घायल पत्नी को ठेले पर लेटाकर इधर-उधर भटकता रहा पति, नहीं मिला इलाज -

घायल पत्नी को ठेले पर लेटाकर इधर-उधर भटकता रहा पति, नहीं मिला इलाज

भोपाल। सरकार के द्वारा कई प्रकार की सरकारी योजनाएं चलाई जा रही है जिससे किसी भी मरीज को इलाज के लिए परेशान नहीं होना पड़े,लेकिन उसके बाद भी मध्य प्रदेश के​ छिंदवाड़ा जिले में एक ऐसी तस्वीर सामने आई जिसे देखकर सरकार की योजनाओं की पोल खुल गई है। छिंदवाड़ा जिला अस्पताल  chhindwara district hospital में जहां एक पति अपनी घायल पत्नी का इलाज करवा रहा था,लेकिन बुधवार को जिला अस्पताल से महिला को जबरन डिस्चार्ज कर दिया। महिला का पति डॉक्टरों के हाथ पैर जोड़ता रहा,लेकिन डॉक्टरों को घायल महिला पर भी दया नहीं आई और महिला को जबरन डिस्चार्ज कर ये बोल दिया गया कि अब इनको जबलपुर या नागपुर लेकर जाओ।

ठेले पर पत्नी को लेटाकर इधर-उधर भटकने लगा
पैसों के आभाव से पति इलाज तो नहीं कर सका, लेकिन ठेले पर अपनी घायल पत्नी को लेटाकर इधर-उधर भटकने लगा। मीडिया की नजर जब उसपर पड़ी, तो फौरन जिला अस्पताल प्रबंधन से बात की गई। हालांकि अस्पताल प्रबंधन ने मरीज को फिर से भर्ती करने की बात कही, लेकिन इस घटना से कई सवाल भी उठते हैं। क्योंकि गरीबों के इलाज के लिए ही सरकारी अस्पताल हैं, लेकिन अगर वहां भी इलाज नहीं मिलेगा तो आखिर गरीब कहां जाएगा ।

पत्नी को लिटाकर ठेला खींच रहे पति करण उईके ने बताया कि आठ दिन पहले पोला ग्राउंड के पास एक मैजिक वाहन ने उसकी पत्नी को टक्कर मार दी थी। जिससे उसके दोनों पैरों में चोटें आई थी। इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया था।

भीख मांगकर गुजारा करता है
बुधवार की शाम अस्पताल से यह कहते हुए छुट्टी दे दी गई कि जाओ अब नागपुर-जबलपुर जहां इलाज कराना हो लेकर चले जाओ। करण उईके ने बताया कि वह भीख मांगकर गुजारा करता है। उसका घर द्वार भी नहीं है। ऐसे में घायल पत्नी को लेकर वह कहां जाए यह समझ में नहीं आ रहा है। अस्पताल में बोला कि अभी और रहने दो लेकिन वे नहीं माने और ले जाने के लिए पर्ची थमा दी।

घर से निकाल दिया
करण उईके ने बताया कि सिवनी रोड शक्कर मिल के पास उसका मकान है। जहां उसके बच्चों ने उसे विवाद के चलते घर से निकाल दिया है। पिछले सात-आठ साल से वह बेघर होकर भीख मांग कर गुजारा कर रहे है।

Share This

0 Comments

Leave a Comment

Login

Welcome! Login in to your account

Remember me Lost your password?

Lost Password