मुख्यमंत्री शिवराज और डॉ. सत्यकांत त्रिवेदी ने विश्व आत्म हत्या रोकथाम दिवस पर किया पौधरोपण

मुख्यमंत्री शिवराज और डॉ. सत्यकांत त्रिवेदी ने विश्व आत्म हत्या रोकथाम दिवस पर किया पौधरोपण

भोपाल : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विश्व आत्म हत्या रोकथाम दिवस (10 सितम्बर) पर भोपाल के प्रसिद्ध मनोचिकित्सक डॉ. सत्यकांत त्रिवेदी के साथ पौधरोपण किया। डॉ. त्रिवेदी के साथ आईं उनकी माता प्रभा देवी ने मुख्यमंत्री चौहान द्वारा की जा रही सी.एम. राइज स्कूल की पहल से प्रभावित होकर मुख्यमंत्री चौहान को आशीर्वाद स्वरूप पेन भेंट किया। प्रभा देवी शिक्षिका रहीं हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने स्मार्ट सिटी उद्यान में बरगद, नीम, कदम्ब और गुलमोहर के पौधे लगाए। पौधरोपण में दस्ताऩ-ए-उड़ान संस्था के आशुतोष सेंगर, अभिषेक त्रिपाठी, भूपेन्द्र यादव तथा शुभम यादव भी सम्मिलित हुए।

मुख्यमंत्री चौहान ने विश्व आत्म हत्या रोकथाम दिवस के अवसर पर मनोचिकित्सक डॉ. सत्यकांत त्रिवेदी के साथ प्रदेशवासियों को “से यस टू लाइफ” का संदेश दिया। डॉ. त्रिवेदी आत्म हत्या के विरुद्ध “से यस टू लाइफ”अभियान चला रहे है। डॉ. त्रिवेदी का मानना है कि वृक्ष हमें आशावाद सिखाते हैं। स्वभाव में लचीलनेपन की सीख हमें पेड़-पौधों से मिलती है। वे बदलाव के समय का कोई प्रतिरोध नहीं करते, अपितु बिना विरोध किए स्वयं को सर्दी, गर्मी, धूप, वर्षा और पतझड़ के अनुसार बदल लेते हैं। वृक्ष हमें बाहरी संकटों से संघर्ष की सीख भी देते हैं। पौधे से वृक्ष बनाना हमें संघर्ष करना सिखाता है। प्राणवायु और फल देने के बाद भी वृक्ष कभी अपने आप को अधिक श्रेष्ठ और दूसरों को कमतर नहीं मानते हैं, क्योंकि विनम्रता ही वृक्ष का स्वभाव है।

दास्तान-ए-उड़ान संस्था विगत तीन वर्षों से भोपाल, सतना और बीना जिले में पर्यावरण संरक्षण के लिए बड़ी संख्या में पौधे रोपित कर चुकी है। संस्था बेजुबान पक्षियों के लिए सकोरा अभियान भी चलाती है। कोविड महामारी के दौरान संस्था के द्वारा राहत गतिविधियों का संचालन भी गया है।

बरगद का धार्मिक औषधीय व पर्यावरणीय महत्व है। गुलमोहर की सुव्यवस्थित पत्तियों के बीच बड़े-बड़े गुच्छों में खिले फूल इस वृक्ष को अलग ही आकर्षण प्रदान करते हैं। यह वृक्ष औषधीय गुणों से भी समृद्ध है। एंटीबॉयटिक तत्वों से भरपूर नीम को सर्वोच्च औषधि के रूप में जाना जाता है। भारत में हर जगह कदंब का वृक्ष पाया जाता है। कदंब का वृक्ष औषधीय गुणों से भरपूर होता है। एंटीबॉयटिक तत्वों से भरपूर नीम को सर्वोच्च औषधि के रूप में जाना जाता है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password