर्ट

airborne transmission

नई दिल्ली। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने भारत में कोहराम मचा दिया है। पिछले कुछ दिनों से देश में रोजाना लगभग 4 लाख नए मामले सामने आ रहे हैं। साथ ही, जब से हवा में वायरस की खबरें आई हैं, लोग दहशत में हैं। वे छत, आंगन या लॉन में भी टहलने से डर रहे हैं। यही नहीं, वे अपने घर के खिड़की दरवाजे भी बंद करके रह रहे हैं। ऐसे में जानना जरूरी है कि वायरस हवा में कहा है और कहां नहीं।

विशेषज्ञ क्या कहते हैं

संजय गांधी पीजीआइ के हृदय रोग विशेषज्ञ प्रो. सुदीप कुमार कहते हैं कि वायरस हवा में है। लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि वो पार्क, सड़क, आंगन, छत या लॉन की खुली हवा में है। लोग दहशत में न रहें। वायरस वहीं रहता है जहां कोई संक्रमित व्यक्ति छींका या खांसा हो। ऐसे में अगर आपको घर से बाहर जाना पड़ता है तो मास्क का इस्तेमाल करें। वहीं अगर आप छत, बालकनी या लॉन में टहलने से डर रहे हैं तो ये गलत है। आप खुले में आराम से बिना मास्क के टहल सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे कि आप अकेले हो। अगर कोई सा में है तो मास्क लगाकर टहलें।

खिड़की खोलकर सोने से नहीं होता संक्रमण

वहीं अगर आप घर में खिड़की, दरवाजा बंद करके रहते हैं। तो ऐसा न करें। क्योंकि खिड़कियां दरवाजे खुले रखना ही ठीक रहेगा। खिड़की खोलकर सोने में संक्रमण का खतरा नहीं होता। आप संक्रमण से बचने के लिए घर पर ही रहे और इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए पौष्टिक आहार लें। इसके साथ ही आपको कम से कम आधे घंटे तक टहलना चाहिए।

मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर रखें

डॉक्टरों की मानें तो इस समय आप अपने मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर रखें। महामारी के इस दौर में मानसिक तनाव हो सकता है। हो सकता है कि आपको बेचैनी महसूस हो रही हो, आप तनाव महसूस कर रहे हों, परेशान हो रहे हों, दुखी हों, अकेला महसूस कर रहे हों इससे बचने के लिए अपने दोस्तों और परिवार के लोगों के साथ फोन, वीडियो कॉल या फिर इंटरनेट मीडिया के माध्यम से संपर्क में बने रहें। नियमित व्यायाम और खानपान पर ध्यान दें।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password