कोटा में कोचिंग उद्योग फिर से शुरू होने के लिए तैयार

कोटा (राजस्थान), 15 जनवरी (भाषा) स्कूल एवं शैक्षणिक संस्थानों को कुछ पाबंदियों के साथ फिर से खोलने की राजस्थान सरकार की मंजूरी के बाद कोटा में कोचिंग संस्थान 18 जनवरी से फिर से खुलने के लिए तैयार है। स्कूल एवं कोचिंग संस्थान कोरोना वायरस प्रकोप के कारण लगभग 10 महीने से बंद थे।

हर साल देशभर से आने वाले लगभग 1.50 लाख छात्रों के लिए कोटा शहर में कम से कम 10 बड़े कोचिंग संस्थान एवं 50 अन्य संस्थान हैं। साथ ही इस शहर में लगभग 25,000 पेइंग गेस्ट (पीजी) और 3,000 छात्रावास हैं।

ये संस्थान उन छात्रों को कोचिंग मुहैया कराते हैं जो मेडिकल एवं इंजीनियरिंग कॉलेज की प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी करते हैं।

कोचिंग उद्योग में लगे व्यक्तियों के अनुसार कोटा में कोचिंग व्यवसाय का सालाना कारोबार 3,000 करोड़ रुपये का है और इससे कम से कम पांच लाख लोगों को रोजगार मिलता है।

कोटा जिला प्रशासन ने कोचिंग संस्थानों में कोविड-19 के लिए मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए स्वास्थ्य एवं पुलिस अधिकारियों वाली 11 टीमों का गठन किया है।

कोटा के जिलाधिकारी उज्ज्वल राठौड़ ने शुक्रवार को ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि कोचिंग संस्थानों और स्कूलों में 18 जनवरी से कोरोना वायरस प्रोटोकॉल के अनुपालन के साथ कक्षाएं फिर से शुरू करने के लिए वे पूरी तरह से तैयार हैं और इसकी निगरानी के लिए 11 टीमों का गठन किया गया है।

उन्होंने कहा कि टीम दिशानिर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए हर कोचिंग संस्थानों का दौरा करेंगी।

एसओपी के अनुसार, एक शिक्षण सत्र में छात्रों की कुल संख्या 50 प्रतिशत तक सीमित कर दी गई है। कक्षा में शामिल होने से पहले छात्रों का तापमान जांचा जाएगा। साथ ही हर शिक्षण सत्र के बाद कक्षाओं को सैनिटाइज करना और मास्क पहनना सुनिश्चित करना होगा।

छात्रावास के कमरे में केवल एक छात्र को एक रहने की अनुमति दी जाएगी और प्रत्येक छात्रावास और पेइंग गेस्ट में कोरोना वायरस के संदिग्ध रोगियों के लिए एक अलग पृथकवास स्थान आरक्षित किया जाएगा।

एलेन करियर इंस्टीट्यूट के निदेशक नवीन माहेश्वरी ने कहा कि उन्होंने छात्रों के लिए 31-बिस्तरों वाला एक अस्पताल बनाया है जहां सभी प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल सेवाएं उपलब्ध हैं।

मुंबई से कोटा आए 12वीं कक्षा के छात्र साहिल डोगरा ने कहा कि वह यहां आकर खुश हैं क्योंकि ऑनलाइन कक्षाओं के दौरान पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करना मुश्किल था।

कोचिंग संस्थानों को फिर से खोलने की अनुमति देने के लिए सरकार का आभार व्यक्त करते हुए रिलायबल इंस्टीट्यूट के आयुष गोयल ने कहा कि वे सरकारी दिशानिर्देशों का पालन करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

मोशन एजुकेशन के निदेशक नितिन विजय ने कहा कि वे कक्षाओं को फिर से खोलने के लिए तैयार हैं और दिशानिर्देशों का पालन सुनिश्चित किया गया है।

भाषा अमित देवेंद्र

देवेंद्र

Share This

0 Comments

Leave a Comment

कोटा में कोचिंग उद्योग फिर से शुरू होने के लिए तैयार

कोटा (राजस्थान), 15 जनवरी (भाषा) स्कूल एवं शैक्षणिक संस्थानों को कुछ पाबंदियों के साथ फिर से खोलने की राजस्थान सरकार की मंजूरी के बाद कोटा में कोचिंग संस्थान 18 जनवरी से फिर से खुलने के लिए तैयार है। स्कूल एवं कोचिंग संस्थान कोरोना वायरस प्रकोप के कारण लगभग 10 महीने से बंद थे।

हर साल देशभर से आने वाले लगभग 1.50 लाख छात्रों के लिए कोटा शहर में कम से कम 10 बड़े कोचिंग संस्थान एवं 50 अन्य संस्थान हैं। साथ ही इस शहर में लगभग 25,000 पेइंग गेस्ट (पीजी) और 3,000 छात्रावास हैं।

ये संस्थान उन छात्रों को कोचिंग मुहैया कराते हैं जो मेडिकल एवं इंजीनियरिंग कॉलेज की प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी करते हैं।

कोचिंग उद्योग में लगे व्यक्तियों के अनुसार कोटा में कोचिंग व्यवसाय का सालाना कारोबार 3,000 करोड़ रुपये का है और इससे कम से कम पांच लाख लोगों को रोजगार मिलता है।

कोटा जिला प्रशासन ने कोचिंग संस्थानों में कोविड-19 के लिए मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए स्वास्थ्य एवं पुलिस अधिकारियों वाली 11 टीमों का गठन किया है।

कोटा के जिलाधिकारी उज्ज्वल राठौड़ ने शुक्रवार को ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि कोचिंग संस्थानों और स्कूलों में 18 जनवरी से कोरोना वायरस प्रोटोकॉल के अनुपालन के साथ कक्षाएं फिर से शुरू करने के लिए वे पूरी तरह से तैयार हैं और इसकी निगरानी के लिए 11 टीमों का गठन किया गया है।

उन्होंने कहा कि टीम दिशानिर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए हर कोचिंग संस्थानों का दौरा करेंगी।

एसओपी के अनुसार, एक शिक्षण सत्र में छात्रों की कुल संख्या 50 प्रतिशत तक सीमित कर दी गई है। कक्षा में शामिल होने से पहले छात्रों का तापमान जांचा जाएगा। साथ ही हर शिक्षण सत्र के बाद कक्षाओं को सैनिटाइज करना और मास्क पहनना सुनिश्चित करना होगा।

छात्रावास के कमरे में केवल एक छात्र को एक रहने की अनुमति दी जाएगी और प्रत्येक छात्रावास और पेइंग गेस्ट में कोरोना वायरस के संदिग्ध रोगियों के लिए एक अलग पृथकवास स्थान आरक्षित किया जाएगा।

एलेन करियर इंस्टीट्यूट के निदेशक नवीन माहेश्वरी ने कहा कि उन्होंने छात्रों के लिए 31-बिस्तरों वाला एक अस्पताल बनाया है जहां सभी प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल सेवाएं उपलब्ध हैं।

मुंबई से कोटा आए 12वीं कक्षा के छात्र साहिल डोगरा ने कहा कि वह यहां आकर खुश हैं क्योंकि ऑनलाइन कक्षाओं के दौरान पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करना मुश्किल था।

कोचिंग संस्थानों को फिर से खोलने की अनुमति देने के लिए सरकार का आभार व्यक्त करते हुए रिलायबल इंस्टीट्यूट के आयुष गोयल ने कहा कि वे सरकारी दिशानिर्देशों का पालन करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

मोशन एजुकेशन के निदेशक नितिन विजय ने कहा कि वे कक्षाओं को फिर से खोलने के लिए तैयार हैं और दिशानिर्देशों का पालन सुनिश्चित किया गया है।

भाषा अमित देवेंद्र

देवेंद्र

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password