Covid Centre In MP : अब आर्मी और सेंट्रल इंस्टीट्यूट़्स के अस्पतालों में होगा कोरोना मरीज का इलाज, कलेक्टरों को कोविड सेंटर बनाने की छूट

 

भोपाल। मध्यप्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण को Covid Centre In MP लेकर आज शिवराज सरकार ने बड़ी घोषणा की। उन्होंने कहा कि प्रदेश के 4 बडे़े शहरों भोपाल, इंदौर, ग्वालियर और जबलपुर में 2,000 बेड के कोविड अस्पताल खोले जाएंगे। इसमें स्वयंसेवी संस्थाओं से मदद ली जाएगी। इंदौर के राधा स्वामी सत्संग न्यास जैसा प्रयोग भोपाल, गवालियर, जबलपुर में होगा।

 

परिवारों को काढ़ा बांटा जाएगा
मुख्यमंत्री ने इंदौर के मौजूदा अस्पतालों में भी बेड की संख्या 4,000 से बढ़ाकर 6,000 करने का निर्देश दिया है। प्रदेश सरकार ने गरीबों को 3 महीने तक फ्री राशन देने का भी फैसला किया है साथ ही कहा कि 2 करोड़ परिवारों को काढ़ा बांटा जाएगा। कोरोना की पहली लहर में भी सरकार ने 3 माह का राशन बीपीएल कार्ड धारकों को मुफ्त दिया था और घर-घर काढ़ा भी बांटा गया था। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने यह फैसले कलेक्टर्स के साथ बैठक में लिए।

आर्मी के अफसरों के साथ एक बैठक भी की
मध्यप्रदेश कोरोना के मरीज तेजी से बढ़ते जा रहे है। जिस कारण अस्पताल में बेड कम पड़ रही है। बेड कम पड़ने के कारण अब आर्मी और केंद्रीय संस्थानों के अस्पतालों में कोरोना मरीजों का इलाज हाे सकेगा। CM आज सुबह PM नरेंद्र मोदी से कोरोना संक्रमण की रोकथाम के संबंध में फोन पर चर्चा की। इसके बाद सीएम शिवराज ने आज दोपहर आर्मी के अफसरों के साथ एक बैठक भी की।

 

आर्मी अस्पतालों में मिलेंगे 430 बेड

सीएम शिवराज ने आज दोपहर सुदर्शन कोर कमांडर अतुल्य सोलंकी व बिग्रेडियर आशुतोष शुक्ला के साथ बैठक हुई। आर्मी के अफसरों ने भोपाल, जबलपुर, सागर व ग्वालियर में 430 बेड अस्पतालों व आइसोलेशन सेंटर देने का भरोसा दिया। इसमें से भोपाल में 150, जबलपुर में 100, सागर में 40 और ग्वालियर में 40 बेड की व्यवस्था की बात कही गई।

 

कलेक्टरों को कोविड सेंटर बनाने की छूट
मुख्यमंत्री ने बताया कि केंद्रीय संस्थानों, रेलवे और सुरक्षा संस्थानों सहित अन्य अस्पतालों में कोरोना मरीजों को भर्ती किया जाएगा। इसको लेकर प्रदेश के सभी कलेक्टरों को केंद्रीय संस्थानों के प्रबंधन से बात करने के निर्देश मुख्यमंत्री ने दिए हैं।

रक्षा मंत्री से भी चर्चा हुई

मुख्यमंत्री चौहान ने आज ही केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से भी सेना से सहयोग के प्राप्त करने के संबंध में चर्चा की। मुख्यमंत्री ने कहा आवश्यकता हुई तो सेना द्वारा संचालित इन आइसोलेशन केन्द्रों में मध्यप्रेदश शासन आइसोलेटेड रोगियों के लिए ऑक्सीजन व्यवस्था भी उपलब्ध करवाएगा। भोपाल स्थित आइसोलेशन केंद्र के लिए ऑक्सीजन लाइन भी स्थापित की जा सकती है। इससे गंभीर स्थिति होने पर आइसोलेटेड रोगी को आवश्यक उपचार मिल सकेगा।

पैरामेडिकल स्टाफ भी देंगे
सेना के अधिकारियों ने रोगियों की समुचित देखभाल के लिए पैरामेडिकल स्टाफ उपलब्ध कराने के लिए भी आश्वस्त किया। कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए सेना की ओर से प्रदेश में बिस्तर उपलब्ध करवाने एवं पूर्ण सहयोग के लिए आश्वस्त किया गया। संक्रमण की बढ़ती रफ्तार को देखते हुए आवश्यक प्रबंध हो जाने से आइसोलेशन रोगियों की देखरेख का कार्य हो सकेगा।

सेना पर गर्व है
मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि भारतीय सेना पर हम सभी को गर्व है। संकट के समय में सेना से किए गए अनुरोध का अच्छा रिस्पांस मिला है। यह सच है कि प्रदेश में संक्रमण बढ़ा है। सरकारी प्रयासों का साथ जन- जागरूकता भी बढ़ रही है। आगामी 30 अप्रैल तक मध्यप्रदेश में कोरोना कर्फ्यू लागू है। इसमें जनता भी सहयोग कर रही है।

वरिष्ठ अधिकारी अधिकृत
सेना द्वारा दिए जाने वाले इस सहयोग से संक्रमित रोगियों की बेहतर देखभाल की जा सकेगी। आवश्यक समन्वय के लिए मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव मनीष रस्तोगी और सेना सुदर्शन चक्र भोपाल की ओर से ब्रिगेडियर आशुतोष शुक्ला अधिकृत किए गए हैं।

यह भी युद्ध है
मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि यह भी एक तरह का युद्ध है। हम सभी मिलकर लड़ेंगे और विजय प्राप्त करेंगे। कोर कमांडर सुदर्शन चक्र अतुल्य सोलंकी ने कहा कि मध्यप्रदेश की जनता की समस्या हमारी समस्या है। हम इसके समाधान में सहभागी बनेंगे।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password